साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Monday, May 23, 2016

(चर्चा अंक-2351)

मित्रों
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
--
गरमी का मौसम आया है!
लीची के गुच्छे लाया है!!
IMG_1177 
दोनों ने गुच्छे लहराए!
लीची के गुच्छे मन भाए!!
--
एक मित्र की अंतिम संस्कार में भाग लेने हेतु मुझे उसके गाँव, अमीरपुर जाना पडा. हम दोनों एक साथ सेना में थे. सन इकहत्तर की लड़ाई में हम दोनों ने ही भाग लिया था. उस युद्ध में वह बुरी तरह घायल हो गया था. उसकी दोनों टांगें काटनी पडीं थीं. सेना से उसे सेवानिवृत्त कर दिया गया. अमीरपुर गाँव में उसकी पुश्तैनी ज़मीन थी. वह अपने गाँव चला आया. पर साधारण खेती करने के बजाय उसने बीज पैदा करने का काम शुरू किया... 
आपका ब्लॉग पर i b arora 
--
--
--
--
--

मेरे जाने के बाद 

बावरा मन पर सु-मन 
(Suman Kapoor) 
--

नीति की बातें 

क्रोध काम मद लोभ सब, हैं जी के जंजाल 
इनके चंगुल जो फँसा, पड़ा काल के गाल... 
Sudhinama पर sadhana vaid 
--
--
--
--

ये सवेरा रहे 

जो है तेरा वो तेरा रहे ,ये सवेरा रहे 
शायद ,जब तक इस जिंदगी का फेरा रहे... 
कविता-एक कोशिश पर नीलांश 
--

अलंकार 

अलंकार और उसके भेद के लिए चित्र परिणाम
बिना अलंकार श्रंगार अधूरा
बिना उसके साहित्य भी सूना
निखार रूप  में
तभी आता जब रूपसी
 सजी हो  अलंकारों से... 
Akanksha पर Asha Saxena 
--

इक जैसा होना जरुरी नही है.....!!! 

कहाँ मिलती थी हमारी सोच,  
हमारे ख्याल, 
कुछ भी तो, एक जैसा नही था हमारे बीच....  
फिर भी ना जाने क्या था हमारे बीच,  
जो हमे जोड़ता था....  
जो इक-दूसरे के करीब रखता लाता था... 
'आहुति' पर Sushma Verma 
--

तुमसे मैंने हवा ही हवा पाया 

प्रभात 
--

जादूगर अनि,  

जन्मदिन मुबारक! 

Pratibha Katiyar 
--

बाद गिरने के संभलना आए 

टूट कर बिखरा तो वजूद क्या  
टूट कर संवरना आए - 
गिरे पेड़ से भी कल्ले निकलते हैं  
बाद गिरने के संभलना आए... 
udaya veer singh 
--

कौन 

वे चुप हैं जिनसे उम्मीद थी ख़िलाफ़त की, 
कहीं और चलते हैं, यहाँ अब बचाएगा कौन ? 
पहचाना सा लगता है मुझे हर एक चेहरा, 
कौन यहाँ दोस्त है, दुश्मन है कौन... 
कविताएँ पर Onkar 
--
उन्ही राहों पर हम तन्हा चले हैं

कदम के निशाँ तेरे मेरे पड़े हैं ॥

वही रंग हैं और वही रूप भी है

मगर मेड नज़रें झुकाए खड़े है... 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"साँसों पर विश्वास न करना" (चर्चा अंक-2855)

मित्रों! मेरा स्वास्थ्य आजकल खराब है इसलिए अपनी सुविधानुसार ही  यदा कदा लिंक लगाऊँगा। रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  द...