चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, January 23, 2013

हे नेताजी ! प्रणाम करूँ (बुधवार की चर्चा-1133)


आप सबको प्रदीप का नमस्कार |
आज महान देशभक्त नेताजी सुभाष चन्द्र बोस जी की 116वीं जयंती है | इस महापुरुष को मेरी, चर्चा मंच और समस्त देशवासियों की ओर से शत-शत नमन |
ये बात मैं पहले भी कह चुका हूँ और आज फिर इस मंच के माध्यम से ये मांग उठा रहा हूँ कि 23 जनवरी को "देशभक्ति दिवस" घोषित करते हुए राष्ट्रीय छुट्टी का दिन घोषित किया जाना चाहिए |

हे नेताजी ! प्रणाम करूँ
आज नेताजी जयंती के साथ-साथ मेरे अनुज 'रघु' का भी जन्मदिन है । अनुज को शुभकामना स्वरूप पहले की लिखी हुई ये छोटी-सी रचना ।

'ज'ग के उजियारे बनो,
'न'मन जिसे खुद सफलता करे;
'म'न में सबके मूर्ति हो जिसकी,
'दि'ल से सब जिसकी पूजा करे;
'न'त कर दे जो हर दुश्मन को,
'मु'श्किल में भी साहसी बन;
'बा'त से सबको जीत ले हरदम,
'र'घु तू बिल्कुल वैसा बन;
'क'ल्पना नहीं ये दुआ है मेरी,
'हो' न हो तू वैसा बन ।


(सभी पंक्तियों का पहला अक्षर मिलाने पर-"जनम दिन मुबारक हो" ।)

पधार रहे है .........

कुछ कहानियाँ,कुछ नज्में
आज के लिए बस इतना ही | मुझे अब आज्ञा दीजिये | मिलते हैं अगले बुधवार को कुछ अन्य लिंक्स के साथ |
तब तक के लिए अनंत शुभकामनायें |
आभार |

34 comments:

  1. सबसे पहले नेता जी को प्रणाम और बहुत अच्छा लिँक दिया हैँ आपकी चर्चा का बात ही अलग होता हैँ

    आज बहुत दिनो के बाद एक कहानी लिखी अपने ब्लाँग उमँगे और तरंगे पर कहानी मेँ हैँ एक रात कि बातएक रात की बात हैँ आँसमा के चाँद को शुकून से देख रहा था बस देख रहा था कि चाँद को और चाँदनी रात हो गयी और एक रात वह थी जो चाँद को देख रहा था...[ पुरा पोस्ट पढने के लिए टाईटल पर क्लिक करेँ ]

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया चर्चा ...शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  3. इंजीनियर प्रदीप कुमार साहनी जी!
    बहुत परिश्रम करते हैं आप चर्चा लगाने में!
    चर्चा का कलेवर और चयन बहुत मनभावन है!
    आभार आपका!

    ReplyDelete
  4. प्रदीप जी शुभप्रभात |उम्दा चर्चा सजाई है |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  5. लो जी,
    सब लिंको पर जाकर टिप्पणियाँ दे आये हैं!
    --
    वरिष्ठ गणतन्त्रदिवस की अग्रिम शुभकामनाएँ और नेता जी सुभाष को नमन!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी टिप्पणी पढ़कर हम भी आये हम भी आये :D
      ---
      अग्नि मिसाइल: बढ़ती पोस्ट चोरियाँ और घटती संवेदनशीलता, आपकी राय?

      Delete
  6. मित्र! बहुत सुन्दर चर्चा ,अनेकों ,बहु -विधाओं में संवारी गयी यतन से प्रस्तुति सार्थक व अपने उद्देश्य में सफल है ,शुभकामनाएं जी .....

    ReplyDelete
  7. आकर्षक चर्चा..आभार .

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया |
    प्रिय प्रदीप जी शुभकामनाये |
    आदरणीय नेता जी को सादर नमन ||

    ReplyDelete
  9. bahut sundar charcha...inmay mujhe shamil karne ka shukriya

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति के लिए आभार!

    ReplyDelete
  11. प्रदीप भाई बेहद सुन्दर चर्चा लगाई है लिंक्स इतनी सुन्दरता से पेश किये हैं की बस देखते ही बनता है हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  13. नेता जी को शत शत नमन ..
    सेकुलर टोपी धारियों के के आधीपत्य वाले ब्लागजगत पर आप ने हिन्दू की व्यथा कथा को स्थान दिया इसलिए आप को साधुवाद .. अन्यथा यहाँ ज्यादातर सावन के अंधे है जिन्हें हरा के अतिरिक्त कुछ नहीं दिखता ..

    जय श्री राम

    ReplyDelete
  14. बढिया चर्चा प्रदीप जी
    आकर्षक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  15. मै हिंदुस्थान का हिन्दू हूँ मै आतंकी हूँ

    करो कुछ तो भाई शिंदे !

    काहे कू हम हैं जिन्दे !

    सभी के सब हैं टिंडे .

    बहुत बढ़िया सेतु चयन ,साफ़ दिखने वाला बड़ा प्रिंट ,.आभार हमें शरीक करने का चर्चा मंच में .बधाई खूबसूरत श्रम साध्य संयोजन समन्वयन के लिए .

    ReplyDelete

  16. मै हिंदुस्थान का हिन्दू हूँ मै आतंकी हूँ

    करो कुछ तो भाई शिंदे !

    काहे कू हम हैं जिन्दे !

    सभी के सब हैं टिंडे .

    सी आई ए एजेंट का बिल्ला लगाके पीलू मोदी संसद में आये थे ,-

    हिन्दू आतंकी हिन्द के ,हम बिल्ला यही लगायेंगे .

    शिंदे को रोज़ खिजायेंगे .


    पर बहुत हो चुकी धैर्य परीक्षा, अब चन्दन अनल दिखायेगा,
    भाई भाई के नारे को,अब फिर से परखा जायेगा.,
    गर भाई हो कौरव जैसा,तो अर्जुन शस्त्र उठाएगा।
    गाँधी का ये गाँधी दर्शन,अब चक्र सुदर्शन लाये,
    डंडे वाला बूढ़ा गाँधी ,अब सावरकर बन जायेगा।
    शत वर्षों से सहते आये,अब और नहीं सहा जायेगा.
    अब हिन्दुस्थान का हर हिन्दू,राणा प्रताप बन जायेगा।
    तब बाबर की जेहादी सेना में, उथल पुथल हो जाएगी,
    गुजरात की कुछ बीती यादें, फिर से दोहराई जाएँगी।
    जौहर की बाते बीत गयी,अब चंडी शस्त्र उठाएगी,
    गर हुआ जरुरी तो बहने,प्रज्ञा ठाकुर बन जाएँगी॥
    पर पांडव ने भी कौरव को,अंतिम सन्देश सुनाया था,
    खुद योगेश्वर ने जाकर भी,दुर्योधन को समझाया था।
    तुम हिंसक आतातायी हो,तुम कौरव हो पर भाई हो,
    यदि जीना है तो जीने दो,या मरने को तैयार रहो,
    ये बात सभी को समझाता मैं आतंकी हूँ॥
    मैं हिन्दुस्थान का हिन्दू हूँ,मैं आतंकी हूँ॥

    ReplyDelete
  17. एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

    मंगलवार, 22 जनवरी 2013
    मै हिंदुस्थान का हिन्दू हूँ मै आतंकी हूँ

    RSS HELPING MUSLIM PEOPLES

    युवराज राहुल गांधी(रौल विंची) की ताजपोशी होते ही कांग्रेस ने हिंदुओं के खिलाफ जहर उगलना शुरू कर दिया इसी कड़ी मे माननीय गृहमंत्री ने पाकिस्तान का आतंकवाद भूल कर हिंदुओं को आतंकवादी साबित करने का एक अभियान शुरू कर दिया है॥ स्पष्ट है चुनाव का बिगुल बज चुका है और कांग्रेस ने हिंदुओं को आतंकवादी बता कर अपना मुसलमान वोट बैंक सुदृढ़ करने की शुरुवात कर दी है ॥ कांग्रेस की परिभाषा से मैन एक घोषित एक हिन्दू आतंकवादी हूँ और ये है मेरी आतंक की इबारत और आवाज..."जय श्री राम"
    सी आई ए एजेंट का बिल्ला लगाके पीलू मोदी संसद में आये थे ,-

    हिन्दू आतंकी हिन्द के ,हम बिल्ला यही लगायेंगे .

    शिंदे को रोज़ खिजायेंगे .

    ReplyDelete
  18. नेता जी को शत-शत नमन... बहुत आकर्षक है आपकी चर्चा...स्थान देने के लिए शुक्रिया...

    ReplyDelete
  19. सामयिक प्रासंगिक दो टूक ,शर्म उनको फिर भी नहीं आती .

    लज्जा लुटती देख नारि की,
    कैसे चुप हो जाऊँ मैं,
    देख शासकों की चुप्पी को,
    गुमसुम क्यों हो जाऊँ मैं,
    मातृमूमि से गद्दारी को,
    सहन न मन कर पाता है।
    स्याही नहीं लेखनी में अब,
    खून उतरकर आता है।।


    "१६००वीं पोस्ट"
    @ उच्चारण

    ReplyDelete
  20. सामयिक प्रासंगिक दो टूक ,शर्म शिन्दों को फिर भी नहीं आती .

    हम गधे इस देश के है, घास खाना जानते हैं।
    लात भूतों के सहजता से, नहीं कुछ मानते हैं।।

    मुफ्त का खाया हमॆशा, कोठियों में बैठकर.
    भाषणों से खेत में, फसलें उगाना जानते हैं।

    कृष्ण की मुरली चुराई, गोपियों के वास्ते,
    रात-दिन हम, रासलीला को रचाना जानते हैं।

    राम से रहमान को, हमने लड़ाया आजतक,
    हम मज़हव की आड़ में, रोटी पकाना जानते हैं।

    देशभक्तों को किया है, बन्द हमने जेल में,
    गीदड़ों की फौज से, शासन चलाना जानते हैं।

    सभ्यता की ओढ़ चादर, आ गये बहुरूपिये,
    छद्मरूपी “रूप” से, दौलत कमाना जानते हैं।

    ReplyDelete
  21. हमारी ब्लॉग पोस्ट को शामिल करने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद!


    सादर

    ReplyDelete
  22. नेता जी को शत-शत नमन और रघु को जन्‍मदि‍न की ढेरों शुभकामनाएं...आज लगभग सभी पोस्‍ट पर गई मैं। चर्चामंच अच्‍छा लगा। मेरी कवि‍ता के लि‍ए आभार।

    ReplyDelete
  23. मोबाईल वर्ल्ड : Which can run mobile deviceenabling the Free Inter...: कौन सा मोबाइल उपकरण चला सकते हैँ फ्री इन्टरनेट फ्री इन्टरनेट मोबाइल से चलाने की बात करे तो सबसे पहला ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. वरुण जी!
      इस कमेंट का क्या उद्देश्य है?
      आप चर्चा के बारे में भी तो कुछ कहिए।
      मात्र विज्ञापन लगाने के लिए चर्चा मंच नहीं है!

      Delete
  24. नेता जी सुभाष चंद्र बोस जी को शत-शत नमन !!!
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  25. प्रदीप कुमार जी आकर्षक ,पठनीय लिंक्स से सजी चर्चा हेतु हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  26. रोचक सूत्रों से सजी चर्चा..

    ReplyDelete
  27. बहुत बढ़िया चर्चा ...मुझे शामिल करने का आभार प्रदीप कुमार जी..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin