साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, November 20, 2014

तमाचा है आदमियत के मुँह पर { चर्चा - 1803 }

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
वर्तमान में जो कुछ हरियाणा में हो रहा है उस पर बस इतना ही कह सकता हूँ - 
चलते हैं चर्चा की ओर  
मेरा फोटो
My Photo
मेरा फोटो
भदेस...देहाती
My Photo
मेरा फोटो

धन्यवाद  
******

15 comments:

  1. सुप्रभात |समसामयिक सूत्र |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete
  2. सुंदर चर्चा दिलबाग । आभार 'उलूक' के सूत्र 'कहने को कुछ नहीं है ऐसे हालातों में कैसे कोई कुछ कहेगा' को स्थान देने के लिये ।

    ReplyDelete
  3. बढ़िया लिंक्स-सह-चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  4. काफी अच्छे linksदिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर लिंक्स |आपका बहुत बहुत शुक्रिया विर्क साहब |

    ReplyDelete
  6. बहुत बढियाँ चर्चा

    ReplyDelete
  7. बढ़िया चर्चा-
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  8. आदरणीय दिलबाग सर आप तो चित्रों के माध्यम से ही बोलती हुई सार्थक चर्चा कर देते हैं।
    --
    आपके अन्दाज का कायल हूँ मैं तो।
    --
    बहुत-बहुत आभार।

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  10. शुक्रिया चर्चा में स्थान देने के लिए

    ReplyDelete
  11. एक ये ही असंत है, बाकी तो सारे संत-महात्मा हैं.....बंद करो ये तमाशा.....

    ReplyDelete
  12. नीतू सिंघल जी का खुन्दक खाना वाज़िब है।
    क्योंकि इनका अपना सृजन कुछ नहीं है।
    ये हमेशा किसी पुस्तक से नकलमार कर पोस्ट लगाती हैं।
    जो यदा-कदा ही चर्चा मंच पर ली जाती हैं।
    रोज-रोज नहीं।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आरती उतार लो, आ गया बसन्त है" (चर्चा अंक-2856)

सुधि पाठकों! आप सबको बसन्तपञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। -- सोमवार की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (र...