चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, June 09, 2016

नमन शहादत को ( चर्चा - 2368 )

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
यूँ तो सिख धर्म शहादतों से भरा पड़ा है, लेकिन इसकी शुरूआत हुई गुरू अर्जुन देव जी से | उन्होंने अन्याय के आगे झुकने से प्राण देना ज्यादा उचित समझा और इस दिन के बाद सिख धर्म का रूप बदला | भक्ति के साथ शक्ति को अपनाया गया | गुरू अर्जुन देव तक सभी पाँचों गुरू सिर्फ़ भक्त कवि थे | गुरू अर्जुन देव जी की सबसे बड़ी विशेषता है कि वे उच्चकोटि के संपादक थे, उन्होंने आदि ग्रन्थ जैसे महान ग्रन्थ का संपादन किया, जिससे न सिर्फ़ सिख धर्म अपितु पूरी मानव जाति लाभान्वित हुई | आज उनके शहादत दिवस पर उनको नमन |  
चलते हैं चर्चा की ओर
ऋता शेखर 'मधु'
My Photo
My Photo
मेरा फोटो
धन्यवाद 

1 comment:

  1. "यक्ष युधिष्ठिर संवाद महाभारत के वन पर्व का एक बहुत ही रोचक प्रसंग है। यक्ष प्रश्न इतना जटिल था की आज भी किसी जटिल प्रश्न को लोग उसे यक्ष प्रश्न संज्ञा दे देते हैं
    "

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin