समर्थक

Monday, June 13, 2016

"वक्त आगे निकल गया" (चर्चा अंक-2372)

मित्रों
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--

खोज 

जिसे तुम खोज रहे हो 
वो मिला नहीं अब तक 
शायद वक्त आगे निकल गया 
और फ़िर तुम पीछे रह गये... 
JHAROKHA पर पूनम श्रीवास्तव 
--
--

अद्वितीय है राधा का प्रेम 

पूरब में सूरज ने झांका

लेकर लाल किरण की आभा
सविता का अभिवादन करने
चिड़ियां गाती गीत सुहाने
स्वागत में झूमते ये पेड़
जैसे आनंद रहा बिखेर
कल-कल बहती यमुना की धारा
उत्सव सी लगता जग सारा... 

--

तीन मुक्तक 

जाति वादी भावना लेकर, मन्दिर में जो जाते 
राजनीति करते मन्दिर में, भक्ति भूल वो जाते 
हर काया में ईश्वर हैं, प्रत्येक के ह्रदय में 
ईर्ष्या से ही मन मन्दिर, उनके निन्दित हो जाते... 
कालीपद "प्रसाद" 
--
--
--
--
--
--
--

दो ग़ज़ ज़मीन 

सब्र मत तौलिए दिवानों का है दफ़ीना कई ज़मानों का 
रोज़ पैग़ाम रोज़ फ़रियादें जी नहीं मानता जवानों का... 
साझा आसमान पर Suresh Swapnil 
--
--

One Minute Film Competition- Entry 20-  

Yash Tiwari- DROP DEAD 2 

डेड फाउंडेशन ' ने 'दैनिक भास्कर ' के सहयोग से ' One Drop Cinemas, ONE MINUTE FILM COMPETITION '.. में भेजी गई कुछ विडिओ को अपने यू-ट्यूब चैनल पर अपलोड किया है ..इसमें यश की दो फिल्मों  को भी शामिल किया गया है ..चाहती हूँ ..इन सभी फिल्मों को जो किसी खास उद्देश्य से बनाई गई हैं , आप सब ज़रूर देखें - 
प्रियदर्शिनी तिवारी  
--
--
...ध्यान रखना जो बहुत मुश्किल से मिलता है 
उसके टूटने की आवाज़ भी 
उतनी ही गहरी उतरती है... 
--
--
हमें दोस्तो यारों के बीच रहने दो
अपनो के सहारों के बीच रहने दो
सीख जाएंगे खुद जीने का हुनर
फूलों को खारों के बीच रहने दो
जाने किस रंग मे आ जाए बहार
दिल को बंजारों के बीच रहने दो... 
--
--

दिल टूटने का ज़िक्र हम करना नहीं चाहते ... 

तुम्हारी यादों के साये में हम रहना नहीं चाहते
वक़्त रहते ही संभलने की कोशिश करेंगे हम
इस खुदगर्ज़ दुनिया में बेवक़्त मरना नहीं चाहते हम !!! 
--

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin