Followers

Thursday, June 21, 2012

चर्चा - 917

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
मैं अभी ओशो साधना शिविर के लिए सोलन जा रहा हूँ ,  चलते -चलते जल्दबाजी में कल की चर्चा हेतु कुछ लिंक दिए जा रहा हूँ आशा है आपको पसंद आएँगे 
चलते हैं चर्चा की ओर 
ब्लॉगमंच
ZEAL
Hindi Bloggers Forum International (HBFI)
मेरा फोटो
अंत में 
आज के लिए बस इतना ही 
धन्यवाद

21 comments:

  1. आज तो बहुत सी लिंक्स दे कर बहुत आनंदित कर दिया है आपने |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद मित्र ! चर्चा कुछ अपेक्षित नहीं लगी जैसा की इसका स्वभाव व जो स्वरुप प्राप्त है , पुनः साधुवाद मेरी पुस्तक प्रकाशन की सूचना हेतु ....अग्रेतर प्रभामयी रहेगी चर्चा ,मुझे विस्वास है ....

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति।
    अच्छी चर्चा करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सूत्र संकलन...

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा ....आभार

    ReplyDelete
  6. उम्दा लिंक्स सुंदर चर्चा !

    ReplyDelete
  7. आभार
    भाई दिलबाग जी ||

    ReplyDelete
  8. अच्छी चर्चा करने के लिए आभार, दिलबाग जी !

    ReplyDelete
  9. सुन्दर लिंक्स सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  10. बेहद सुन्दर लिंक्स संजोये हैं आज की चर्चा में,मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए आभार.....

    ReplyDelete
  11. सुंदर लिंकों के साथ मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभार,,,,,,,

    ReplyDelete
  12. अच्छे लिंक्स
    अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया चर्चा ....आभार

    ReplyDelete
  14. प्रेरक कथाएं चर्चा में शामिल करने के लिए धन्यवाद.


    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    ReplyDelete
  15. वाह ... बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  16. इतनी बड़ी सी चर्चा में नन्हे से " हरे जनाब " को शामिल करने के लिए ढेर सारा थैंक्यू !!!

    ReplyDelete
  17. pathniya, prashansaniya sankalan

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  18. sundar charcha, achchhe links...aabhar

    ReplyDelete
  19. लिंक्स की गुणवत्ता से प्रभावित हूं।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...