समर्थक

Thursday, November 25, 2010

"कितनी अज़ीब रिवाज़ें हैं यहाँ पर" (चर्चा मंच-349)

मित्रों!
मैं यह भली-भाँति जानता हूँ कि
यदि कमेंट में चर्चा मंच पर आपकी पोस्ट छपने की सूचना नही दूँगा तो आप यहाँ झाँकने भी नही आयेंगे।
परन्तु समय की कमी के चलते
मैं यह औपचारिकता पूरी नहीं कर पा रहा हूँ!
दो-चार दिनों की व्यस्तता और है फिर मैं अपने पुराने रंग में आ जाऊँगा! तब तक आप मेरी इस घिसी-पिटी परिपाटी को झेल ही लेंगे। इसी आशा और विश्वास के साथ आज की चर्चा आपकी सेवा में हाजिर है!
--------
------------
-----------------
अन्त में देखिए यह
--------

23 comments:

  1. चर्चा नहीं कहानी है
    कहानी है या बाजार है
    चर्चा मंच ब्‍लॉग जगत का बाजार है
    यहां पर हावी नहीं व्‍यापार है
    बाजार जो बिना मुनाफे का है
    पर यहां मुनाफा होता है
    बढ़ती है इंसानियत
    इसमें खूब इजाफा होता है
    ऊंट घोड़े अमेरिका जा रहे हैं हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग सीखने

    ReplyDelete
  2. छोटी सी पोस्ट में ढेर सारे लिंक ...
    आभार !

    ReplyDelete
  3. ढेर सारे लिंक ...shukria

    ReplyDelete
  4. आपका अंदाज़ अलहदा है...
    खूबसूरत..!

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह बढ़िया चर्चा बहुत सुन्दर काफी अच्छे लिंक दिए हैं ....आभार

    ReplyDelete
  6. ati vyaastta ke bavajood itne sare links lena aapke hi vash me hai.bahut sunder.badhai....

    ReplyDelete
  7. sarthak charcha ,upyogi links ! meri rachna ko charcha me shamil karne ke liye hardik dhanywad !

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा खूबसूरत..लिंक दिए हैं ....आभार

    ReplyDelete
  9. विस्तृत चर्चा और अच्छे लिंक्स मिले ....बस एक गुज़ारिश को शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  10. काफ़ी बढिया चर्चा रही……………एक से बढकर एक लिंक्स हैं……………काफ़ी लिंक्स पर हो आई हूं……………आभार्।

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत लिंक, आभार !

    ReplyDelete
  12. सुन्दर चर्चा के लिए आभार शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर चर्चा !!!!
    आने वाले आयेंगे ही
    इस मंच के गुण गायेंगे ही
    चर्चा का अंदाज़ अद्वितीय है
    ये तथ्य निश्चित गुनगुनायेंगे ही!!!!
    सादर!

    ReplyDelete
  14. kamaal ki kaarigari.........

    waah waah !

    ReplyDelete
  15. अच्छे लिंक्स हैं आभार.

    ReplyDelete
  16. लाजवाब अंदाज है. प्रणाम!

    रामराम.

    ReplyDelete
  17. आपने तो लिखा है कि कोई टिप्पणी नहीं डालने वाला
    फिर इतनी सारी टिप्पणी कहाँ से आई है |अच्छी चर्चा और लिंक्स के लिए बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  18. बहुत सारे लिंक दिया आपने। आभार।

    ReplyDelete
  19. अरे लगता है.... कई लोगो कि हेअडिंग ले कर एक कविता ही रच डाली आपने......


    सुंदर चर्चा.

    ReplyDelete
  20. ज़ालिम कौन Father Manu या आज के So called intellectuals ?
    एक अनुपम रचना जिसके सामने हरेक विरोधी पस्त है और सारे श्रद्धालु मस्त हैं ।
    देखें हिंदी कलम का एक अद्भुत चमत्कार
    ahsaskiparten.blogspot.com
    पर आज ही , अभी ,तुरंत ।
    महर्षि मनु की महानता और पवित्रता को सिद्ध करने वाला कोई तथ्य अगर आपके पास है तो कृप्या उसे कमेँट बॉक्स में add करना न भूलें ।
    जगत के सभी सदाचारियों की जय !
    धर्म की जय !!

    ReplyDelete
  21. फ़िलहाल तो लिंक सब नोट कर लिए है. सभी को आराम से देखेगे.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin