चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, July 13, 2010

साप्ताहिक काव्य मंच - ८ ( संगीता स्वरुप ) चर्चा मंच - 213

नमस्कार , आज है मंगलवार..और आज मैं लायी हूँ आपके लिए कविताओं से सजा एक पोस्टर ..जी हाँ इस पोस्टर पर सजी हैं इन्द्रधनुषी रंग बिखेरती अनेक कविताएँ .. भीषण गर्मी में जब बादल उमड़ते घुमडते हैं , बिजली चमकती है और बारिश की बूंदें धरती तक आती हैं ..और इसी बीच जब इन्द्रधनुष दिखाई देता है तो सबका मनमयूर नाच उठता है और सब उसका आनंद लेते हैं….तो आप भी इस इन्द्रधनुष का आनंद उठाइए .मैंने पोस्टर को सजाया है कविताओं से और आज चर्चा मंच प्रारंभ कर रही हूँ पोस्टर की कविताओं से…
My Photoमुझे पोस्टर कविताओं की जानकारी नहीं थी…इसके बारे में मुझे पता चला राजकुमार सोनी जी के ब्लॉग    बिगुल »  पर . आप भी जानिए इन कविताओं के बारे में ..हर कविता गहन अर्थ लिए हुए है.. 

पोस्टर कविताएं

बच्चा
बच्चा लट्टू चलाता है
चलाने दो
देखना एक दिन
घुमाकर रख देगा
पृथ्वी को लट्टू की तरह.
मेरा फोटोसूर्यकांत गुप्ता जी के विचार   उमड़त घुमड़त  आते हैं और ज़बरदस्त बारिश कर करके ही जाते हैं…कहीं कहीं बाढ़ भी आ जाती है…देखिये बानगी ज़रा
दाम्पत्य जीवन में दरार, ईश्वर ने कराया ये कैसा करार
हे श्रृष्टि के रचयिता
जगत के आधार
सगुण रूप साकार हो
ना निर्गुण रूप निराकार

मेरा फोटोकुमार मुकुल की कविताऍं
एक अनूठा ब्लॉग है…इस पर पढ़ें एक खूबसूरत कविता --
बेचैन सी एक लड़की जब झांकती है मेरी आंखों में..
बेचैन सी एक लड़की जब झांकती है मेरी आंखों में
वहां पाती है जगत कुएं का
जिसकी तली में होता है जल
जिसमें चक्‍कर काटत हैं मछलियों रंग-बिरंगी


मेरा फोटोनिर्झर'नीर   ज़माने की बात ग़ज़ल में कहते हुए बता रहे हैं कि -

ये पेच-ओ ख़म ज़माने के


कभी सुर्ख़ी थी इस पे भी, ज़र्द जो आज है चेहरा
हर एक कतरा लहू का ज़िस्म से किसने जला डाला !
ये जाति धर्म की बातें ,ये बातें है सियासत की
सियासत की इन्ही बातों ने मुल्कों को जला डाला !
मेरा फोटोअमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी   कुछ औरों की , कुछ अपनी पर  गालियों से भी प्रेरणा ले कर लिख रहे हैं
.. लगे हाथ , 'गालियों की प्रेयकारी भूमिका'


'' गलियों !
आओ -
वहन कर लूंगा तुम्हें .
आखिर तुम भी तो ,
भद्र व्यक्तित्व के स्याह पक्ष की अचूक सच्चाई हो
My Photoराजीव  जी अपने ब्लॉग     GHONSLA  पर लाये हैं एक प्यारी सी कविता      बिटिया  …..

बिटिया,
तू तो
कविता है मेरी.
नाजों पली
तितलियों के पीछे
दौड़ती-भागती
फूलों से लदी
मखमली
परिधान में सजी
नन्ही गुड़िया है मेरी
 My Photoविवेक जैन   सावन   के माध्यम से कैसा कटाक्ष कर रहे हैं..यह जानना है तो पढ़िए उनकी यह कविता -
चलो इस सावन में सभी भीग लो.
अच्छा है वह अल्लाह-राम का नाम ले
नहीं बरसता.
गिरने से पहले बूँदें
हमारी जात नहीं पूछतीं .
होली के रंग जैसे
उसके छींटे सिर्फ चंद लोगों पे नहीं पड़ते.
ना ही वह रंग-भेद करता है
मेरा फोटोLamhon Ka Safar पर पढ़िए जेन्नी शबनम को ..रिश्तों की खोज करते हुए
एक राह और एक प्याली...
में

अभी भी मेरी आँखें
वहीं खड़ी हैं,
वहीं उसी मोड़ पर
जहाँ से हमारे रास्ते
बदलते हैं हमेशा !
उस दिन भी तो
साथ हीं थे हम,
आमने सामने बैठे
कोल्ड कॉफ़ी की दो प्याली


वीणा जी  को पढ़िए      वीणा के सुर   में     तुम नहीं तो....
तुम नहीं
तो ये
बहार, पानी
झरनें, पेड़-पौधे
बेमानी हैं
My Photoकुसुम ठाकुर अपनी  Kusum's Journey (कुसुम की यात्रा) »  से कह रही हैं कि
      
मन को समझाती रही !   अब समझा पायीं या नहीं..यह आप कविता पढ़ कर ही जानिए --
यों गए फिर वो न आए, मन को समझाती रही
बागबाँ बन अपने सूने मन को, मैं भरमाती रही
अब रहा न शोख चंचल, फ़रह भी मुमकिन नहीं
सपनों में थी जो संजोई, वह सोच मुस्काती रही
********************************
 मेरा फोटो
वंदनाजी ज़ख्म…जो फूलों ने दिये   पर अपनी आज की कविता कुसुम ठाकुर जी को समर्पित करती हुई कह रही हैं कि

यही तो अमर प्रेम है ………………है ना

तुम्हें याद है
कल हमारे
वैवाहिक बँधन
में वक़्त एक
और यादों की
लकीर छोड़ रहा है
आवाज़ »  से रोली पाठक अपनी बुलंद आवाज़ में कह रही हैं कि  
"भारत-बंद" का क्या असर हुआ है..

ईंट-पत्थर,
टूटी बोतलें
चूड़ियों के टुकड़े,
छूटी चप्पलें,
बच्चों का रुदन
माँओ का क्रंदन,
मेरा फोटोजीवन सन्दर्भ   पर भूपेंद्र कुमार सिंह प्रस्तुत कर रहे हैं
खुशबू के शिलालेख
तुम खुशबू के शिलालेख हो ,
मै हूं सागर की गहराई,
तुम हो दिव्य कामना मन की 
मैं हूं तेरी ही  परछाईं //

तेरे दुःख के सारे किस्से ,
लगते हैं क्यों अपने हिस्से ?
ये सब बातें अंतर्मन की,
बोलो कहें यहाँ किस किस से ?//
 Lamhon Ke Jharokhe Se...   ऋचा  बता रही हैं कि रिश्ते कुम्हार की चाक पर पड़ी मिट्टी से नर्म होते हैं ..  नर्म मिट्टी से ये रिश्ते..  कविता के साथ साथ भूमिका की भी प्रशंसा किये बिना नहीं रहेंगे..


रिश्ते कुम्हार की चाक पर पड़ी
नर्म मिट्टी से होते हैं
जैसा चाहो आकार दे दो
जैसे चाहो ढाल लो
मेरे भाव » पर पढ़िए   ---मन का आँगन
मेरे मन के आँगन में
बीज प्रीत का रोपा मैंने
भीने भाव की नमी दी उसमें
दिव्य कुसुम सा पाया मैंने
***************************************************
SADA » जी माहिर हैं
हंसने के फन में .

तेरी मुहब्‍बत मुझे इस कदर रूलाएगी छिपाने में,
उसको इक मुस्‍करा‍हट भी मेरी न काम आएगी ।
यूं तो हंसने के फन में खूब माहिर हूं होगा क्‍या,
जब हंसी बन के अश्‍क आंखों से छलक जाएगी
 My PhotoMy Poetry Collectionपर अनीता निहालानी जी के जीवन दर्शन पर विचार जानिए .. 
कोई है
कोई है
सुलग रहा है रह-रह कर दिल
जाने कैसी पीड़ा छाई,
पलकों के पीछे से कोई
झांक रहा न दिया दिखाई I


भीतर ही भीतर यह कैसी
शक्ति का विस्फोट हो रहा,
बाहर आने को है व्याकुल
पर न कोई मार्ग पा रहा I
My Photoअरुण आदित्य जी से मिलिए उनके ब्लॉग
अ आ » पर झोपड़ी के हिस्से में किस्से
सुनाते हुए -

पता नहीं झोपड़ी का दर्द जानने की आकांक्षा थी
या महज एक शगल
कि झोपड़ी में एक रात गुजारने को आ गया महल
झोपड़ी फूली नहीं समा रही
उमंग से भर गया है जंग लगा हैंडपंप
प्यार से रंभा रही है मरियल गाय
कदम चूम कर धन्य है उखड़ा हुआ खड़ंजा
My Photo


वीरेन्द्र सिंह यूँ तो  AAZAAD PARINDA »  हैं  लेकिन   कह रहे हैं कि  

मैं भी नेता बनूँगा ...एक व्यंग रचना पढ़िए  

मैं भी नेता बनूँगा ।
देश के लिए कुछ करूँ या न करूँ ,
अपने घर को तो मैं ज़रूर गुलज़ार करूँगा।
इसलिए मैं भी नेता बनूँगा ।
क्या हुआ जो मैं अनपढ़ हूँ , बेकार हूँ ...
मेहनत से कमा कर खाने में लाचार हूँ ....
लेकिन राजनीति का तो मैं अनार हूँ ....
लोगों को बरगलाने में भी होशियार हूँ ।
My Photoधर्मेन्द्र कुमार सिंह  कल्पनालोक से एक वैज्ञानिक भाषा में कविता कर रहे हैं ..
बड़ा मुश्किल है
बड़ा मुश्किल है,
तुम पर कविता लिखना,
विज्ञान की प्रयोगशालाओं में,
कविता कहाँ बनती है?

परखनलियों में,
अम्लों में,
क्षारों में,
रासायनिक अभिक्रियाओं में,
कविता कहाँ बनती है?
 EKLA SANGH »
ब्लॉग पर पढ़िए जसवीर जी की एक बहुत संवेदनशील रचना

मां होने का दर्द

शरीर पर सिम्‍पटम उभरने लगे हैं
उसे पता है
इस असाध्‍य बीमारी के बारे में-
वो कैंसर से पीडि़त है !
कैसे सपने आते होंगे उसको
रात में नींद उचटने पर
क्‍या होता होगा उसके मन में
अस्‍पताल में थिरेपी के दौरान
My Photoरामेश्वर गुप्ता कुछ दिल से,  दिल की बात  कुछ इस तरह कह रहे हैं -दहकती रही हसरतें गुलमोहर के साथ ..
कई बार चाहा कि
छा जाऊँ इन्द्रधनुष बनकर
तुम्हारे मन के आसमान पर
या सजता रहूँ तुम्हारी देह पर
हर श्रृंगार बनकर
डा०  सुभाष राय को पढ़िए     साखी   पर  
यही है साखी

कबीर ने कहा, आओ 
तुम्हें सच की भट्ठी में 
पिघला दूं, खरा बना दूं 
मैंने  उनके शबद की आंच पर 
रख दिया अपने आप को
 My Photo
पूजा उपाध्याय  अपनी    लहरें  पर  बहुत पते की  बात बता रही हैं.. 
सपनो का अनजानी भाषाओँ का देश
इतना मुश्किल भी नहीं है
अभी इन्सान पर भरोसा करना
भाषिक आतताइयों के देश में
किसी साधारण उन्माद वाले दिन
वो नहीं करेंगे तुमसे बातें
My Photo
मयंक सक्सेना को पढ़िए    ताज़ा हवा  पर -

पूर्णता अपूर्ण है...

सबसे गहरी कविताएं,
निरुद्देश्य लिखी गईं
जल्दबाज़ी में उकेरे गए
सबसे शानदार चित्र
हड़बड़ी में गढ़े गए

My Photobhardwaj'sblog  पर चन्द्र भान जी बता रहे हैं कि  समय की  मार से ना जाने क्या – क्या  टूट जाती है -


समय की मार से अल्हड़ जवानी टूट जाती है  
लदा हो बोझ ज्यादा तो कमानी टूट जाती है 
ठहरने ही नहीं देती किसी को वेग में अपने 
                          नदी मुड़ती  जहाँ उसकी रवानी टूट जाती है

My Photoअजय कुमार जी अपनी  गठरी »  में छुपाये हैं बहुत से 

अनुत्तरित प्रश्न

इस देश को तब
सोने की चिड़िया कहा गया
जब यहाँ होते थे ,
हरे भरे खेत-खलिहान ।

My Photoगौरव गुप्ता   Direct dil se !   कह रहे हैं कि

कुछ कमी है.......

कुछ कमी है............
दूर हो कर भी वो यहीं कहीं है |
मेरे दिल की आवाज़,
क्या उसने सुनी है?
 My Photo
अविनाश  की क्षणिकाएं किसी महा काव्य से कम नहीं होतीं…  मेरी कलम से......पर  पढ़िए

 

ऐसे ही (क्षणिकाएँ..

ऊपर की दुनिया...
कल थी बड़ी,
रौशनी उस जहां.
रात बारिश के बहाने,
ख़ुशी के आँसू,
"वो" भी रोया.
सुना कल किसी ने,
"उसे" अब्बा कहा था.
मेरा फोटोआज की चर्चा का अंतिम पड़ाव  एक बहुत खूबसूरत संदेशात्मक गीत के साथ पूरा करते हैं . उच्चारण »  पर  पढ़िए डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी की नयी रचना  - 

 

“.. .. .बदल जायेगा!”

मोम सा मत हृदय को बनाना कभी,
रूप हर पल में इसका बदल जायेगा!
शैल-शिखरों में पत्थर सा हो जायेगा,
घाटियाँ देखकर यह पिघल जायेगा!!
आशा है आपको मेरा यह पोस्टर और इसके विभिन्न रंग  पसंद आये होंगे…आपके सुझाव आमंत्रित हैं… आज की चर्चा पर यहीं देती हूँ विराम…….सबको मेरी राम राम |

35 comments:

  1. आपकी चर्चा पर अब चटख रंग चढ़ चुका है.
    और जहां तक मैं जानता हूं जिस आंखों में एक बार चटख रंग बस जाए वह उतारने से भी नहीं उतरता है.
    अच्छी चर्चा के लिए आपको बधाई
    हमेशा की तरह अच्छे व शानदार लिंक्स
    मेरी पोस्ट को सबसे पहले क्रम पर आपने रखा है इसके लिए विशेष तौर पर आपका धन्यवाद.

    ReplyDelete
  2. इस खूबसूरत चर्चा की बधाई । अच्छे अच्छे लिंक मिले ,और इन सुंदर पोस्टों के बीच खुद को पाकर आनंदित हुआ ।

    ReplyDelete
  3. बहुत बेहतरीन चर्चा!!

    ReplyDelete
  4. बहुत बेहतरीन चर्चा!!

    ReplyDelete
  5. आपका साप्ताहिक काव्य मंच
    दिन-प्रतिदिन निखरता जा रहा है!
    --
    बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  6. चर्चा मंच पर हमारी कविता को स्थान देने के लिये बहुत बहुत शुक्रिया। चंद पोस्ट ही अभी पढ़ पाये हैं डुयूटी से आने के बाद बाकी पढ़े जा सकेंगे। बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति। पुन: बहुत बहुत धन्यवाद आपको।

    ReplyDelete
  7. संगीता जी, बहुत-बहुत धन्यवाद, इस तरह एक ही जगह पर अनेक सुन्दर और गम्भीर रचनायें पढने को मिल जाती हैं। यह अवसर कोई क्यों चूकना चाहेगा? धन्यवाद।

    ReplyDelete
  8. इतने सारे कवियों और उनकी रचनाओं से परिचय करवाने के लिए धन्यवाद। बड़ी ही सार्थक चर्चा।

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत लिंक्स...
    आभार ...!

    ReplyDelete
  10. सार्थक काव्य चर्चा, आपका आभार !

    ReplyDelete
  11. अच्छे लिंक्स दिए गए हैं .. सुन्दर चर्चा ..
    कुछ को फिर आकर देखूंगा ..
    आभार !

    ReplyDelete
  12. बेहद मनभावन चर्चा।

    ReplyDelete
  13. इस बेहतरीन चर्चा के लिये आपका बहुत-बहुत आभार, चर्चा मंच पर आने से कुछ ऐसे लिंक जो छूट गये थे, वो भी एक साथ मिल गये, जहां आपने ''हंसने के फन'' को भी जगह दी आभारी हूं ।

    ReplyDelete
  14. charcha mnch pdhne ke bad kafi sare nye links pdhne ko mile .sath hi apka behtreen prstutikarn .
    abhar

    ReplyDelete
  15. बहुत खुबसूरत, शाम को पढता हूँ :)

    ReplyDelete
  16. aaj charcha manch par adbhud sanyojan hai .. blog ke sabhi rang maujood hain yahan... kavita, kshanika, aalekh, vyang, geet sab kuchh maujood hai... sthapit blogger, nay blogger ka anootha aayojan hai... mere bhav ki kavita man ka aangan ullekniya hai ... saath me kumar mukul ki kavitayyen bahut gambhir hain, dr. subhas roy ji kee saakhi bhi achhi hai.. inspire karti charcha !

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर पोस्टर सजाया है……………सभी एक से बढकर एक ……………………काफ़ी लिंक मिले ………………आभार्।

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन चर्चा!

    ReplyDelete
  19. अहोभाग्य इतनी खूबसूरत कविताओं के बीच आपने मेरी कविता को शामिल किया आपका बहुत आभार ..मन खुश हो गया एक ही मंच पे इतनी सारी खूबसूरत कवितायेँ पढने को मिली .

    ReplyDelete
  20. बड़े मनोयोग से सजाया है आज का चर्चा मंच |
    बहुत अच्छी रचनाएँ पढ़ने को मिलीं |साधुवाद
    आशा

    ReplyDelete
  21. गजब की चर्चा है. बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  22. Sangeeta swaroop ji.... Agar main ye kahun ki mere viyang ke SAAPTAHIK KAVYA MANCH men shaamil hone se meri khushi ka koi theekana nahin hain..to isme kuch bhi jhoonth n hoga.
    Iske liye ......
    Main Aapko DHANAYABAAD kahta hun.

    ReplyDelete
  23. aapki ye charcha to kavya premiyon ke liye ek raah banti ja rahi hai ..sare khubsurat links yahan mil jate hain.

    ReplyDelete
  24. संगीता जी बहुत ही खूबसूरत रंगों से सजाया है आपने इस पोस्टर को इद्रधनुष के सातों रंग साफ साफ देख पा रही हूँ

    ReplyDelete
  25. अभी पढ़ पाया, ब्लॉग पे आने के बाद लगा की सभी के सभी सुंदर पोस्ट यहीं पे मिल गये...सुंदर प्रस्तुति के लिए आभार..

    ReplyDelete
  26. पहली बार आया हूँ. रंग-बिरंगी कविताओं के बीच भावारे की मानिंद घूमता रहा. अद्भुत आनंद मिला. धन्यवाद्.

    ReplyDelete
  27. बारिश के मौसम में कविताओं के ये इन्द्रधनुषी रंग बेहद ख़ूबसूरत लगे... साप्ताहिक काव्य चर्चा के इस इन्द्रधनुषी पोस्टर पर हमारी कविता का रंग भी शामिल किया आपने उसका आभार...

    ReplyDelete
  28. sangeeta ji, aapka meri kavita ko apni charcha me shamil karne ke liye aapka bahut-bahut aabhaar.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin