Followers

Thursday, June 16, 2011

चर्चा मंच - 547

   आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
                 शुरुआत करते हैं कुछ तस्वीरों से 

अब चलते हैं चर्चा की और 

सबसे पहले गद्य रचनाएं 
अब बात करते हैं पद्य रचनाओं की 
                  अंत में प्रस्तुत है एक प्रेम-पत्र .
आज के लिए बस इतना ही . आपके सुझावों का इंतजार रहेगा .
                                     धन्यवाद सहित 
                                       दिलबाग विर्क 

27 comments:

  1. बहुत-बहुत धन्यवाद ||
    मंच का आभार ||

    ReplyDelete
  2. बहुत शानदार चर्चा की है आपने!
    आभार!

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुरंगी चर्चा के लिए बधाई |अच्छी लिंक्स |
    आशा

    ReplyDelete
  4. शानदार चर्चा .

    मुझे स्थान दिया .आभार..

    ReplyDelete
  5. प्रिय श्रीदिलबागजी और चर्चामंच,

    ये मेरा प्रेमपत्र पढ़कर,नाराज़ ना होना..!!

    शुक्रिया।

    मार्कण्ड दवे।
    http://mktvfilms.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. आज की चर्चा में अच्छे लिंक्स मिले ..आभार

    ReplyDelete
  7. ्रोचक और सारगर्भित चर्चा……………आभार्।

    ReplyDelete
  8. achchhi links ke liye badhai

    ReplyDelete
  9. मुझे ये देख कर बहुत अच्छा लगा कि हमने काफी समय बाद लिखा फिर भी चर्चा मंच ने मुझे पहले जैसा ही स्नेह और अपना पन दिया । आज की भागती जिन्दगी में जहाँ लोग एक दूसरे को भूलने में समय नही लगाते , आपने आभासी रिश्तों में भी इतना अपनापन बनाये रखा ।
    आप सभी को मेरी नमस्ते ।

    ReplyDelete
  10. bas yun kabhi baith kar jo likh diya tha kagaz par
    usse aaj is charcha manch par jagah de kar aapne jo samman diya hai

    bahut bahut abhaar

    Naaz

    ReplyDelete
  11. बहुत रोचक चर्चा..शानदार लिंक्स..आभार

    ReplyDelete
  12. चर्चा में ".......सहर हो गई " को शामिल किये जाने के लिए धन्यवाद
    चर्चा मंच की ये शक्ल भी सुन्दर है
    इतने अच्छे लिंक्स के लिए आभार

    ReplyDelete
  13. धन्यवाद मित्र, दिल बाग बाग कर दिया.
    बढ़िया चर्चा..

    ReplyDelete
  14. बेहतर लिंक्स, आकर्षक प्रस्तुति, आभार

    -----देवेंद्र गौतम

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्‍छे लिंकस .. आभार !!

    ReplyDelete
  16. तहे दिल से सुक्रिया सर की आपने मेरी इस पोस्ट को चर्चा मंच के लायक समजा ..सच कहू तो चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट लगी हुई देखकर बहुत ही प्रसन्नता होती है |"
    " ढेरो बहुमूल्य लिनक्स से सजी इस चर्चा को आपने बहुत ही अच्घ्ही तरह से संजोया है और ..सभी लिनक्स काफी दिलचस्प और पढनेलायक है |"
    " बहु बहुत सुक्रिया सर ,आज सुबह से ही मई हेर एक लिंक को पढ़ रहा था मजा आया |यहाँ पर जिनकी पोस्ट का जिक्र किया गया है उन सभी मेरे ब्लॉगर भैयों और बहेनो को बधाई |"

    ReplyDelete
  17. सुन्दर चर्चा दिलबाग जी , आभार।

    ReplyDelete
  18. सुन्दर संक्षिप्त चुनिन्दा रचनाओं की इस शानदार प्रस्तुति व मेरी भी रचना को यहाँ स्थान देने के लिये आपको बधाईयां व धन्यवाद...

    ReplyDelete
  19. शानदार चर्चा,अच्छी लिंक्स के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete
  20. bhut bhut dhanyawaad dilbhaag ji...jo apne meri rachna ki sarhana ki... uske liye main apki bhut abhari hu... sath hi bhut bhut dhanyawwad ki itne acche links padne ko mile... thank u verymuch...

    ReplyDelete
  21. शानदार चर्चा के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  22. शत धन्यवाद चर्चामंच. मेरी कविताओं को आपने एक मंच दिया. अनेक पाठको ने पढ़ा सराहा स्नेह दिया. ऋणी हूँ. शुक्रिया.

    ReplyDelete
  23. अत्यंत सुन्दर चर्चा! बढ़िया लिंक्स! मुझे स्थान दिया आपने इसके लिए धन्यवाद!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...