चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, November 06, 2014

सतिगुरु नानक प्रगटिया {चर्चा - 1789 }

 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
सबसे पहले सभी को गुरु पर्व की हार्दिक बधाई । वैसे यह महत्वपूर्ण दिन भी सरकार के तुगलकी आदेशों की भेंट चढ़ चुका है और इस दिन भी झाड़ू के साथ हम स्कूल में उपस्थित हैं । पिछले डेढ़ माह से पढ़ाई चौपट है वो अलग, ऊपर से परीक्षा परिणाम की चिंता भी । वैसे जनता खुश है क्योंकि सभी का मानना है कि अध्यापक कौन-सा कस्सी चलाते हैं । शायद कस्सी चलाना ही दुनिया का एकमात्र काम है । 
मेरा फोटो
मेरे बारे में
clip_image002[4]
********

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    गुरू नानक देव जयन्ती और कार्तिक पूर्णिमा
    (गंगा स्नान) की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. सुंदर चर्चा सजाई है दिलबाग । आभार 'उलूक' का सूत्र 'हद हो गई बेशर्मी की देखिये तो जरा ‘उलूक’ को रविवार के दिन भी बेवकूफ की तरह मुस्कुराता हुआ दुकान खोलने चला आयेगा' को जगह दी ।

    ReplyDelete
  4. गुरुनानक जयन्ती पर सब को हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आज की चर्चा और सूत्र बढ़िया हैं |

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    सबको गुरुनानक जयन्ती की हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  6. गंगा-स्नान/नानक-जयन्ती(कार्त्तिक-पूर्णिमा) की सभी मित्रों को वधाई एवं तन-मन-रूह की शुद्धि हेतु मंगल कामना !
    समयानुकूल इस लिंक की वधाई और मेरी रचना के उप में इस में मुझे सभी के साथ जोड़ने हेतु धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. Bahut hi umda links...Aapko bhi guru purnima ki hardik badhayi....sunder prastuti !!

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद दिलबाग विर्क जी..

    सादर आभार..!!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin