Followers

Wednesday, January 09, 2013

सच तो ये है कि ..(बुधवार की चर्चा-1119)


आप सबको प्रदीप का प्रणाम |
2013 की मेरी पहली चर्चा में आप सबका हार्दिक अभिनंदन है | पिछले बुधवार को कुछ अपरिहार्य कारणों से चर्चा नहीं लगा पाया था | तो अब शुरू करते हैं आज की चर्चा:-
सच तो ये है कि ..
- suresh agarwal adhir
आज दो शेर हाजिर हैं..
- पी.सी.गोदियाल "परचेत"
अनकही
- kavita verma
dilli
- Kirti Vardhan
वादा है तुमसे मेरा....
- Archana
दो आँखें
- ऋता शेखर मधु
आज के लिए बस इतना ही | फिर मिलते हैं अगले बुधवार को कुछ नए लिंक्स के साथ |
तब तक के लिए आज्ञा दीजिये |
आभार |

24 comments:

  1. सभी लिंक्स उत्कृष्ट...व्यवस्थित चर्चामंच...आभार !!

    ReplyDelete
  2. अपने ब्‍लॉग को इस चयन में देखकर अच्‍छा लगा। आपकी कृपा दृष्टि के लिए आभार। कोटिश: धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  3. चर्चा में बेहतर लिंक पर्स्तुत करने और मेरी रचना सम्मिलित करने हेतु आपका आभार प्रदीप जी !

    ReplyDelete
  4. वैरी नाईस साहनी जी। बेहद सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  5. बढ़िया चर्चा।

    ReplyDelete
  6. प्रदीप भाई सुन्दर ढंग से लिंक्स को सजाया है बेहद सुन्दर चर्चा हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  7. बढिया चर्चा
    मुझे शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा-
    आभार भाई प्रदीप जी ||

    ReplyDelete
  9. वाह कमाल का चर्चा अच्छे लिँक संयोजन ,,
    हे राम ! क्या बोल गए आसाराम ...
    - महेन्द्र श्रीवास्तव की पोस्ट कमाल का लगा इसे चर्चा मेँ शामिल करने का शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  10. सभी लिंक्स सराहनीय

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब . लिंक्स अच्छे लगे .

    ReplyDelete
  13. उम्दा लिंक्स के साथ सजाया है चर्चा मंच प्रदीप जी |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  14. छत्तीसगढ़ शासन एवं उसके मंत्री मदिरापान कर सर्वप्रथम अनर्गल
    प्रलाप बंद करे तत पश्चात मदिरा के विक्रय पर प्रतिबंध लगाए और
    अपने ऊपर बैठे स्वामियों की कठपुतली न बनकर किसी अच्छे गुरु
    के शरणागत हो उत्तम शासन व्यवस्था की कला सीखे.....

    ReplyDelete
  15. badiya links..mujhe charcha me shamil karne ka shukriya..

    ReplyDelete
  16. छत्तीसगढ़ शासन एवं उसके मंत्री मदिरापान कर सर्वप्रथम अनर्गल
    प्रलाप बंद करे तत पश्चात मदिरा के विक्रय पर प्रतिबंध लगाए और
    अपने ऊपर बैठे स्वामियों की कठपुतली न बनकर किसी अच्छे गुरु
    के शरणागत हो उत्तम शासन व्यवस्था की कला सीखे.....

    ReplyDelete
  17. अनुपम लिंक्‍स संयोजन ...
    आभार

    ReplyDelete
  18. बहुत-बहुत बधाइयाँ

    ReplyDelete
  19. बढ़िया चर्चा!
    अच्छे पठनीय लिंक!
    आभार!

    ReplyDelete
  20. sunder, jaankari liye links ke saath sunder 'cartoon' mein meri panktiyon ko samman dene ke liye abhaar.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...