चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, June 28, 2012

चर्चा - 924

आज की चर्चा में आपका स्वागत है 
चलते हैं चर्चा की ओर 
ब्लॉगमंच
गगन में छा गए बादल 

बूँद-बूँद तरसी धरा 
My Photo
बारिश लाओ बादल राजा 

प्रतीक्षा स्वाति की 

वर्षा- प्रतीक्षा और भय

1905 - गाँधी जी का घर 
kunwarji's
हाय संस्कृति 

फालतू में अकड़ा आदमी 

आसमां से एक तारा देखता है मेरी ओर अक्सर 
My Photo
मौत मैंने तुम्हें हरा दिया 
My Photo
सौन्दर्य - नारी वक्ष में या नारी जीवन में ?

खतरनाक भारत 


मैग्नोलिया के फूल और तुम 

शंख 

आधे संसार में पूरे दिन 
जो मेरा मन कहे
मेरी भी सुन लो 
निरामिष
डिहाईडरेशन 
My Photo
माँ मैं तुझे खोज लूँगा
मेरा फोटो

16 comments:

  1. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  2. अच्छे लिंकों के साथ बहुत सुन्दर चित्रमयी विस्तृत चर्चा।
    दिलबाग जी आपका आभार!

    ReplyDelete
  3. बहुत खूबसूरत बनाया है चर्चा मंच आज आपने
    आभारी हूँ एक फूल हमारा भी लगाया है आपने ।

    ReplyDelete
  4. बहुत बेहतरीन रचना....आपका आभार!

    ReplyDelete
  5. बड़ी ही सुन्दर सूत्रसज्जा..

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा साजते, लगते रोचक लिंक |
    हरियाली बरसात की, नीले पीले पिंक ||

    ReplyDelete
  7. आभार ...बहुत आभार ....स्वाति की बाट जोहता ...यहाँ चातक को स्थान मिला ....!!

    बहुत सुंदर चर्चा है ...सार्थक भी ...

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन लिंक्‍स ... आभार

    ReplyDelete
  9. सुंदर चर्चा कर रहे दिलबाग जी विर्क,
    फुर्सत से इसे पढ़ेगें अब काहे की फ़िक्र|

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    ReplyDelete
  10. Charcha ka style pasand aaya..
    saaf-suthra aur manoram..
    Dhanywaad !

    ReplyDelete
  11. बहुत बहुत धन्यवाद सर! मेरी रचना को स्थान देने के लिए।

    सादर

    ReplyDelete
  12. बहुत शानदार चर्चा दिलबाग जी बधाई

    ReplyDelete
  13. आकर्षक लिंक से सजा है मंच आज का।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin