Followers

Wednesday, September 30, 2020

"गुलो-बुलबुल का हसीं बाग उजड़ता क्यूं है" (चर्चा अंक-3840)

 मित्रों।
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
--
आज की चर्चा का प्रारम्भ 
तिरछी नजर वाले गोपेश जैसवाल जी की
ग़ज़ल की एक पंक्ति से करता हूँ
-- 
"गुलो-बुलबुल का हसीं बाग  उजड़ता क्यूं है"
--

साथी साथ निभाते रहना

माँगे से मिलता नहीं, कभी प्यार का दान।

छिपा हुआ है प्यार मेंजीवन का विज्ञान।

विरह तभी है जागताजब दिल में हो आग।

विरह-मिलन के मूल मेंहोता है अनुराग।।

होती प्यार-दुलार कीबड़ी अनोखी रीत।

मर्म समझ लो प्यार का, ओ मेरे मनमीत।२।

--

कुर्सी बिन सब सून

 वो जो दिन रात रहा करता था  गुलज़ार कभी

गुलो-बुलबुल का हसीं बाग  उजड़ता क्यूं है

जी-हुज़ूरों से जो यशगान सुना करता था

आज बीबी से फ़क़त ताने ही सुनता क्यूं है

किसी अखबार में फ़ोटो भी नहीं दिखती है

फिर भी मनहूस बिना नागा ये छपता क्यूं है  

--

कुछ जग की बातें : कुछ मन की सौगातें'

बात कुछ यूँ हुई
साहित्यिक दो संस्थाओं ने
एक समय में अलग-अलग
दो अलग-अलग
कार्यक्रम आयोजित किया।
कथा पाठ और उस कथा की समीक्षा,
इंद्री समर्थ श्रोताओं की भी थी परीक्षा।
स्व रचित पद्य आधारित अंताक्षरी,
नई चुनौती थी शब्दों के अग्निहोत्री।
--
हमने स्वयं हस्तलिपि सुन्दर बनी रहे, इसके लिए लगातार अभ्यास किया है. पिछली पोस्ट में आपसे चर्चा भी हुई थी कि पिताजी के लिखे अक्षरों की नक़ल कर-कर के, उनका अभ्यास कर-कर के अपने हस्तलेख को सुधारने का प्रयास किया. यह प्रयास आज तक चल रहा है. बीच में कुछ स्थिति ऐसी बनी जिसके चलते कुछ अक्षरों को लिखने का ढंग बदल गया, लिखने की शैली में कुछ अंतर आ गया इसके बाद भी प्रयास यही है कि अक्षर पिताजी के बनाये हुए अक्षरों जैसे बनें.
--
मुरादाबाद के साहित्यकार ओंकार सिंह ओंकार का गीत उन्हीं की हस्तलिपि में -----
--
ख़त में महकते हुए फूल मज़ार तक पहुँच गए।

अरमानों की अर्थी को ख्वाबों की चिता पर सुलाती है,

ज़िन्दगी कुछ नहीं कर पाती जब मौत बेवक़्त आती है 

--

लता जी के जन्मदिवस पर...

---

भास्कर के स्तंभकार

इतिहास में किसी की सिर्फ स्तुति या खूबियों का ही वर्णन नहीं होता ! इस दस्तावेज में किसी से भी जुडी हर बात का विवरण लिखा जाता है। भावना जी लेखिका के साथ इतिहासकार भी हैं। उनसे आशा की जाएगी कि अपने विषय का स्याह और सफ़ेद दोनों का सम-भाव से, बिना भेद-भाव बरते चित्रण करें। क्या भावना जी फिल्म इंडस्ट्री की असलियत से अनभिज्ञ हैं ! सभी नहीं, पर क्या एक अच्छी-खासी तादाद द्वारा गलत काम नहीं होते ! तो फिर जया बच्चन का स्तुति गान क्यों ! क्यों उनकी भड़ास को क्रांतिकारी कदम का रूप दे दिया गया ! 
--

हम बीमारी में किसी भी पैथी की कोई दवा भी लेते हैं , तो हमारे भीतर की भावना असर करती है। हम जितने ही विश्‍वास के साथ डॉक्‍टर के दिए हुए दवा या सुझाव को ग्रहण करते हैं , हमें उतना ही अधिक फायदा नजर आता है। यहां तक कि यदि डॉक्‍टर पर विश्‍वास हो , तो उसका स्‍पर्श ही रोगी को ठीक करने में समर्थ है। चूंकि एलोपैथी पर हमें पूरा विश्‍वास है , किसी खास शारीरिक मानसिक हालातों में यदि डॉक्‍टर की सलाह न हो , तो हम बच्‍चे को गर्भ में भी आने न देंगे। 
--
सुबह नींद खुली तो सबसे पहले जून ने जन्मदिन की बधाई दी, फिर दिन भर शुभकामनायें मिलती रहीं. फेसबुक, व्हाट्सएप और फोन पर, नैनी और उसके परिवार के बच्चों ने कार्ड्स बनाकर दिए, उसकी सास ने पीले फूलों का एक गुलदस्ता दिया जिसमें चम्पा के भी दो फूल थे तथा . उसकी देवरानी ने एक दिन पहले ही लाल गुलाब का फूल देकर शुभकामना दी थी, कहने लगी सबसे पहले मेरी बधाई मिले इसलिए एक दिन पहले ही दे रही है. छोटी ननद ने एओल का गीत गाकर बधाई दी. अकेले ही टहलने गयी, जून को तीन दिनों के लिए पोर्ट ब्लेयर जाना है, तैयारी में लगे थे.
--
रिश्तों में हो पारदर्शिता अगाध।  उस -
दिव्य स्तर पर काश पहुँच पाए
कभी, अंतरतम का कुहासा
इतना घना कि अपना
बिम्ब भी न देख
पाए कभी।
उस
अदृश्य परिधि में जिस बिंदू से निकले
उसी बिंदू पर पुनः हम लौट आए,
और अधिक, और ज़्यादा
पाने की ख़्वाहिश,
अंदर गढ़ता
रहा
--
अस्पताल के अपने बेड पर वह पीड़ा से छटपटाते हुए कराह रहा था ,
परन्तु उसके आसपास से सब अपने ही दर्द और अपनों की तकलीफों से
 त्रस्त उसको अनदेखा सा करते हड़बड़ी में गुजरते ही जा रहे थे । 
तभी एक युवती ने उसके पास आ संवेदना से उसका माथा सहलाया और 
उसकी पीड़ा उसके नेत्रों और वाणी से बह चली ,"पता नहीं किस पाप का फल भुगत रहा हूँ !
 मेरे साथ तुम भी तो ... अब तो मुझे मुक्ति मिल जाती ।  
युवती ने उसको शांत करने का प्रयास किया ,"बाबा ! ऐसा क्यों कह रहे हो ।
 सब ठीक हो जायेगा ।"
वह फफक पड़ा ,"बेटे के न रहने पर तुम पर शक करना और साथ न देने के पाप 
का ही दण्ड भुगत रहा हूँ मैं ,पर बेटा तुमको किस कर्म का यह फल मिल रहा है
 जो मुझ से बंधी हुई इस नारकीय माहौल में आना पड़ता है ।" 
--
कोई कोई दिन 
होता है ऐसा ..
स्वाद उतरा हुआ सा
फीका ..मन परास्त 
हार मान लेता,
जब काम सधते नहीं 
किसी तरह भी ।

तब ही अकस्मात 
नज़र पड़ी बाहर
रखे गमले पर ।
--
आज के लिए बस इतना ही...! 

15 comments:

  1. आज के चर्चामंच पर रोचक रचनाओं से परिपूर्ण सुंदर संचयन के लिए साधुवाद 🙏

    ReplyDelete
  2. सुंदर चर्चा ! सभी रचनाकारों को बधाई, मुझे भी आज के अंक में शामिल करने हेतु आभार !

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन रचनाओं का संकलन,सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं एवं सादर नमन

    ReplyDelete
  4. मयंक सर एवं मंच के सभी व्यवस्थापक सद्स्यों का हृदय से आभारी हूँ कि चर्चा में मेरी रचना को स्थान दिया...

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद, अनीता जी । चर्चा की बेहतरीन और रोचक रचनाओं के बीच स्थान देने के लिए ।
    बहुत दिनों बाद किसी ने लिखावट का ज़िक्र किया । अच्छा लगा । लता दी और सरोजिनी नायडू जी के बारे में पढ़ कर मधुर स्मृतियों का जमघट लग गया!
    सस्नेह अभिनंदन ।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन रचनाओं का संकलन,सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. हर पहलू को छूती हुई चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. आज सुबह 2 घंटे माथापच्ची करने के बाद भी आज की चर्चा को सुधार नहीं पाया।
    बेड़ा गर्क हो ब्ल़गर का। जो नया प्रारूप दे दिया ब्ल़गर को।
    --
    बिटिया अनीता सैनी का आभारी हूँ।

    ReplyDelete
  10. सुंदर चर्चा ....

    ReplyDelete
  11. विविधताओं से परिपूर्ण सुन्दर प्रस्तुति एवं संकलन, मेरी कृति को सम्मिलित करने हेतु हार्दिक आभार - - नमन सह।

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्दर श्रमसाध्य चर्चा प्रस्तुति...।उम्दा एवं पठनीय रचनाएं।सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete

  13. बढ़िया रचना है भाईसाहब !शास्त्री जी के पास मौक़ा बे -मौक़ा सब मौकों की रचनाएं हैं खुशनसीब हैं ऐसी बीवियां जिन्हें शास्त्री सम ' वो ' मिले।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर संकलन

    ReplyDelete
  15. आदरणीय ,भाई साहब ,
    साहित्यिक मुरादाबाद ब्लॉग पर प्रस्तुत रचना यहां साझा करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत आभार ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।