समर्थक

Friday, November 26, 2010

लिंक्स ही लिंक्स …….चर्चा मंच ---- 350

नमस्कार , आज डा० नूतन जी की व्यस्तता ने मुझे भी थोड़ा व्यस्त किया और मैं ले कर आई हूँ उन चिट्ठों के लिंक्स जो इन दो दिनों में मुझे अच्छे लगे …बिहार के चुनावों के नतीजों ने यह साबित कर दिया है कि अब आम जनता नेताओं के झांसे में नहीं आने वाली …जो जनता की सुख सुविधाओं को ध्यान में रख विकास के मार्ग पर चलेगा जनता भी उसके साथ होगी ….खैर ..यह तो थी राजनीति की बात …सामाजिक दायरे में देखें तो महिलायें आज भी उत्पीडन का शिकार हैं …कल महिला हिंसा विरोधी दिवस था …..तो लीजिए आज की चर्चा का प्रारंभ हम इसी विषय से करते हैं
1---विचार पर समसामयिक  सार्थक विश्लेषण और विचार पढ़िए ..आज महिला हिंसा विरोधी दिवस है

2 ---अलबेला खत्री जी लाये हैं एक और स्पर्धा रचनाएँ सादर आमंत्रित हैं  स्पर्धा क्रमांक – 5

3----उड़न तश्तरी  पर पढ़िए - समीर लाल जी कह रहे हैं दिल्ली में मिले दिल वालों से ...

4 -----शिवम मिश्रा  २६ / ११ की बरसी पर पूछ रहे हैं बताओ करें तो करें क्या ???????

5 ---स्पंदन   पर पढ़िए शिखा वार्ष्णेय की एक समसामयिक रचना     जय बोलो लोकतंत्र की

6 ---उच्चारण  पर एक गज़ल पढ़िए आशा शैली जी की , जिसको प्रस्तुत किया है डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी ने….गुज़र जायेगी यह शब् हौसला रख
7--- हिंदी – कुञ्ज   पर सूरज की एक गज़ल सयानी हो गयी है .

8--- शेखर सुमन  दिखा रहे हैं दुनियाँ की १० सबसे खतरनाक और जटिल सड़कें
9--- सहज समाचार  पर अखिलेश  बता रहे हैं मोबाईल से याददाश्त गायब हुई

10----- प्रमोद ताम्बट  का व्यंग पढ़िए हाईस्कूल का छात्र

11---- अरविन्द जांगिड  लाये हैं एक राजस्थानी लोक कथा अरे वाह ! आनंद आ गया  

12-- -वाणी शर्मा  बता रही हैं  सुशासन का कोई विकल्प नहीं 

13-- - कडुवा सच  पर उदय जी पूछ रहे हैं क्या नेता होना गुनाह हो गया 

14-- - मनोज ब्लॉग पर इस बार आंच पर समीक्षा है जन्मगाथा गीत की

15----- – राजभाषा  पर पढ़ें श्याम नारायण मिश्र का नवगीत गीत मेरे अर्पित हैं

16 ---- - मजाल जी  की कुछ फुटकर हास्य कविताएँ

17 ---- इन्तिहाँ पर दीपशिखा वर्मा के  चार ख्याल

18 --- - रंग बिरंगी दुनियाँ पर  अंजना जी कह रही हैं ...चल उठ       ज़िंदगी ..चलते हैं

19 -- - अनुभूति पर अनीता सक्सेना जी पल और कल की बात बता रही हैं .. 

20 --- - सुरेन्द्र सिंह  जी का ब्लॉग है झंझट के झटके ...इस पर वो एक गीत लाये हैं अँधियारा जीता हूँ

21 ---- मासूम लम्हे पर दीपाली "आब "  कह रही हैं दिल में कितना सन्नाटा है . 

22----- - तर्जे बयाँ पर पढ़िए  दानिश भारती को-- घट गया है और एक दिन 

23---- – अभिव्यक्ति  पर शोभना जी लायी हैं दादा रामनारायण उपाध्याय कि रचनाएँ ..यज्ञ की समिधा , नैवेध्य 

24 --- - महेंद्र वर्मा जी  अपनी गज़ल में कह रहे हैं  अजीब लोंग हैं

25 ----- तदात्मानं सृजाम्यहम्   पर पढ़िए   विद्रोह

26 ----- डा० अजीत    शेष फिर पर रख रहे हैं    शर्त..

27 --- स्वास्थ्य सबके लिए पर राधारमण जी लाये हैं विशेष जानकारी देश में पहली बार  ..दाहिने हार्ट का सफल ऑपरेशन रायपुर में ..

28------उभरता  साहिल पर   पढ़िए साहिल की रचना कोई ऐसी भी इक किताब लिखे

29  -----कोना एक रुबाई का पर आतिश लाये हैं आदमी से छाँव होता जा रहा है

30 -----मेरी कलम से  पर अविनाश कह रहे हैं      यदि कर सको 

31 ---- - वंदना गुप्ता एक प्रयास  पर बता रही हैं .आहों में असर हो तो
32---- राजीव शर्मा  कलम कवि की  पर कह रहे हैं   प्रकृति बचाओ 

33---- - काजल कुमार लाये हैं   फेविकोल और एमसील से भी बढ़िया फिक्सर 

34---- -प्रवीण मोहता  आज लाये हैं दर्द को समेटे हुए 26/11  हर दिल ज़ख़्मी हर चेहरे पर दर्द ...

35------ आकांक्षा पर आशाजी  कह रही हैं ..कोई नहीं जान पाया ..

36 -----पलकों के सपने पर  पढ़िए पगडण्डी

37----अग्निपाखी  पर डोरोथी  बता रही हैं जिंदगीनामा

38---- छान्दसिक अनुगायन  पर जय कृष्ण राय तुषार की कविता पढ़िए अक्षरों में खिले फूलों सी

39- मीडिया स्कूल  पर वर्तिका नंदा  बता रहीं हैं गोवा  की शादी  का हाल

40- ---  सरोकार  पर  अरुण राय की माँ के एहसासों को जीते हुए एक कविता पढ़िए पुराने स्वेटर
आज चर्चा मंच का  तीन सौ पचासवां  ( 350 ) संस्करण था …..इसीलिए इस चर्चा पर कुछ ज्यादा लिंक्स देने का प्रयास किया है … लिंक पर जाने के लिए  हरे और लाल रंग से लिखे शब्दों पर क्लिक करें ….आपके सुझाव और प्रतिक्रिया का इंतज़ार रहेगा …..आभार ….संगीता स्वरुप

46 comments:

  1. बहन संगीता स्वरूप जी आज की सुन्दर चर्चा करने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  2. आदरणीया सँगीताजी चर्चा मँच आपने बहुत सुन्दर ढँग से सजाया है।बधाई और प्रणाम।

    ReplyDelete
  3. आदरणीया सँगीताजी चर्चा मँच आपने बहुत सुन्दर ढँग से सजाया है।बधाई और प्रणाम।

    ReplyDelete
  4. श्रमसाध्य और बहुविध चर्चा। जो अलग से किसी ब्लॉग पर नहीं जा पाते,उनके लिए संतुलित और रेडीमेड।

    ReplyDelete
  5. वाकई श्रमसाध्य कार्य है ...
    बहुत सारे लिंक्स बिना पढ़े रह गए थे ...
    अच्छी चर्चा ..
    आभार !

    ReplyDelete
  6. आज की सुन्दर चर्चा करने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा...
    मेरा ब्लॉग भी शामिल करने के लिए शुक्रिया....

    ReplyDelete
  8. अरे वाह.... सच में लिनक्स ही लिनक्स .... सुंदर चर्चा के लिए आभार

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चर्चा... मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार... वंदना जी, मनोज जी, राजभाषा आदि के ब्लॉग अच्छे लगे.. रामपती जी की पगडण्डी भी अच्छी लगी...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर चर्चा करने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी चर्चा के लिए बधाई स्वीकार करें |
    मेरी रचना को आज चर्चा में सामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  12. सुन्दर प्रविष्टियो से सजी पठनीय चर्चा . आप सचमुच समुद्र से मोती चुनकर लाती है .

    ReplyDelete
  13. मेरे "विचार" को स्थान दिया, इसके लिए मैं आपके और मंच के प्रति हार्दिक कृतज्ञता प्रकट करता हूं।
    बहुत सारे ऐसे लिंक्स मिले जिन पर जाना नहीं हो पाया था। अब जाऊंगा। मंच से बैठे-बैठे। आपकी खोजी निगाह की दाद देता हूं।

    ReplyDelete
  14. ्चर्चा मंच के 350वें अंक के लिये हार्दिक बधाई।
    बहुत सुन्दर लिंक्स लगाये हैं…………जो नही पढे थे ज्यादातर पर हो आई हूँ………………आभार्।

    ReplyDelete
  15. संगीता जी, अपने स्नेहाशीष के साथ मेरी रचना को चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए आभार। बहुत अच्छे लिंक्स से सजी सुंदर एवं सार्थक चर्चा. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  16. आज तो सुपरफास्ट ;)

    ReplyDelete
  17. “समीर लाल (उड़नतश्तरी) “ यह; नाम इस ब्लॉगजगत मैं किसी के तार्रुफ़ का मुहताज नहीं है . इनके अलफ़ाज़ "खुशियाँ लुटा के जीने का इस ढंग है ज़िंदगी " ही काफी है, इनके तार्रुफ़ ,,,,,,,,,,,,,

    ReplyDelete
  18. सभी लिंक बेहतरीन एवं उत्कृष्ट हैं ,
    इतने अच्छे लिंक्स देने के लिए धन्यवाद
    dabirnews.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. वाह. 40 पोस्टों की ख़बर एक ही जगह. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  20. आदरणीय संगीता जी, चर्चामंच के लिए आपका श्रम तारीफ-ए-काबिल है वास्तव मे आप अपना इतना समय देकर बहुत से मेरे जैसे अनाम चिट्ठेकारों के भी चिट्ठे भी सुधी पाठको के समक्ष लाती है इसके लिए साधुवाद और मेरी रचना को चर्चामंच पर स्थान देने के कोटि-कोटि आभार
    सादर
    डा.अजीत
    www.shesh-fir.blogspot.com
    www.meajeet.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. पता नहीं आज की चर्चा का हेडिंग कुछ इस प्रकार दिमाग में कौंध रहा है :

    सेल - सेल - बम्पर सेल

    ३५० वी चर्चा पर बधाई

    ReplyDelete
  22. लिंक्स ही लिंक्स हैं पर मेहनत से जुटाए हुए हैं और बहुत ही व्यवस्थित तरीके से सजाये हुए हैं.
    सुन्दर सार्थक चर्चा.

    ReplyDelete
  23. sarthak charcha !charcha manch ki 350 vi charcha par hardik shubhkamnaye !

    ReplyDelete
  24. charchamanch.blogspot.com पर इस पोस्ट को जगह देने के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया. ऊपर जो लिखा, उसे लिखने के पहले हर बार मेरी आँखें नाम हो गयी. अंत में जय हिंद .... प्रवीन मोहता

    ReplyDelete
  25. बेहद लुभावनी ..सब एक साथ मिल जाता है यहाँ ..तीखा मीठा .
    २६/११ फिर से याद किया , साथ में सरोकार से वो स्वेअटर वाली कविता दिल में उतर गयी ! बहुत अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  26. अच्छी चर्चा के लिए बधाई स्वीकार करें ...

    ReplyDelete
  27. aapki charcha sach mein dekhne layak hoti hai.. itni mehnat jo karte ho aap.. bahut shandar links diye hain aaj bhi . badhai

    ReplyDelete
  28. चर्चामंच के ३५०वें संस्करण हेतु बधाई !
    सार्थक लिंक्स सहेजे हुए सुन्दर चर्चा!!!
    आभार!

    ReplyDelete
  29. इतनी सुन्दर चर्चा के लिये आपका आभार संगीताजी और चर्चामंच के ३५० वें संस्करण के लिये हार्दिक बधाईयां और मेरी शुभकामनाएं स्वीकार करें !

    ReplyDelete
  30. एक से बढ़कर एक लाजवाब लिंक देने के लिए आपका ह्रदय से आभार...

    चर्चामंच बहुत हद तक ब्लोग्वानी खोने के दुःख को कम कर देता है...

    केवल एक आग्रह है, यदि लिंक इस तरह से संयोजित हों कि क्लिक करने पर ये नए विंडो में खुलें तो बहुत ही सुविधाजनक होंगे.अन्यथा इस तरह रहने पर बार बार फिर से चर्चामंच पर जाने के लिए या नए लिंक खोलने के लिए कसरत करनी पड़ती है...नेट यदि स्लो हो तो और मुसीबत हो जाती है....

    ReplyDelete
  31. सभी पाठकों का बहुत बहुत आभार ..आपकी प्रतिक्रियाँ हमारा मनोबल बढ़ाती हैं .

    रंजना जी ,

    आपका सुझाव बहुत अच्छा है ..लेकिन मुझे इसका तकनीकी ज्ञान इतना नहीं है कि लिंक इस तरह लगाये जाएँ जो क्लिक करने पर दूसरी विंडो में खुलें ...यह बात पहले भी कही गयी है ...यदि किसी को भी यह तकनीकी आती हो तो कृपया सिखाने का कष्ट करें ....वैसे तब तक आप राईट क्लिक कर नयी विंडो खोल कर काम चलायें ...वैसे यह परेशानी अक्सर मुझे भी होती है ...आभार

    ReplyDelete
  32. चर्चामंच में मेरे ब्लॉग को सम्मिलित करने के लिए हार्दिक आभार।
    इस सुंदर संयोजन के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  33. चर्चा मंच के 350वें अंक के लिये हार्दिक बधाई।
    बहुत अच्छे लिंक्स से सजी सुंदर एवं सार्थक सुपरफास्ट चर्चा रही आज की.

    आभार.

    ReplyDelete
  34. bahut hi khoobsoorati se bahut achhe links dhoond kar jis shraddha se aapne charcha manch ki 350vi post prastut ki hai kabile tareef hai.badhai.

    ReplyDelete
  35. संगीता जी आपके प्रेरणा-रूपी प्रोत्साहन की लिए शुक्रिया... चर्चा भी अच्छी लगी... नए-नए ब्लोग्स को जानने का अवसर देने की लिए भी शुक्रिया.

    ReplyDelete
  36. बेहतरीन चर्चा -आभार !

    ReplyDelete
  37. सँगीताजी चर्चा मँच आपने बहुत सुन्दर ढँग से सजाया है।बधाई और प्रणाम।

    ReplyDelete
  38. संयोजन के लिए बधाई। सभी रचनाएं अपनी बानगी में एक अलग तेवर और अंदाज़ है जो सहज ही आकर्षित करती है। चर्चामंच का यह झरोखा मनभावन है।

    ReplyDelete
  39. Dangeeta di express....achchha laga...:D

    ReplyDelete
  40. बहुत अच्छे लिंक मिले .......धन्यवाद

    ReplyDelete
  41. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  42. संगीता जी,
    मेरी ग़ज़ल इतनी खूबसूरत रचनाओं के साथ शामिल करने का शुक्रिया

    ReplyDelete
  43. संगीताजी
    बहुत बहुत धन्यवाद इस चर्चा में दादाजी की रचनाओ को शामिल करने के लिए |
    तिन दिनों से बाहर थी इसीलिए देर से देख पाई |
    आभार

    ReplyDelete
  44. Sangeeta ji.. aapka tahe dil shukriya.. aapne meri anupasthi me shukrvaar ko charcha kaa sundar ramg jamaaya... sundar charcha..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin