चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, November 24, 2010

" आपके स्नेह और सम्मान से अभिभूत हूँ " (चर्चा मंच-348)


अपनी काव्य पुस्तिका "सुख का सूरज" और
बाल कविताओं की पुस्तक "नन्हे सुमन"
के कम्पोजिंग में इतना व्यस्त हूँ कि 
सिर उठाने तक की फुरसत भी नही है!
लेकिन काम तो काम ही है!
रोजमर्रा के काम न पिछड़ जाये इसलिए
चर्चा मंच को आज जल्दीबाजी में ही सही
परन्तु समय तो दे ही पा रहा हूँ!
इसलिए पिछले 24 घण्टों की ब्लॉग की हलचल 
आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ!
------------
रमेश जी का तीसरा और अंतिम प्रश्न  इस प्रकार है  ....
प्रतिरक्षा करने वाले पक्ष को मुकदमे में किए गए विरोधाभासी कथनों का लाभ मिलता है
-----------------

10 comments:

  1. अच्छे लिंक्स ...
    चर्चा में स्थान देने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी और विस्तृत चर्चा ....अच्छे लिंक्स ....चर्चा में मुझे स्थान देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  3. आज की चर्चा का अन्दाज़ बेहद भाया और लिंक्स भी बढिया मिले…………इतना बिज़ी होते हुये भी आप इस कार्य के लिये समय निकाल लेते हैं यही आपकी सफ़लता का प्रमाण है।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा .मुझे स्थान देने का आभार.

    ReplyDelete
  5. achhi prastuti.tau blogging vishwavidhyalay pasand aaya.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छे लिंक्स. सुंदर एवं सार्थक चर्चा. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  7. चर्चामंच पर अच्छे लिंक्स .. समयाभाव के बावजूद भी सुन्दर चर्चा .. आभार..

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी चर्चा !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin