चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, November 13, 2014

पढाई बनाम सफाई { चर्चा - 1796 }

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
इस बार बाल दिवस तो शिक्षक दिवस के दिन ही मनाया गया लेकिन अब देखना है इस सप्ताह में आने वाला बाल दिवस किस प्रकार मनाया जाएगा । वैसे स्कूलों में दिवस मनाने के कार्यक्रम इतने लम्बे चले हैं कि दो अक्तूबर के बाद पढ़ाई शुरू ही नहीं हुई, डर है सफाई अभियान के चलते पतनोन्मुख शिक्षा कहीं और रसातल में न धंस जाए । 
चलते हैं चर्चा की ओर 
मानवीय मूल्यों के लिए प्रतिबद्ध अनुष्ठान
My Photo
मेरा फोटो
My Photo
arvind kejariwal cartoon, aam aadmi party cartoon, AAP party cartoon, Delhi election, cartoons on politics, indian political cartoon
धन्यवाद 

13 comments:

  1. सुप्रभात
    आज उम्दा लिंक्स |कार्टून अच्छा लगा |

    ReplyDelete
  2. उपयोगी लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा।
    --
    आदरणीय दिलबाग विर्क जी आपका चर्चा लगाने का ढंग सबसे अनोखा है।
    चित्रों को देख कर ही पोस्ट को पढ़ने का कौतूहल मन में जाग जाता है।
    --
    आपका आभार।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सुसज्जित चर्चा, आभार हाइगा शामिल करने के लिए !!

    ReplyDelete
  4. लिंक्स की खुबसूरत चर्चा .....
    आभारी हूँ ..... बहुत बहुत धन्यवाद आपका चोका को स्थान देने के लिए

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर, सुव्यवस्थित एवं सार्थक लिंक्स के साथ मनोहारी मंच आज का ! "गुमशुदा बच्चों का दर्द" सबके साथ साझा करने का आपने जो अवसर दिया उसके लिये हृदय से धन्यवाद एवं आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर ब्लॉग पोस्टर लिंक्स चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
  7. उम्दा प्रभावी लिंक्स ....

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन लिंक्‍स एवं प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा

    बेहतरीन लिंक्‍स एवं प्रस्‍तुति

    ज़रा इधर भी गौर करियेगा ........

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर चर्चा दिलबाग । बंदरों ने ब्लागिंग के खिलाफ धरना दे दिया है । रोज टेलीफौन के तार पर अठ्खेलियाँ कर रहे है।नेट बंद ब्लागिंग बंद । कहीं नहीं जा पा रहे हैं पढ़ने के लिये । देखिये हनुमान जी की पूजा करते हैं क्या पता नेट काम करना शुरु करे और बंदर भी प्रसन्न हों। आभार मरी हुई सोच सूत्र को जगह दी ।

    ReplyDelete
  11. मेरी रचना के चयन के लिये धन्यवाद ..। लिंक्स देखती हूँ ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin