Followers

Monday, September 07, 2020

'ख़ुद आज़ाद होकर कर रहा सारे जहां में चहल-क़दमी' (चर्चा अंक 3817)

सादर अभिवादन।
सोमवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।
--
सड़क पर
मिल रहा है
सहमा,
बिखरा-सा आदमी,
जकड़ा है
करोना ने
इंसान को
ख़ुद आज़ाद होकर
कर रहा
सारे जहां में
चहल-क़दमी।
#रवीन्द्र_सिंह_यादव
--
आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित ताज़ा-तरीन रचनाएँ-
--
गीत 
"कुदरत का हर काज सुहाना लगता है" 
 (डॉरूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

सबको अपना आज सुहाना लगता है।
छिपा हुआ हर राज सुहाना लगता है।।
--
उडने को  आकाश पड़ा है,

पुष्पक भी तो पास खड़ा है,
पंछी को परवाज सुहाना लगता है।
छिपा हुआ हर राज सुहाना लगता है।।

--
My Photo
अफ़सोस है दशरथ को,
अयोध्यापति है वह,
पर उसके वश में नहीं है 
नुकसान की भरपाई करना.
--
--
मेरे ऐक्वेरियम की वो नन्हींं फिश... 
little golden fish
मेरे ऐक्वेरियम की वो नन्हींं फिश
देखो जीना हमें है सिखा रही

जब वो आयी तो थोड़ा उदास थी
बहुत प्यारी थी अपने में खास थी
जल्द हिलमिल गयी बदले परिवेश में
हर हालात मन से अपना रही

---

संघर्ष की बल्लरी पर सफलता के पुष्प भी खिले 
समय के इस मोड़ पर वह अँगुली 
आज स्थूल-सी लगी
ज़ुबाँ नहीं आँखें पुकारती-सी लगी 
और मैंने चुप्पी की दीवार गढ़ी उसपर  
ज़िम्मेदारी की फिर एक तस्वीर टाँग दी।
--
बस एक तीर जिगर के पार सा हैं कोई... 

रोज रोज की तकरारो में रब्त रिस जायेंगे,
सर्द रातों में खाँसता हुआ बीमार सा है कोई

सारे दर्द सारे शिकवों से मैं जुदा हुआँ
बस एक तीर जिगर के पार सा हैं कोई
---
कुछ पलकों में बंद चांदनी,
कुछ होंठों में कैद तराने,
मंजिल के गुमनाम भरोसे,
सपनों के लाचार बहाने,
जिनकी जिद के आगे सूरज, मोरपंख से छाया मांगे,
उनके भी दुर्दम्य इरादे, वीणा के स्वर पर ठहरेंगे
निकल पडे़ हैं पांव अभागे, जाने कौन डगर ठहरेंगे
--
आज हमारे पूरे भारतवर्ष में शिक्षक दिवस मनाया जा रहा है आज देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधा कृष्ण जी की जन्म जयंती को संपूर्ण देश भर में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है गुरु शिष्य की परंपरा हमारी संस्कृति का एक महत्वपूर्ण और पवित्र हिस्सा है
--
भाव उमड़ते कभी बिगड़ते
एक नया आकार लिए।
झूठी इस जीवन माला ने
रूप कई साकार किए।
मौन जगत की भाषा की क्या
बेचैनी कोई जाने।
राज कई.....
--
कमल पत्ते-सा गाँव अटा 

अभी दीवाली के दिन आये नहीं । अभी तो ये आते हुए सितम्बर की शाम है बहती हुई हवा में सर्द खुनक दौड़ रही है मन हो रहा है कि एक खादी का दुपट्टा ओढ़ लेंथोड़ा मोटा कपड़ा होता है न खादी के दुपट्टे का |
--
छाई सारी धुंध छटे 

कबसे देखें सूनी आँखें
बँटवारे की लीक हटे
भावों की उर्वर भूमि पर
छाई सारी धुंध छटे
बहे प्रेम तब बरसे करुणा
द्वेष-घृणा पर हो ताला।।
--
चंद शिकवे 
A Sad And Pensive Woman Sitting By The Ocean Deep In Thought Stock Photo,  Picture And Royalty Free Image. Image 19588355.
कभी रूदादे ग़म सुनने को बुलाया होता,
कभी तो दर्द ए दिल फुर्सत से सुनाया होता !
उजाड़े आशियाने अनगिनत परिंदों के,

एक पेड़ मोहोब्बत से लगाया होता !
--
निर्मल स्नेह भर अँजुरी में ... 
SADA
मन की नदी में 
तर्पण किया है पापा भावनाओं से,
भीगा सा मन लिए ...
इस पितृपक्ष 
फिर बैठी हूँ आकर, भोर से ही
छत पर, जहाँ कौए के 
कांव - कांव करते शब्द
--
आज बस यहीं तक
फिर मिलेंगे अगले सोमवार।
#रवीन्द्र_सिंह_यादव
--

16 comments:

  1. बहुत ही सुंदर आज की चर्चा मंच बहुत ही बढ़िया लिंक आपने सम्मिलित की है आज की पोस्ट में और बहुत-बहुत धन्यवाद आपको मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए

    ReplyDelete
  2. बहुत ही सुंदर सराहनीय प्रस्तुति।मेरी रचना को स्थान देने हेतु सादर आभार आदरणीय सर।
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चर्चा. मेरी कविता शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  4. उडने को आकाश पड़ा है,
    पुष्पक भी तो पास खड़ा है,
    पंछी को परवाज सुहाना लगता है।

    वाह अति सुन्दर।

    ReplyDelete
  5. अद्यतन लिंकों के साथ चर्चा की सुन्दर प्रस्तुति।
    आपका आभार आदरणीय रवीन्द्र सिंह रावत जी।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचनाएं ! सार्थक चर्चा ! मेरी रचना को आज के मंच पर स्थान देने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार रवीन्द्र जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  7. कोरोना की पर‍िणत‍ि पर बहुत खूब ल‍िखा रवींद्र जी ...सड़क पर
    मिल रहा है
    सहमा,
    बिखरा-सा आदमी,..वाह

    ReplyDelete
  8. कोरोना ने बहुत कुछ ऐसा भी सिखा दिया, जो आगे जीवन में काम आएगा।
    बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  9. बढ़िया लिंक्स सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  10. समसामयिक सार्थक भूमिका के साथ शानदार चर्चा प्रस्तुति सभी लिंक बेहद उम्दा एवं उत्कृष्ट...
    मेरी रचना को स्थान देने हेतु हृदयतल से धन्यवाद एवं आभार आ.रविन्द्र जी !

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन प्रस्तुति, मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार आदरणीय।

    ReplyDelete
  12. "हम डर रहे हैं कोरोना निडर हो चुका है"बिलकुल सही व्याख्या,सुंदर भूमिका के साथ बेहतरीन लिंकों का चयन,सादर नमन सर

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं 🙏 मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार आदरणीय 🙏🙏 सादर

    ReplyDelete
  14. सुंदर भूमिका के साथ बेहतरीन लिंकों से सजी सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  15. सुन्दर रचनाओं से सजी आकर्षक प्रस्तुति! सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  16. शानदार प्रस्तुति, सामायिक भूमिका आकर्षक सार्थक।
    सभी लिंक चयन बहुत खास ,सभी रचनाकारों को बधाई।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।