साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Wednesday, December 14, 2016

बिखर गया मेरी हथेलियों में..........सीमा 'सदा' सिघल; चर्चामंच 2556


लो कुंडलियां मान, निवेदन करता रविकर

रविकर 
क्षरण छंद में हो रहा, साहित्यिक छलछंद।
किन्तु अभी भी कवि कई, नीति नियम पाबंद।
नीति नियम पाबंद, बंद में भाव कथ्य भर।
शिल्प सुगढ़ लय शुद्ध, मिलाये तुक भी बेह'तर।
लो कुंडलियां मान, निवेदन करता रविकर।
मिला आदि शब्दांश, अंत के दो दो अक्षर।।

सीता ही नहीं इन स्त्रियों पर भी थी रावण की बुरी नज़र

Vineet Verma 

वो लड़की ~ 1

सु-मन (Suman Kapoor) 

कौन सा राज

Asha Saxena 

राजस्थान में डाक विभाग द्वारा आयोजित एम.टी.एस डायरेक्ट रिक्रूटमेंट परीक्षा सकुशल सम्पन्न

Krishna Kumar Yadav 

रवि श्रीवास्तव के व्यंग्य

noreply@blogger.com (संजीव तिवारी) 

राणा सांगा की गलती दोहराते राजनाथ

सुधीर राघव 

कार्टून :- नहीं जाउंगा, नहीं जाउंगा, नहीं जाउंगा



4 comments:

  1. सुन्दर। रविकर अन्दाज की निखरी हुई चर्चा।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा आज की |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  4. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आरती उतार लो, आ गया बसन्त है" (चर्चा अंक-2856)

सुधि पाठकों! आप सबको बसन्तपञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। -- सोमवार की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (र...