Followers

Tuesday, June 14, 2011

सफर पुरानी राहों से ……..आगे की डगर पर , साप्ताहिक काव्य मंच – 50 .. चर्चा मंच – 545

नमस्कार , आज का काव्यमंच सजाते हुए अपार हर्ष हो रहा है कि साप्ताहिक काव्य मंच ने अपना अर्ध शतक पूरा किया है .. और मुझे चर्चा मंच से जुड़े एक वर्ष हो चुका है ..पहली साप्ताहिक काव्य चर्चा २४ मई २०१० में प्रारम्भ हुई थी .पचास चर्चाओं का मंच  बहुत से खूबसूरत पड़ावों से गुज़रा ..इस मंच के माध्यम से बहुत से अच्छे  रचनाकारों से परिचय हुआ ..आज सभी पाठकों का और रचनाकारों का हृदय से आभार व्यक्त करती हूँ जिनकी प्रेरणा से यह सफर यहाँ तक पहुंचा .आज जब पीछे मुड कर देखती हूँ तो अनगिनत खूबसूरत नज़ारे दिखाई पड़ते हैं .. सोचा  आज उन्हीं में से कुछ काव्य प्रसून चुन लाऊं ..हांलांकि मुझे तो सारे ही पुष्प पसंद हैं पर माला इतनी बड़ी भी न हो जाए कि उलझ कर ही रह जाए .. तो आज की माला ३५ विभिन्न फूलों से सजी हुई आपके सामने प्रस्तुत कर रही हूँ ..माला बनाने के लिए धागे की ज़रूरत होती है तो  जो शब्द काले रंग से लिखे हैं उनको धागा ही समझियेगा … तो देखते हैं थोड़ा पीछे मुड कर --और बताइयेगा कि यह माला कैसी लगी ..
खुली आँखों के सपने
नर्म मिट्टी से ये रिश्ते
साकार बनो ओ निराकार
संवेदनाएं छलती हैं
माँ जीती कम जागती ज्यादा है
रात भर नींद को ढूँढती रह गयी
उँगलियॉ बेचैन हैं ज़ख्म कुरेदने वाले~~
बस माँ ही जानती हैं कलई चढाना ..
बर्तनों पर भी रिश्तों पर भी

जब भी कोरा कागज़ देखा
करने चल दिए काला उसे
 
ज़िंदगी के श्वेत पन्नों को न काला कीजिये
विरासत को बचाना चाहते हो
एक दिल मेरे पास रख जाओ
दीपों के मद्धिम प्रकाश में..
ढूँढ रही माजी के सामानों में
दुआएँ  भी  दर्द देती हैं
फिर क्यों ढूंढूं अवलंबन
फूलों से मार डालो,
हम पत्थर से जम गए हैं..

यादों के पल , यादों के रंग
फ़ूल तुमने जो  कभी मुझको दिए  थे खत में
“काँटो की पहरेदारी में, ही गुलाब खिलते हैं
तेरी अनुकम्पा से
मैं भी रखना चाहता हूँ
व्रत तुम्हारे लिए

पड़ते हैं जहाँ कदमों के निशाँ
जाग जाते हैं कमनीय स्वप्न
 clip_image002
My Photo आज की काव्य चर्चा प्रारम्भ करते हैं नीरज गोस्वामी जी की खूबसूरत गज़ल से -
कैद में मजबूर तोता बोलता है

जब शुरू में रफ्ता रफ्ता बोलता है
मुंह से बच्चे के फ़रिश्ता बोलता है
जो भी सिखला दे उसे मालिक, वही सब
कैद में मजबूर तोता बोलता है
दिगंबर नासवा जी की एक खूबसूरत नज़्म --मेरी जानी सी अंजान प्रेमिका ...
मेरे तमाम जानने वालों के ख्यालों में पली
गुज़रे हुवे अनगिनत सालों की वेलेंटाइन
मेरी अंजान हसीना
समर्पित है गुलाब का वो सूखा फूल
जो बरसों क़ैद रहा
डायरी के बंद पन्नों में
मेरा परिचय आम  का मौसम हो और आम ( फलों के रजा ) की बात न हो --यह कैसे हो सकता है …डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी ले आए हैं टोकरा भर -आम दोहे
तोतापरी-बनारसी, देशी-क़लमी आम।
भाँति-भाँति के आम हैं, भाँति-भाँति के नाम।।
खाओ जितने खा सको, अवश-विवश हैं आम।
लोकतन्त्र में किसी के, मुख पर नहीं लगाम।।
मेरा फोटो मनोज जी के पढ़िए कुछ बेतरतीब विचार  जो क्षणिकाओं के रूप में हैं ..
हो गया ज्ञानी मैं
जब सारी पोथी पढ़ ली
फिर अपने चारों ओर
उँची दीवारें खड़ी कर ली।
My Photo रघुनाथ प्रसाद जी की एक खूबसूरत गज़ल पढ़िए -
केवल उस तकिये ने देखा , बिन मौसम बरसात
केवल उस तकिये ने देखा ,बिन मौसम बरसात |
जिसने दिया सहारा सर को ,तनहा सारी रात |
कितना दर्द  दबा रक्खा ,दिल के तहखाने ने ,
मुस्काती आँखें हरजाई ,कह दी सारी बात |
My Photo
  विभोर गुप्ता जी कर रहे हैं जय जय कार तानाशाही सत्ता की जय हो
अब तो मैं भी सत्ता के विरुद्ध कभी कुछ नही बोलूँगा
भ्रष्टाचार और कालेधन पर अपना मुंह नही खोलूँगा
अरे, मुझको भी तो अपनी जान बहुत प्यारी है
सच लिखने की ताकत मेरी, सत्ता के आगे हारी है
तो भला मैं, क्यूँ सच बोल कर अपना शीष कटाऊ
अमानवीय सरकार को भला क्यूँ अपना दुश्मन बनाऊ
मेरा फोटो सुभाष भदौरिया जी की कल्पना देखिये …कल्पना क्या हकीकत ही है --
जैसे चाहूँ उसे नाचती हूँ
जैसे चाहूँ उसे नचाती हूँ.
बहुत गहरे में, मैं डुबाती हूँ.
ताज़ दिल्ली का बचाने के लिए,
रात में लाठियां चलाती हूँ
.
[DSC01770.JPG] वटवृक्ष पर रश्मि प्रभा जी लायी हैं देवेन्द्र कुमार शर्मा की रचना ..जो पूछ रहे हैं प्रकृति से एक प्रश्न...
हे प्रकृति!
कौन हो तुम?
क्या कभी दिया किसी को
अपना परिचय?
  अरविन्द पांडे जी की ओजपूर्ण रचना --
'सेना'' की आवश्यता क्या ,सेनाएं सभी हमारी हैं.
''सेना'' की आवश्यता क्या  ,सेनाएं सभी हमारी हैं.
जल,थल,अम्बर में शान्ति हेतु अपनी पूरी  तैयारी है.
ये पुलिस,अर्ध-सैनिक बल भी अपनी रक्षा के लिए बने  .
तुम बढ़ो अहिंसा के पथ पर , नेतृत्व इसे अपना देने .
अतुल जी कर रहे हैं इल्तिज़ा '
इक इल्तिजा करता हूँ, मुझे कोई याद न करे,
मेरी  चाहत कोई कभी, मेरे जाने के बाद न करे |
इतना ही जीता हूँ के हर ख़ुशी मिलती हमें,
मेरे गम में आंसू दिल के कोई बर्बाद न करे |
My Photo  
एस० एन० शुक्ला जी आह्वान  कर रहे हैं --
अनवरत अन्याय है,अब पीर पर्वत हो चुकी है ,
भारती के लाल जागो,आज फिर भारत दुखी है .
अनाचारों से भरे फिर मेघ मडराने लगे हैं,
फिर वही वहशी ,दरिन्दे, देश पर छाने लगे हैं.
वे विदेशी थे,लड़े जिनसे,जिन्हें हमने भगाया,
आज देशी पालतू भी, खुद पे गुर्राने लगे हैं.
मेरा फोटो  धर्मेन्द्र कुमार सिंह जी की गज़ल पढ़िए --
रेत सी मजलूम की तकदीर है
रेत सी मजलूम की तकदीर है
हर लहर से मिट रही तदबीर है
सूर्य चढ़ते ही मिटा देता सदा
भाषणों की बर्फ़ सी तहरीर है
 मेरा फोटो नरोत्तम पुरी जी अपने मन के भावों को बहुत गम्बीर्ता से कह रहे हैं -- काश "
काश....
कि वो समझ पातें.
मैं तो उन्हें एक नजर देखने,
बाँहों में लेकर माथे को चूमने के लिए बस,
खुद को बनावटी बनाकर,
किस कदर 'बहुरुपिया' बने फिर रहा हूँ.
My Photo  मृदुला हर्षवर्धन को पढ़िए --
सूर्य की प्रतीक्षा
हों रही मानवता विषैली
हों रही गंगा ये मैली
चारों ओर अहम् बिखरा है
स्वार्थ का रंग-रूप संवरा है
साधू की झोली
My Photo  आज की चर्चा का समापन कर रही हूँ ..माहेश्वरी कनेरी जी के एक सुन्दर गीत के साथ ..
हे राह बटोही , तू चलता चल
जब तक साँस चले, तू चलता चल
रूप बदल- बदल, जग तूझे भरमाएगा
दृढ्ता का देख तेज़, स्वयं झुक जाएगा
आज बस इतना ही … अर्ध शतक मनाते  हुए कुल अर्ध शतक ही लिंक्स दिए हैं … आशा है एक बार फिर से पुरानी रचनाओं का आनंद आप अवश्य उठाएंगे …आज के प्रयास पर आपकी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतज़ार रहेगा … फिर मिलते हैं अगले मंगलवार को नयी चर्चा के साथ ..तब तक के लिए नमस्कार … संगीता स्वरुप

40 comments:

  1. आज की काव्यमाला विभोर कर गयी ! इतने खूबसूरत लिंक्स दिए हैं आपने कि अभिभूत हूँ ! इसे बुकमार्क कर लिया है ! आहिस्ता आहिस्ता रसास्वादन कर इसका आनंद उठाऊँगी ! इतनी मनमोहिनी चर्चा के लिये आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  2. बहन संगीता स्वरूप जी!
    आप बहुत उपयोगी चर्चा कर रहीं है!
    --
    इससे लोगों की अद्यतन पोस्टों के साथ पुरानी पोस्टों को भी फिर से पढ़ा जाने लगा है!
    --
    आभार!

    ReplyDelete
  3. आपकी मेहनत आगे नतमस्तक होने का मन करता है ...
    चर्चा जैसे विषय को आप इतना सरस और उपयोगी बना देती हैं ...
    लाजवाब ...
    आपके चुने हुए पुष्पों में खुद को शामिल देखना असीम उर्जा और उत्साह प्रदान करता है ...
    आभार !

    ReplyDelete
  4. दीदी,आपका यह अथक एवं सराहनीय प्रयास हिंदी साहित्य को एक अलग पहचान तो दे ही रहा है साथ ही बहुत सारे लोगों के विचारों को वातायन भी प्रदान कर रहा है.एक जगह इतने प्रकार की रचनाओं को देखने का आनंद ही अलग है. प्रभावशाली संग्रह में स्थान देने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह बेहतरीन चर्चा ....... बहुत-बहुत धन्यवाद संगीता जी

    ReplyDelete
  6. Sangeeta ji, namaskaar
    saptahik charcha manch men mujh jaise anaadi khiladi ko shamil karane ke liye dhanyawad.Meri shubhkamna hai ki apaka prayas fale-foole aur ham sab apake is manch ke setu se ek-doosare kee rachanaaon ka anand utha saken.
    KAVYAMALA ke behatar sanyojan ke liye ek bar punah dhanyawad.

    ReplyDelete
  7. ताजे पुष्प तो सुगंध प्रदान करते ही है . आपने माला में पुराने पुष्पों को पिरोकर उनको फिर से ताजा महसूस करने का कारण दे दिया. इतनी शिद्दत और मेहनत , चर्चा के लिए . साष्टांग दंडवत है आपकी इस अद्भुत क्षमता और लगन को .मेरी बगीया के पुष्प को माला में स्थान देने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  8. बढ़िया लिंक्स.मुझे स्थान दिया,कृतज्ञ हूँ.

    ReplyDelete
  9. ये अर्धशतक तक कि यात्रा इस मंच पर अद्भुत और काबिले तारीफ रही . काव्य मंच को शतायु होने कि शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  10. संगीता जी!
    आज के चर्चा मंच में भी आपने हमेशा की तरह बखूबी विभिन्न आयामों की अत्यधिक रुचिकर पठन सामग्री प्रस्तुत की है। बहुत उत्कृष्ट चयन है आपका।साधुवाद....

    साप्ताहिक काव्य मंच – 50 में मेरी ग़ज़ल को भी इस चर्चा में शामिल कर आपने मेरी ग़ज़ल को जो आत्मीयता प्रदान की है, उसके लिए मैं आपकी आभारी हूं।

    ReplyDelete
  11. संगीता जी! साप्ताहिक काव्य मंच – 50 में मेरे बटॊही को स्थान देकर उसमें और अघिक उर्जा का संचार होगया है ..आपका बहुत-बहुत धन्यवाद !
    आप की साप्ताहिक काव्यचर्चा हमेशा की तरह सुव्यवस्थित और मनमोहक है.....

    ReplyDelete
  12. काव्य चर्चा की पचासवीं पोस्ट आपकी महनत का ही नतीजा है...ब्लॉग जगत से काव्य रचनाओं को एक जगह एकत्रित करना आसान काम नहीं है ये एक साधना है तपस्या है जो आप निरंतर कर रही हैं. इस अनूठे कार्य के लिए आपकी जितनी प्रशंशा की जाय कम है. काव्य रसिकों को जब एक जगह बैठ कर सम्पूर्ण तृप्ति पहुँचती है तो उन्हें और क्या चाहिए? आपका ये मंच लगातार ऐसा ही चलता रहे ये ही प्रभु से प्रार्थना करते हैं.

    नीरज

    ReplyDelete
  13. काव्‍य मंच ..को बहुत ही खूबसूरत लिंक्‍स दिये हैं आपने ...बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  14. संगीता जी,
    बहुत ही सुंदर ढंग से प्रस्तुत करी गयीं बहुत ही रचनायें
    आज दिन भर में सब धीर-धीरे पढूंगी
    आभार मेरी रचना शामिल करने के लिए

    नाज़

    ReplyDelete
  15. साप्ताहिक काव्य मंच की 50 वीं प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.

    मेरी रचना का आपने चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच (कोई पुरानी या नयी ) प्रस्तुति मंगलवार 14 - 06 - 2011 हेतु चयन किया हैयह मेरे लिए प्रसन्नता का विषय है.

    आपकी सतत क्रियाशीलता मन को प्रभावित करती है...यह अनुकरणीय है.

    ReplyDelete
  16. saaptaahik kaavya manch par ardh-shatak ke liye badhaai.upyogi links.bhut hi sundar charcha.

    ReplyDelete
  17. बहुत शानदार कड़ियाँ मिलीं। इतनी मेहनत से सबको यहाँ इकट्ठा करने के लिए आपको धन्यवाद। ५०वीं प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई। ये चर्चा यूँ ही जारी रहे और एक दिन ये ५००वीं प्रस्तुति भी दे इसके लिए शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  18. सबसे पहले तो अर्धशतक पूरा करने के लिये हार्दिक बधाई।
    आपने काफ़ी मेहनत और लगन से आज की चर्चा को अंजाम दिया है……………सभी लिंक्स बेहद उम्दा और खूबसूरत हैं। आज आराम से पढते रहेंगे दिन भर्।

    सुन्दर पुष्पो से सुसज्जित एक बेह्तरीन माला।

    ReplyDelete
  19. ise kahte hai nadi ka saagar se milna ...prawahmay charchaa

    ReplyDelete
  20. संगीता जी ,
    विभोर हूँ आपके अध्यवसाय ,सुरुचि ,और श्रम की इस पचासवीं प्रस्तुति को पा कर !यह पुष्प-हार झर जाने वाले फूलों का नहीं ,सौन्दर्य के चिर-रमणीय और भाव-सुरभि पूरित पुष्पों का गुंथन है ,जो देवि भारती का कंठाभरण बन गया है !
    धन्य है !

    ReplyDelete
  21. अच्छे लिंक मिले। दायरा विस्तृत करवाने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  22. आज की काव्य मय चर्चा में आनंद आगया |
    आपको पचासवी काव्य चर्चा के लिए बहुत बहुत
    बधाई |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार
    आशा

    ReplyDelete
  23. अच्छे लिंक्स से सजी बहुत बढ़िया चर्चा..आभार

    ReplyDelete
  24. चर्चा मंच के बहाने बहुत ही उपयोगी रचनाएँ सहज सुलभ हो जाती हैं .आज भी संगीता जी के परिश्रम ने इसमें चार चाँद लगाए हैं . बधाई .

    ReplyDelete
  25. दीदी..बहुत सुंदरता से पुराने फूलों को गूंथा है काले धागे के सहयोग से माला में ...बहुत आभार इस माला में मेरा पुष्प चुनने के लिए

    ReplyDelete
  26. क्या बात ,क्या बात ,क्या बात .
    आपकी इस खूबसूरत माला में मेरे पुष्प को भी स्थान देने का शुक्रिया.
    अर्ध शतक के लिए बधाई.
    आपकी मेहनत को दंडवत प्रणाम.
    इतनी काव्यमयी और खूबसूरत चर्चा का आभार.
    और निरंतर ऐसे ही खूबसूरत सफर के लिए शुभकामनायें.
    मन तो कर रहा है कि मैं भी कम से कम अर्ध शतक बना डालूं आपकी चर्चा की तारीफ में शुभकामनाओं का. पर टिप्पणी को टिप्पणी ही रहने देने की विवशता है.
    आपको करोणों बढियां और अनगिनत शुभकामनाये दिल से :)

    ReplyDelete
  27. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  28. संगीता जी,
    अपने मेरी रचना चर्चा मंच के लायक समझी, इसके लिए आपको बहुत बहुत आभार.
    भविष्य में भी मेरा ऐसे ही आत्मविश्वास और हौंसला बढ़ाते रहे.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  29. साप्ताहिक काव्य मंच की 50 वीं प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  30. संगीता आंटी..सर्वप्रथम साप्ताहिक काव्य प्रस्तुति के ५० वें पोस्ट हेतु हार्दिक बधाई...मै हमेशा से आपकि चर्चा का कायल रहा हूँ...और आज का अंदाज तो दिल को छु गया...बहुत ही उपयोगी प्रयोग.....बहुत ही सुंदर लिंक्सों से सजी सुंदर चर्चा आज की.....आभार।

    ReplyDelete
  31. साप्ताहिक काव्य चर्चा मंच का अर्ध शतक होने पर बहुत बहुत बधाई!

    सादर

    ReplyDelete
  32. अर्ध शतक के लिए बधाई.. खूबसूरत चर्चा के लिए आभार.. बहुत महत्‍वपूर्ण लिंक मिले !!

    ReplyDelete
  33. अर्धशतक मायने शतक की ओर अग्रसर ..
    आपकी पारखी नज़र के क्या कहने!!

    ReplyDelete
  34. बहुत उपयोगी चर्चा . 50वीं प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  35. 50 वीं चर्चा के लिए बधाई।
    आप लोगों ने बहुत से मंच की कमी की भरपाई करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।
    उम्मीद है यह कारवां यूं ही चलता रहेगा।

    ReplyDelete
  36. साहित्य रूठा था,
    हृदय से टूटा था।
    नये पुराने,
    आये मनाने।

    ReplyDelete
  37. संगीता जी , आप इतना वक्त दे कर इस मंच को संवारतीं हैं ...खूबसूरत है आपका गुलदस्ता ...शुक्रिया ..

    ReplyDelete
  38. wah. man khush ho gaya is anmol mala ke foolon ko dekhkar....uspar ye kala dhaga....ab kya kahoon.....behad manmohak andaz.sath hi apki aabharee bhi hoon mujhe saath rakhne ke liye.

    ReplyDelete
  39. Thank you,
    shukriya, aapne meri gazal ko yahan thodi jagah di
    apka prayatna kabiletareef hai
    ek nivedan hai ki site ke graphics pe thoda kaam karein, koshish rang layegi

    ek aur baar aur hazaar baar shukriya

    atul-ki-shayari.blogspot.com

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...