Followers

Monday, June 04, 2012

"आओ इस सन्नाटे को जख्मी करें" (चर्चा मंच-900)

मित्रों!
आज दिन तो ग़ाफ़िल जी की चर्चा का है। परन्तु न ही उनकी चर्चा शैड्यूल है और न ही उनसे सम्पर्क हो रहा है। इसलिए चर्चा मंच का व्यवस्थापक मैं ही इस चर्चा को लगा रहा हूँ। देखिए जल्दी में लगाए गये कुछ क्रमवार लिंक!
  1. आरक्षण पर अब संविधान संशोधन ही विकल्प...!
  2. आपके शहर में कितना है यह तो मैं नहीं जानता लेकिन बनारस में छुट्टे पशुओं का भंयकर आतंक है।
  3. *नदिया-नाले सूख रहे हैं, जलचर प्यासे-प्यासे हैं। *पौधे-पेड़ बिना पानी के, व्याकुल खड़े उदासे हैं
  4. हमारे देश की लोकतान्त्रिक प्रणाली के शासन को जिस तरह से चलाया जा रहा है , उसकी आधी सच्चाइयाँ उस जन मानस की जानकारी से दूर है और उनके पास इसको जानने के कोई स्रोत भी नहीं है...देखिए- जनप्रतिनिधियों की पोल !
  5. ये सपना मुझे बार बार क्यों दिखता है?
  6. कबीर को कबीर हो जाने दो .....!
  7. सोच रहा हूँ शुरू करूँ आज से मैं भी गोरख धंधा चार आँखें हों चढ़ी नाक पे बोलूँ फिर भी खुद को अंधा कैसा होगा ऐसा धंधा जिसमें पैसा -रुपया होगा अकल घुलेगी घुटी भांग संग बाप बड़ा न भैया होगा...!
  8. नुस्खे सेहत के...(१)कच्ची अमियाँ (Green mango)* * * * कच्चा आम शरीर में लौह तत्व की ज़ज्बी (अवशोषण ) में मददगार सिद्ध होता है....!
  9. वो साढे सात साल की उम्र के " भाई साहब "
  10. चांद को देखा कुछ गुमसुम उदास है। चांदनी भी शायद कुछ रूठी आज है॥ तभी बादलों में उसने मुंह छुपा लिया था॥ कर लिया क्यों उसने अंधेरी रात है॥ टिमटिमाते तारे भी लगे खोये खोये से...रूठा चांद!
  11. छुपा कर बेटे बहु से वो आज भी सहेजती है बासी अखबार संभाल कर रखती है पुरानी साडियां जोड़ती रहती है घर का टूटा सामान सब से आँखों बचा कर रोज देखती है खिडकी के बाहर कान लगाये सुनती है कुछ...अम्मा ...!
  12. सरल सहृदय रविकर जी का सानिध्य......द्वारा अरुण कुमार निगम (हिंदी कवितायेँ)
  13. मेरी मोहब्बत कफ़न ओढ़ कर सो रही है बताओ तो ज़रा..तुमने तो मोहब्बत के सारे गुलाब कब से पन्नों में लपेट लिए हैं और मैं यहाँ काँटों पर ...किनारे बैठ मोहब्बत को उलीच रही हूँ!
  14. वैकल्पिक रोगोपचार का ज़रिया बनेगी डार्क चोकलेट....!
  15. साईं बाबा के शिर्डीधाम में......कविता रावत ...!
  16. "मैं चुप हूँ तुम भी बोलते क्यों नहीं ? आओ इस सन्नाटे को जख्मी करें." ----राजीव चतुर्वेदी "चीख कर चुप हो गया उनवान कविता का...शब्द सहमे थे बोलते तो बोलते कैसे ?
  17. क्या कारगिल के शहीदों या वीरता के लिए पुरस्कृत लोगों से.... पुरस्कार राशि एवं जमीन भविष्य में छीनी जा सकती है ?
  18. एक एसा वेबसाइट जहा आप के कंप्यूटर के लिए बहुत सारे सॉफ्टवेर उपलब्ध है वो भी फ्री में|
  19. हिजड़ों का ख़ानक़ाह सूफ़ियों की गतिविधियों का केन्द्र ख़ानक़ाह कहलाता है।
  20. प्रतियोगिता...बेसुरम्‌ पर...अगर आपके पास फेसबुक खाता है तो कृपया नीचे दिए लिंक पर जाकर कुंडलिया को लाइक करें !
  21. जब बाड़ ही खेत को खाने लगे तो फसल बेचारी कहां जाए?
  22. घर बड़ा करने की खातिर, कद घटाना पड़ रहा है...!
  23. "राष्ट्रीय कुप्रबंधन संस्थान" - *देश जहाँ निरक्षर को साक्षर बनाता है वहीं पर साक्षर सबसे ज्यादा देश को चूना लगाता है प्रबंधन को बहुत आसानी से कुप्रबंधन बनाया जाता है....!
  24. मौसम की रखवाली करेंगे....... - नीम का एक पेड़ बाहर के, ओसारे से लगे तो गर्मियों के दिन में उसकी छांव में बैठा करेंगे!
  25. अगज़ल - इतना बेगानापन दिखाओगे, सोचा न था मेरी हार का जश्न मनाओगे, सोचा न था । तड़पने, आहें भरने का माद्दा तो था मगर ...!
  26. राम-राम भाई....इस साधारण से उपाय को अपनाइए मोटापा घटाइए *मोटापा कम करने के लिए ज़रूरी नहीं है आप कम खाएं .बिल्कुल ज़रूरी नहीं है आप भूखों रहें .एक आसान सा उपाय है....! अन्त में देखिए एक कार्टून...!
  27. काजल कुमार के कार्टून ,
?

23 comments:

  1. बेहतरीन प्रस्तुति । आकर्षक लिंक । आभार शास्त्री जी ।

    ReplyDelete
  2. चर्चा मंच पर कार्टून को भी जगह देने के लि‍ए आपका आभार

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छे लिंक्स के साथ
    हुवा है आज की चर्चा का आगाज ।
    लिंक शामिल किया आभार !!!

    ReplyDelete
  4. बढ़िया सूत्र, पर सन्नाटे कहाँ जख्मी होते हैं, वे तो पसरते जा रहे हैं।

    ReplyDelete
  5. जल्दी जल्दी में सही, लिंक्स किंतु भरपूर
    सुंदर चर्चा हो गई , दिखा रूप पर नूर.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छे लिंक्स,,,,,,

    ReplyDelete
  7. vistrit bahut badhia charcha ...
    abhar Shastri ji .

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स ... आभार ।

    ReplyDelete
  9. bahot achchi lagi.....aabhari hoon,mujhe shamil karne ke liye.

    ReplyDelete
  10. मज़ा आया इस चर्चा का ... शुक्रिया मुझे शामिल करने का ...

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया लिंक्स के साथ सार्थक चर्चा प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  12. Very nice post.....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete
  13. bndhuvr hardik aabhar swikar kren

    ReplyDelete
  14. बढ़िया लिंक्स सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  15. bahut achche links diye aur sath hi mere aalekh ko shamil karne ke liye dhanyavad !

    ReplyDelete
  16. बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर चर्चा

    एक ब्लॉग सबका
    की पोस्ट को स्थान देने का शुक्रिया....

    ReplyDelete
  17. बहुत बहुत धन्यवाद सर! मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए।

    सादर

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर सूत्रों से सजा चर्चामंच

    ReplyDelete
  19. शानदार चर्चा
    आभार............

    ReplyDelete
  20. सर,बहुत अच्छी चर्चा---कई नये लिंक्स भी मिले--मेरी पोस्ट को भी इस चर्चा में शामिल करने के लिये आभार स्वीकार करें।
    पूनम

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...