Followers

Monday, November 15, 2010

आपकी पसन्द आपकी नज़र ……चर्चा मंच-339

चर्चाकारा :वन्दना गुप्ता
दोस्तों
सबसे पहले तो बाल दिवस की शुभकामनाएं और कुछ पोस्ट बाल दिवस पर ही,
उसके बाद आपकी पसंद आपकी नज़र ..........
आज वक्त ज़रा कम है इसलिए ना ज्यादा बात और ना ही ज्यादा लिंक्स ..............
तो आइये मेरे साथ ............

"बाल-दिवस" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")
यहाँ हम क्या बोलें?

बालदिवस पर जया 'केतकी' का आलेख- आइए बचपन सँवारें . .
तभी तो भविष्य सुरक्षित होगा .

हम भी कभी बच्चे थे | बाल दिवस के अवसर पर |
और वो बच्चा आज भी कहीं ना कहीं छुपा है अन्दर ही

बाल दिवस पर सीखो आज

बिलकुल ..........आज की जरूरत है ये

आज बाल दिवस है.
शायद है तो ?

प्याज बन कर रह गया है आदमी
यही तो आदमी की पहचान है परत दर परत डाले घूम रहा है

क्या कहें
एक प्रश्नचिन्ह ?

"मौन "
कैसे अभिव्यक्त हो ?

मेरा नन्हा सा घोसला
इसके सिवा जाना कहाँ ?

अग्निकुंड , अग्नि और मैं !..........
होम करने पर ही हवन पूर्ण होता है

मालिनी गौतम की कविताएँ - क्या हुआ जो नहीं हूँ मैं सफेद लिली सी सुन्दर, गुलाबी कमल सी मादक…
जो डूबा उसी ने जाना

भारत माता की बेटी -- 'किरण बेदी' -- एक आदर्श
नाम ही पहचान है

शबनमी होंठ ने छुआ - देवी नागरानी की ग़ज़ल
और ग़ज़ल बन गयी

पासपोर्ट बनवाने के चक्कर में घनचक्कर… सरकारी दफ़्तर… वेबसाईट पर कानून कुछ ओर और दफ़्तरों में कुछ और ?
बच के रहना रे बाबा इन सरकारी बाबुओं से

मानव की नई सभ्यता
कितनी भयावह ?

मंगल कामना
बहुत जरूरी है

एक कविता दोस्तों के नाम !
दर्द की फेहरिस्त के साथ

ऐसा भी क्‍या, कि‍ ...
बहुत कुछ होता है

मैं चाँद-सा अक्सर हुआ......
घटता भी रहा बढ़ता भी रहा

सुवासित --(आशु रचना )
अंतस सारा महक जाए

ऐसे मगर हम साथ तो हैं
वो ही होना चाहिए

दंश

कैसे कैसे ?

घूंघट के पट

खोल रे तोहे पिया मिलेंगे

.....उत्तर-मधुशाला
अपना जवाब आप है

कभी पास और कभी दूर हो गया

देखता रहता हूँ मैं........
इसके अलावा और कुछ हाथ में है भी तो नहीं

डरता हूँ मेरे बच्चे
क्यों और किससे ? भूत से या भविष्य से?

आज के लिए बस इतना ही ............आपके विचारों के लिए प्रतीक्षारत

38 comments:

  1. बाल दिवस की यह चर्चा बहुत सुन्दर लग रही है!
    --
    बाल दिवस की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. सुंदर, संक्षिप्त और बेहतरीन लिंक के साथ सारगर्भित चर्चा!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदरता से सजाई है चर्चा ....अच्छे लिंक्स का चयन ....

    ReplyDelete
  4. वंदना जी,
    शुक्रिया मेरी रचना को शामिल करने के लिए...काफी सामग्री उपलब्ध कराई आपने शुक्रिया .

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा वंदना जी... सरल भी और सुन्दर भी... बाल दिवस विशेषांक बना दी आपने ये चर्चा ..

    और मेरी पोस्ट को इसमें शामिल किया .. आभार वंदना जी..

    ReplyDelete
  6. बहुत ही रुचिकर और अच्छे लिंक्स से सज्जित इस चर्चा में मेरे ब्लॉग को भी शामिल करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.

    ReplyDelete
  7. 5.5/10

    सुन्दर चयन - सुन्दर चर्चा
    कई लिंक्स बेहतरीन हैं और सारगर्भित भी.
    एक हल्का सा सुझाव है : आप शीर्षक के साथ ही उसकी विधा भी स्पष्ट कर दिया करें. जिससे पाठक को यहीं से पता चल जाए कि पोस्ट कविता है, कहानी है, लेख है, संस्मरण है या और कुछ.

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन लिंक की सुन्दर चर्चा ....शुक्रिया

    ReplyDelete
  9. Bahut sundar charcha. Shukriya mujhe bhi drawn dene ka....

    ReplyDelete
  10. मुझे शामिल करने के लिए आभार. बाकी लिंक्स भी अच्छे हैं . बहुत सारे अच्छे लेखकों तक पहुँच सका. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  11. वंदना जी,
    सर्वप्रथम मेरी रचना को चर्चा- मंच पर जगह देने के लिए आभार. रचनाओं के बेहतरीन संग्रह एवं संयोजन के लिए ह्रदय से शुभकामनाएं . सारी रचनाएँ,खासकर अरुण जी की रचना "डरता हूँ ..." बेहद पसंद आयी. "प्याज की परत में प्याज बन कर रह गया है आदमी
    आवरण ही आवरण बस आवरण". सच का आइना दिखाती रचना.सभी रचनाओं का अलग-अलग रंग,अलग-अलग स्वाद पर उद्देश्य एक.

    ReplyDelete
  12. .

    वंदना जी,

    बहुत सुन्दर चर्चा ! सभी लिंक्स पर गयी , पढ़ा और प्रतिक्रिया भी दी। बढ़िया रचनाएँ पढवाने तथा मेरे लेख को स्थान देने के लिए आपका आभार।

    .

    ReplyDelete
  13. सार्थक चर्चा। बहुत सी चीज़े एक ही स्थान पर पढ़ने को मिल गयीं। सुन्दर प्रयास के लिए अनेकानेक धन्यवाद और मुझे स्थान देने के लिए भी।

    ReplyDelete
  14. सुन्दर प्रस्तुति.. शास्त्री जी, राजीव जी की कविता, जाया केतकी का आलेख, दिगंबर नाशवा जी की ग़ज़ल.. उल्लेखनीय पोस्ट...

    ReplyDelete
  15. बाल दिवस की यह चर्चा भी सुन्दर रही.

    ReplyDelete
  16. ‘बाल’ की खाल निकाल कर रख दी :) बाल दिवस की बधाई॥

    ReplyDelete
  17. उस्ताद बाल गोविन्दNovember 15, 2010 at 2:57 PM

    आदरणीय चर्चा मंच :-
    ९.२५ / १०
    सुन्दर चयन - सुन्दर चर्चा
    कई लिंक्स बेहतरीन हैं और सारगर्भित भी अतः नंबर काटने की जगह नहीं है !

    क्या आप जानते हैं कि उस्ताद जी वास्तव में बाल कलाकार हैं ?

    ReplyDelete
  18. अच्छे लिंक्स ..
    आभार!

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन चर्चा और बेहतरीन लिंक्स देने के लिये शुक्रिया ! आज की चर्चा बहुत सार्थक लगी !

    ReplyDelete
  20. वाकई शानदार बाल-चर्चा...बधाई.


    _________________
    'शब्द-शिखर' पर पढ़िए भारत की प्रथम महिला बैरिस्टर के बारे में...

    ReplyDelete
  21. बाल दिवस की शुभकामनाएँ! अच्छे लिंक्स दी आपने.

    ReplyDelete
  22. अच्छे लिंक्स , अच्छी चर्चा, मुबारकबाद।

    ReplyDelete
  23. वंदना जी,

    मेरे आलेख को चर्चा में शामिल करने के लिए धन्यवाद. चर्चा बहुत सार्थक रही . दिवस पर लिखित आलेख आपने एक ही जगह पर पढ़ने के लिए दिशा दे दी. ढेर सी नई लिंक मिली जिनसे प्रथम परिचय हुआ. ये सेतु का कार्य भी बहुत ही पुण्य कार्यहै.

    ReplyDelete
  24. सार्थक और बेहतरीन चर्चा.

    ReplyDelete
  25. बाल दिवस की यह चर्चा भी सुन्दर रही.

    ReplyDelete
  26. बाल दिवस स्‍पेशल चर्चा के लिए हार्दिक बधाईयॉं।

    ReplyDelete
  27. chulbuli-chanchal-chahakti hui sarthak charcha ! aabhar

    ReplyDelete
  28. vandana ji ,

    prastuti aisi ki ,ranj hai dansh ko /
    shukriya bhi na kahoon ye,mumkin
    nahin .

    udaya veer singh .
    15.11.2010

    ReplyDelete
  29. vandanaji
    namaskar
    CHARCHAMANCH me meri rachanao ko shamil karane ke liye dhanyavad.charcha bahut prabhavi rahi.

    ReplyDelete
  30. अच्छे लिंक्स दिखाने के लिये आभार।

    ReplyDelete
  31. vandnaji
    abhar charcha me shamil karne ke liye aur fir se achi charcha ke liye

    ReplyDelete
  32. Vandana ji thanx for accomodating me in the charcha manch, Infact it is an applause for my writings which insire me to write much better. -kishore Diwase, Bilaspur,Chhattisgarh Mob-09827471743

    ReplyDelete
  33. रोचक व उपयोगी लिंक का चयन है।
    मुझे शामि‍ल करने हेतु आभार।
    इस श्रमसाध्‍य कार्य के लि‍ए साधुवाद!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...