Followers

Friday, April 05, 2013

रविकर चोंच लडाय, बाज को पुन: जिताए: चर्चा मंच 1205

आये बाज बजाज नहिं , राहुल की इस्पीच । 
बॉडी लैंग्वेज भा गई, भूले बाकी चीज । 
भूले बाकी चीज, भाजपा को ना भाये । 
मोदी पर बेवजह, बहुत राहुल झल्लाये । 
रविकर चोंच लडाय, बाज को पुन: जिताए । 
गौरैय्या का भाग्य, बाज फिर से ना आये ॥ 

 १ 

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) 

२ 

आजादी रो दीवानों: सागरमल गोपा (३ नवम्बर १९०० -४ अप्रैल १९४६)

Rohitas ghorela  

३  

! अंतिम लक्ष्य !

धीरेन्द्र अस्थाना 


४ 

Rudrprayag- panch prayag-तिलवाडा से रूद्रप्रयाग


MANU PRAKASH TYAGI 


5

उसूलों पे जहाँ आँच आये टकराना ज़रूरी है...वसीम बरेलवी

डा. मेराज अहमद 


6

प्रधानमंत्री पद की उम्‍मीदबारी और बयान बाबू का बयान : संतोष त्रिवेदी मिलाप और जनवाणी 4 अप्रैल 2013 में प्रकाशित : पहचान लें इन्‍हें




7

कवि की मज़बूरी ....

Sunil Kumar 








14

PUSHY MOM,DOUBTING KID

Virendra Kumar Sharma 





"मयंक का कोना"
(1)

आज तुम नहीं हो तो क्या सूरज नहीं निकला , 
पर उसमे वो चमक ही कहाँ .......... 
आज तुम नहीं हो तो क्या फूल नहीं खिला , पर उसमे वो महक ही कहाँ ........
(2)
महिलाओं के लिए समानता का अधिकार
सरकार, महिला संगठनों के तथा विभिन्न स्तरो पर लोगों के सामूहिक और सतत प्रयासों का नतीजा है कि महिलाएं एक ताकत के रूप मे उभर रहीं है । महिलाओं के लिए समानता के अधिकारों की लड़ाई अभी भी जारी है किन्तु समानता का अधिकार अभी तक पूरी तरह मिल नहीं पाया ...
(3)
आखिरी हिचकी 

चंद घड़ियाँ बची हैं मेरी जिंदगी की..
(4)

महिलाओं के लिए समानता का अधिकार »सरकार, महिला संगठनों के तथा विभिन्न स्तरो पर लोगों के सामूहिक और सतत प्रयासों का नतीजा है कि महिलाएं एक ताकत के रूप मे उभर रहीं है । महिलाओं के लिए समानता के अधिकारों की लड़ाई अभी भी जारी है किन्तु...

24 comments:

  1. रविकर भाई, आपका चर्चा का अंदाज दिलचस्‍प ही नहीं लाजवाब भी है। बधाई स्‍वीकारें।


    इसके साथ ही मैं कहना चाहूंगा कि संभवत: आप परिचित ही होंगे कि ब्‍लॉग जगत के लिए डॉयचे वेले, जर्मनी से दिये जाने वाले अन्‍तर्राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार के लिए 'हिन्‍दी का सर्वश्रेष्‍ठ ब्‍लॉग' श्रेणी के नामांकन में चुने गये 10 ब्‍लॉगों में तस्‍लीम एवं सर्प संसार के नाम शामिल (सर्प संसार एक अन्‍य श्रेणी 'सबसे रचनात्‍मक' में भी शामिल) हुए है।

    इन दोनों ब्‍लॉगों ने यह दर्जा अपने कंटेंट एवं आप सबके प्‍यार की बदौलत पाया है। लेकिन चूंकि अब फाइनल वोटिंग शुरू हो गयी है, इसलिए इस बढ़त को निर्णायक मोड तक पहुंचाने के लिए आपके स्‍नेह/आशीर्वाद की भी नितांत आवश्‍यकता है।

    कृपया 'तस्‍लीम' एवं 'सर्प संसार' के प्रति अपने प्‍यार को ऐतिहासिक बनाने के लिए अपना वोट एवं सपोर्ट प्रदान करने की कृपा करें। इस सम्‍बंध में विस्‍तृत जानकारी यहां पर उपलब्‍ध है।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी चर्चा का अन्दाज़ ही निराला है रविकर जी!
    आभार!

    ReplyDelete
    Replies
    1. behad sundar prastuti .....yah andaj behad khas laga , sabhi links sundar hai badhai aapko

      Delete
  3. बेहद उम्दा लिंक्स.......और मेरी प्रविष्ठी को यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  4. चर्चा मंच को मेरा बहुत बहुत धन्यवाद।

    मुझे ख़ुशी हैं की अब अमर शहीद श्री सागरमल गोपा जी के बारे में बहुत से लोग और जान पाएंगे

    ReplyDelete
  5. आज की चर्चा में बहुत गजब के लिंक्स का समायोजन हैं

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा.... धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा.. मेरी प्रविष्ठी को यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक आभार....

    ReplyDelete
  8. आदरणीय गुरुदेव श्री बहुत ही सुन्दर चर्चा लगाई है आपने अच्छे पठनीय सूत्र दिए हैं, हार्दिक बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत लिंक संयोजन …………बढिया चर्चा

    ReplyDelete
  10. बढिया चर्चा,अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  11. कमाल के लिंक लगाएं हैं... बामुलाहिज़ा कार्टून तो ज़बरदस्त है :-)

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर चर्चा अच्छे लिंक्स.... धन्यवाद

    ReplyDelete
  13. रविकर जी, बहुत श्रम से सजाई चर्चा..आभार!

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन प्रस्‍तुति

    आभार

    ReplyDelete
  15. आदरणीय रविकर भाई सुन्दर सार्थक चर्चा हेतु हार्दिक बधाई प्रिय शशि पुरवार जी का चर्चा मंच पर हार्दिक अभिनन्दन है ।

    ReplyDelete
  16. आदरेया शशि पुरवार जी चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, हार्दिक बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  17. शशि जी आपका इन्तजार रहेगा इस मंच पर आने के लिए |चर्चा मंच पर आपके आगमन का स्वागत है |
    आशा

    ReplyDelete
  18. आदरणीय रविकर जी जितनी सुन्दर रचनायें लिखते हैं उतना ही सुन्दर संयोजन भी करते हैं। बहुत ही सुन्दर लिंक्स संजाए हैं आज और बेहतरीन प्रस्तुति ने आज की चर्चा को और भी आकर्षक बना दिया। बधाई।
    शशि पुरवार जी का स्वागत। बुधवार को यहां उनकी पहली पोस्ट की प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  19. क्या कहने
    बहुत सुंदर रचनात्मक लिंक्स
    सभी रचनाकारों को बधाई
    शानदार संयोजन

    ReplyDelete
  20. बेहतरीन लिंकों का चयन कल छुट्टी था इस लिए आज ही लिंकों को पढ़ने को मिले.बहुत ही उम्दा प्रस्तुति आदरणीय.

    ReplyDelete
  21. रविकर भाई देर से आने की माफ़ी .चर्चा मंच में आपने हमारी पोस्ट को सजाया ,शुक्रिया .बहुत मेहनत से तैयार की गई है यह चर्चा ,सेतु संयोजन और चयन सुन्दर .बधाई .

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुन्दर सूत्र..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...