समर्थक

Wednesday, May 25, 2016

"बादल घने हैं....." चर्चा मंच 2353


udaya veer singh 


डॉ. अपर्णा त्रिपाठी 


Manoj Nautiyal 


आनन्द विश्वास 


Ravishankar Shrivastava 


pramod joshi 


सुशील कुमार जोशी 


noreply@blogger.com (सतीश पंचम) 


ऋता शेखर मधु 

yashoda Agrawal 


Sushil Bakliwal 


चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 

Kumar Shiva 
लखनऊ में अपनी पैदाइश हुई ..
फिर मोहल्ले भर में नुमाइश हुई |

साईकिल तक टाँगे पहुँचने लगी,
फिर फेहरिस्त बनी, फरमाइश हुई |

जब बड़े हुए, और सियाने हुए , 
फिर दिल में जवान ख्वाहिश हुई |

कॉलेज से पढ़ लिख के निकले ,
फिर खुद की शुरू आजमाइश हुई |

कुछ यादों-इरादों के साथ आज ,
“कुश” की उमर अटठाइस हुई |
रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin