समर्थक

Friday, June 10, 2011

"ये दुनिया है रंग-रंगीली " (चर्चा मंच-541)



सबसे पहले एक जरूरी सूचना!
इस रविवार की चर्चा
श्री दिलबाग विर्क करेंगे
क्योंकि आदरणीय मनोज कुमार जी 
इस समय टूर पर हैं!
अब शुक्रवार की चर्चा शुरू करता हूँ!
--
पवन कुमार मिश्र जी ने पोस्ट लगाई है
हम कामना करते हैं कि आप अपने मिशन में सफल हों!
--
--
यह सुन्दर रचना पढ़ना न भूलें!
--
Patali ब्लॉग पर 
कोसलराज की कथा पढ़िए! 
--
दिल की बातें में हैं!
--
लो क सं घ र्ष ! में देखिए!
जहाँ तलवार नहीं होती ऐसी भी जंग होती है 
--
लन्दन - पुस्तकों की दुकानों, पुस्तकालयों , प्रकाशकों , लेखकों का शहर .
लेकिन इस शहर में तीन में से एक बच्चा बिना अपनी एक भी किताब के बड़ा होता है....
शेक्सपियर के शहर के अनपढ़ बच्चों के बारे में 
प्रामाणिक जानकारी है स्पंदन SPANDAN में!
--
पोस्ट और उसके अन्त में काव्य रचना!
writer
कुछ
स्व प्रचार
कुछ शब्द
निराधार...
फिर ऊँची
जान पहचान....
मिल गये
बस इसी वजह से
जाने कितने
सम्मान...
वो बेवजह
दाद पाता रहा
और
मैं
जुगनुओं की टिमटिमाहट से
अँधेरा
भगाता रहा!!
मैं
अज्ञानी!!!
कितनी
छोटी छोटी
तरकीबें हैं
वो भी न जानी!!
-समीर लाल ’समीर’ 
अपनी इसी विशेषता के लिए जाने जाते हैं!
--
अब कर भी दीजिए नाराजगी का खुलासा!
--
माधव जी बता रहे हैं
आरा में मेरे घर में कई गौरैया ने अपना घोसला बनाया है .
--
--
 प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने मंत्रियों से कहा था सम्पत्ति का ब्योरा देने के लिये।
पीएमओ से चिट्ठी भी लिखी गई थी सब को।
उस चिट्ठी का कितना असर हुआ..
--
चार जून को नव्या की बहिन का इस दुनिया में आगमन हुआ है..
बधाई स्वीकार करें शेफाली जी!
--
--
एक प्यार भरा गीत !
तेरे मेरे बीच एक दिवार है मेरी जान !
तोड़ना चाहां पर वक्ता था सरकता गया !!...
--
--
हमें इक दूसरे से गर गिला शिक़वा नहीं होता| 
तो अंग्रेजों ने हम को इस क़दर बाँटा नहीं होता|१| 
--
--
लोग अपने ब्लौग पर feedjit लगाते हैं , 
recent visitors आदि को जानने के लिए प्राविधान करते हैं । 
आखिर इसकी आवश्यकता क्या है? 
--
--
--
--
--
--
और अन्त में देखिए!
हुसैन पर यूं फिदा हो जाना... 
--
श्रद्धांजलि!!


23 comments:

  1. रोचक चर्चा ...
    उपयोगी लिंक्स ...
    आभार !

    ReplyDelete
  2. सिद्धहस्त हांथों का हुनर आज की सुबह प्रफुल्लित कर गया ,सुंदर रचनाओं का सार-संसार भाव पूर्ण है ,आभार /

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा और बढ़िया लिंक्स मिले!

    ReplyDelete
  4. कई सारी लिंक्स एक ही जगह
    बहुत अच्छी चर्चा
    मेरी गजल को स्थान देने के लिए आभारी हूँ

    ReplyDelete
  5. उम्दा चर्चा ...अच्छे लिंक्स मिले ..

    ReplyDelete
  6. अच्छे लिंक्स , अच्छी चर्चा।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर चर्चा……बढिया लिंक्स्।

    ReplyDelete
  8. अच्छे लिंक्सों से सजी सुंदर चर्चा....।

    ReplyDelete
  9. अच्छे लिंक्स से सजी रोचक चर्चा..आभार

    ReplyDelete
  10. और इस रंगरंगीली दुनिया में एक अदना सा मिटा हुवा रंग है हम .... इन रंगों में घुल कर अच्छा लगा... लिंक्स में जा रही हूँ सुन्दर चर्चा ... आभार

    ReplyDelete
  11. रोचकता लिए बहुत ही सधी हुई उपयोगी चर्चा के लिए आभार.

    ReplyDelete
  12. रोचक चर्चा .उपयोगी लिंक्स के लिये बहुत –बहुत धन्यवाद..

    धन्यवाद…

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर चर्चा और बढ़िया लिंक्स मिले!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर चर्चा ...उपयोगी लिंक्स ...आभार

    ReplyDelete
  15. बहुत उपयोगी लिंक्स मिले .. आभार !!

    ReplyDelete
  16. अच्छे लिंक्सों से सजी सुंदर चर्चा..mujhe sthan dene ke liye aabhar..

    ReplyDelete
  17. कुछ पारिवारिक जुम्मेदारी निभाने के चलते मैने शुक्रवार की चर्चा बंद की है ...जल्दी ही आप सबके समझ उपस्थित होउंगी ...दोस्तों ....

    आज शास्त्री जी ने मेरी रचना सम्मलित की ..धन्यवाद !
    रोचक लिंक प्रस्तुत करने मै शास्त्री जी का जबाब नही ...आभार !

    ReplyDelete
  18. sundar charcha , upyogi links...thanks.

    ReplyDelete
  19. Respected Mayank Ji
    mila key baadh diya ek hi mala mai, jai kabhi thoothi hi nahi thi woo.Her ek moti ko piroo diya ish tarey jaisey mil gagey ho woo, kabhi na alag honey ki leyey. Nice

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin