Followers

Thursday, June 02, 2011

चर्चा मंच - 532

    आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है

चलिए चलते हैं सीधे चर्चा की और 

सबसे पहले बात करते हैं गद्य रचनाओं की
    अब चलते हैं पद्य रचनाओं की और 

    • महादेवी वर्मा की कालजयी रचना को याद किया गया है मेरे सपने ब्लॉग पर ,सबसे पहले इसी गीत को पढ़ते हैं . 
    • प्रियतम को आंगन और गलियारों में ढूंढ रहे हैं सत्यम शिवम 
    • किसी का इंतजार है केवल राम को 
    •  बिटिया का जन्म दिन मना रही हैं दर्शन कौर धनोए जी 
    • नारी मन को उकेरती कविता मैं.... और.... तुम....
    • ख़ामोशी अच्छी लगने लगी है रश्मि प्रभा जी को .
    • अभी कुछ और बाकि है ?-मैं चर्चा की बात नहीं कर रहा ये तो समीर जी है जो कह रहे हैं -अभी कुछ और बाकि है  
    • अब देखिए हिंदी हाइकु ब्लॉग पर नई विधा चोका को . 
    • स्कूलों में छुट्टियाँ हो चुकी हैं , बच्चों के लिए बाल गीत पढ़िए और बच्चों को पढ़ाएं उच्चारण ब्लॉग पर 
    •  किसी की रुचि अगर घनाक्षरी छंद में है तो यहाँ अवश्य आईएगा .

    अंत में बात करते हैं क्रिकेट की . IPL समाप्त हो गया है लेकिन जाते-जाते क्लब बनाम देश का विवाद छोड़ गया है . पढ़िए अंतराष्ट्रीय क्रिकेट को IPL  से खतरा
    आज के लिए बस इतना ही , आपके सुझावों और प्रतिक्रियाओं का बेसब्री से इंतजार रहेगा 
                                     धन्यवाद सहित 
                                                           दिलबाग विर्क  


    25 comments:

    1. शुभप्रभात ..!
      सुंदर संकलन ...!!

      ReplyDelete
    2. बढिया जानकारी, नये लिंक के लिये आभार,

      ReplyDelete
    3. achhi kyun n lage , meri khamoshi yahan bhi bolne lagi

      ReplyDelete
    4. अच्छे लिंक्स का संकलन ...आपका आभार

      ReplyDelete
    5. शानदार चर्चा रहा!

      ReplyDelete
    6. dilbag virk ji dil bag-bag ho gaya aaj ki charcha dekhkar .mere aalekh ko is chrcha me sthan dene ke liye hardik dhanywad .

      ReplyDelete
    7. बढ़िया और संतुलित चर्चा करने के लिए आभार!

      ReplyDelete
    8. श्रम साध्य संकलन प्रस्तुत किया है। आपने!!
      सुबोध-चर्चा है।

      मेरे प्रस्तुत 'जीवन्मूल्यो' को यहां केनवास देने का आभार, दिलबाग विर्क जी!!

      ReplyDelete
    9. बहुत ही अच्‍छी चर्चा .... सद़विचार की प्रस्‍तुति के लिये आभार ... ।

      ReplyDelete
    10. सुन्दरसंकलन से सजी अच्छी चर्चा

      ReplyDelete
    11. चर्चा का सुन्दर अन्दाज़्…………बढिया लिंक्स लगाये हैं…………आभार्।

      ReplyDelete
    12. Dilbaag ji , thanks for the wonderful links and this beautiful charcha.

      ReplyDelete
    13. अच्छी प्रस्तुति...बेहतर लिंक्स
      --देवेंद्र गौतम

      ReplyDelete
    14. अच्छे लिंक्स का संकलन ...आभार

      ReplyDelete
    15. धन्यवाद् दिलबाग विर्क जी, बहुत बहुत शुक्रिया आपका मेरे ब्लॉग का लिंक लगाने के लिए, और आपके कमेन्ट का भी बहुत शुक्रिया !
      आपके आने से हमे बहुत ख़ुशी हुई, आशा है आगे भी आपसे संपर्क बना रहेगा !

      ReplyDelete
    16. बहुत सुंदर और मनभावन चर्चा....आभार।

      ReplyDelete
    17. भाई दिलबाग विर्क जी इस नये रूप में आप का स्वागत और छन्द संबंधित पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार|

      ReplyDelete
    18. सुंदर लिंक का चयन! :)

      ReplyDelete
    19. बहुत सुंदर संकलन...

      ReplyDelete
    20. अच्छे लिंक-बढ़िया चर्चा.

      ReplyDelete
    21. अच्छे लिंक-बढ़िया चर्चा.

      ReplyDelete

    "चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

    केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

    विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

    जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...