Followers

Tuesday, December 20, 2016

नोटबंदी के बाद अब क्या हो?; चर्चामंच 2562

वे देेर तक हाथ हिलाते रहे 

    दिनेशराय द्विवेदी 
       अनवरत 


हानिकारक बापू 

Vivek 

सहा भी नहीं जाता, रहा भी नहीं जाता 

Akhileshwar Pandey 

झगड़ना भी हो ईश्वर से तो घबराहट नहीं होती... 

विशाल चर्चित 

बंधे हुए हैं हम ..... तिलिस्म से 

Dr.pratibha sowaty 

डायल कुमार फॉर किलिंग 

vijay kumar sappatti 

संतोष झांझी की कहानी : 

अमानत 

(संजीव तिवारी) 

२४०. दिलासा 

Onkar 

क्या देश वाकई में चीख रहा है 

(व्यंग्य) 

SUMIT PRATAP SINGH 

प्रधानमंत्री की पत्नी जसोदा बेन बोली, 

नोटबंदी का फैसला सही, 

कालाधन होगा खत्म 

chandan bhati 

यादों के झरोखे से 

 (पुरुषोत्तम पाण्डेय) 

हमारे देश को 

वेनेजुएला सरकार की नोटबंदी में विफलता से 

सबक लेना चाहिए ... 

महेंद्र मिश्र 

Making of a Panorama 

Prashant Suhano 

तुमकों मैंने ना झुठला पाऊँगी...!!! 

Sushma Verma 

भाजपा देगी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाई कोर्ट बेंच ? 

Shalini Kaushik 

ए मौत मगर तेरा कोई यार नहीं है...........श्रद्धा जैन. 

yashoda Agrawal 

भालु खांचा: खारुन नदी की रोमांचक पदयात्रा 

ब्लॉ.ललित शर्मा 

"मेहमान कुछ दिन का ये साल है" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर मंगलवारीय रविकर चर्चा ।

    ReplyDelete
  2. उम्दा चर्चा है जी |
    नव वर्ष कि शुभ कामनाएं |

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति.... आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...