समर्थक

Thursday, January 31, 2013

सिर्फ दिखावा बाकी है ( चर्चा - 1141 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
आज दिन में फेसबुक के बहुत से स्टेट्स देखे , मीडिया के विभिन्न माध्यम देखे, सभी गांधी जी को याद कर रहे थे , लेकिन क्या 2 अक्टूबर और 30 जनवरी को गांधी जी को याद कर लेने से उनके सपने साकार हो जाएंगे , सत्य और अहिंसा दोनों को हम लगभग छोड़ चुके हैं , बची है तो सिर्फ गांधी टोपी या खादी के वस्त्र जो फैशन के रूप में या दिखावे के रूप में नजर आते हैं , गांधीवाद को मारकर गांधी जी को याद करना बे मा'नी है ।
चलते हैं आज की चर्चा की ओर 

गाँधी जी का अंतिम दिन 

प्रविष्टि भेजने का अंतिम दिन आज 
उच्चारण
बिखरी है छटा मुक्तकों की 

रितेश गुप्ता का कौसानी का यात्रा वृत्तांत 
My Photo
इमरोज के नाम हरकीरत जी की कविता हीर होने के लिए 

पूर्वाभास पर हैं पंखुरी सिन्हा जी की कविताएँ 

पुरुषों के द्वारा महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध

रश्मि जी कह रही हैं - प्रेम की भाषा भयानक हो गई है 

प्रेम में होना सच में बुरा नहीं होता - रश्मि 

भोला भाला प्यार’ कहाँ से लाओगे ?
My Photo
रजनी मल्होत्रा जी की शायरी 
मेरा फोटो
पंडित जी का तोता 
Karbonn-S1-Titanium
जानिए ई - पंडित की राय 

फेसबुक रत्न के लिए इरा ताक़ की प्रविष्टि 

एक ग़ज़लनुमा रचना मेरी भी 

तरही मुशायरे की एक ग़ज़ल 
Kshatrani Kunwarani Nisha
दिल्ली कांड पर कुंवरानी निशा कुंवर के विचार 

मासूमियत की परिभाषा क्या है ?
"लिंक-लिक्खाड़"
अंधी देवी न्याय की, चालें डंडी-मार

तो क्या इतिहास ने फिर खुद को दोहराया है

हिंदी में कम्प्यूटर ज्ञान 
निरामिष
अब बारी ई - ईलाज की 
My Photo
भीड़-तन्त्र की डाली पर,अब न जाने कौन सा फूल बैठेगा

स्मरण देशभक्त सूफी अम्बा प्रसाद जी का 

शकुन्तला के प्रश्न 


"छाया चारों ओर उजाला"

आज की चर्चा में बस इतना ही 
धन्यवाद 
दिलबाग विर्क 

21 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा!
    आज से 3 दिनों के लिए बाहर जा रहा हूँ!
    दिलबाग विर्क जी आपका आभार!

    ReplyDelete
  2. अच्छी सधी हुयी चर्चा..... आभार

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन चर्चा बहुत बहुत बधाई दिलबाग जी

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा, आभार विर्क जी !

    ReplyDelete
  5. काफ़ी सुन्दर लिंक संयोजन

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर चर्चा के साथ साथ अच्छे लिंक्स भी शामिल किये हैं, मेरी रचना को स्थान मिला है तहे दिल से आभार भ्राताश्री दिलबाग जी. सुन्दर चर्चा हेतु हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  7. चर्चा के पायदान बहुत ही अच्छे हैं .... मैं भी हूँ तो बहुत ख़ुशी हुई

    ReplyDelete
  8. मुझे काफी अच्छे लिंक मिले आज के इस चर्चा मंच.....आपका आभार...

    ReplyDelete
  9. दिल बाग बाग हो गया दिलवाग जी ! बहुत अच्छे लिँक संयोजन
    आप कभी हमारे ब्लाँग पर भी आयेँ

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर चर्चा दिलबाग जी,
    मेरी रचना को स्थान मिला है तहे दिल से
    आपका आभार!

    ReplyDelete
  11. प्रभावी चर्चा-
    आभार भाई दिलबाग जी ||

    ReplyDelete
  12. सुन्दर लिक्स.. बहुत सुन्दर चर्चा दिलबाग जी, ..आभार

    ReplyDelete
  13. सुंदर प्रभावी लिक्स,,,बधाई दिलबाग जी,,,,

    recent post: कैसा,यह गणतंत्र हमारा,

    ReplyDelete
  14. अच्छी चर्चा है। कम सक्रियता के इन दिनों में ऐसे पोस्ट बेहद उपयोगी हैं।

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया सचित्र चर्चा प्रस्तुति ...
    आभार...

    ReplyDelete
  16. सुन्दर सूत्रों से सजी चर्चा..आभार..

    ReplyDelete
  17. बेहतरीन चर्चा के लि‍ए बधाई....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आपका आभार

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर संयोजन ...उपयोगी लिंक्स ..

    ReplyDelete
  19. आपने मेरी पोस्ट का लिंक यहाँ होने की सूचना दी, आपका आभार!
    लेकिन मेरी पोस्ट की चर्चा तो इसमें है ही नहीं!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin