समर्थक

Thursday, November 06, 2014

सतिगुरु नानक प्रगटिया {चर्चा - 1789 }

 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
सबसे पहले सभी को गुरु पर्व की हार्दिक बधाई । वैसे यह महत्वपूर्ण दिन भी सरकार के तुगलकी आदेशों की भेंट चढ़ चुका है और इस दिन भी झाड़ू के साथ हम स्कूल में उपस्थित हैं । पिछले डेढ़ माह से पढ़ाई चौपट है वो अलग, ऊपर से परीक्षा परिणाम की चिंता भी । वैसे जनता खुश है क्योंकि सभी का मानना है कि अध्यापक कौन-सा कस्सी चलाते हैं । शायद कस्सी चलाना ही दुनिया का एकमात्र काम है । 
मेरा फोटो
मेरे बारे में
clip_image002[4]
********

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    गुरू नानक देव जयन्ती और कार्तिक पूर्णिमा
    (गंगा स्नान) की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. सुंदर चर्चा सजाई है दिलबाग । आभार 'उलूक' का सूत्र 'हद हो गई बेशर्मी की देखिये तो जरा ‘उलूक’ को रविवार के दिन भी बेवकूफ की तरह मुस्कुराता हुआ दुकान खोलने चला आयेगा' को जगह दी ।

    ReplyDelete
  4. गुरुनानक जयन्ती पर सब को हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आज की चर्चा और सूत्र बढ़िया हैं |

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    सबको गुरुनानक जयन्ती की हार्दिक शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  6. गंगा-स्नान/नानक-जयन्ती(कार्त्तिक-पूर्णिमा) की सभी मित्रों को वधाई एवं तन-मन-रूह की शुद्धि हेतु मंगल कामना !
    समयानुकूल इस लिंक की वधाई और मेरी रचना के उप में इस में मुझे सभी के साथ जोड़ने हेतु धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. Bahut hi umda links...Aapko bhi guru purnima ki hardik badhayi....sunder prastuti !!

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद दिलबाग विर्क जी..

    सादर आभार..!!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin