Followers

Thursday, June 30, 2016

चर्चा - 2389

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
केन्द्रीय कर्मचारी तो सातवें पे कमीशन के हिसाब से जोड़-तोड़ में व्यस्त होंगे, अन्य लोग ये अंदाजा लगाने में कि इनको बिना काम ही इतना क्यों मिल रहा है | सरकारी नौकरी के काम को कोई काम समझता ही नहीं | इस उठापटक के बीच आशा है कि आप ब्लॉग-दर्शन हेतु जरूर आयेंगे |

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...