चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, December 27, 2016

मांगे मिले न भीख, जरा चमचई परख ले-; चर्चामंच 2569

रविकर की कुण्डलियाँ

रविकर निर्मल हास्य, प्रार्थना पूजा विनती-  


विनती सम मानव हँसी, प्रभु करते स्वीकार।
हँसा सके यदि अन्य को, करते बेड़ापार।

करते बेड़ापार, कहें प्रभु हँसो हँसाओ।

रहे बुढ़ापा दूर, निरोगी काया पाओ।

हँसी बढ़ाये उम्र, बढ़े स्वासों की गिनती।
रविकर निर्मल हास्य, प्रार्थना पूजा विनती।।  

2016 की यात्राओं का लेखा-जोखा  

नीरज जाट 

भावों की सरिता 

Priti Surana 

राहे उल्फ़त पे वो ग़ाफ़िल जी! मगर जाते हैं 

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 

दिसंबर का महीना............ निशा माथुर  

yashoda Agrawal 

ग़ज़ल-थी मिली पहली दफ़ा तो क्या हुआ - 

50 अशआर के साथ मेरी सबसे लम्बी ग़ज़ल 

Naveen Mani Tripathi 

Untitled 

Satyendra Gupta 

खाँसी के लिए अजवाइन के आयुर्वेदिक प्रयोग 

Ajwain for Cold and Cough in Babies 

GYanesh Kumar 

एक कविता :  

सूरज निकल रहा है 

आनन्द पाठक 

सलीब पर ..... 

Dr.pratibha sowaty 

मनोहर अभय के एक दर्जन दोहे 

Dr Abnish Singh Chauhan 

Badinath temple yatra  

बद्रीनाथ मन्दिर यात्रा की तैयारी कैसे करे। 

SANDEEP PANWAR 

PM के 'मन की बात',  

'कानून सबके लिए समान,  

राजनीतिक दलों को छूट नहीं' 

chandan bhati 
खले चाँदनी चोर को, व्यभिचारी को भीड़। 
दूजे के सम्मान से, कवि को ईर्ष्या ईड़।
कवि को ईर्ष्या ईड़, बने अपने मुंह मिट्ठू।
कवि सुवरन बिसराय, कहे सरकारी पिट्ठू।
रविकर तू भी सीख, किन्तु पहले तो छप ले।
मांगे मिले न भीख, जरा चमचई परख ले।। 

गीत  

"आने वाला है नया साल" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") 

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

आशाएँ सरसती हैं मन में
खुशियाँ बरसेंगी आँगन में
सुधरेंगें बिगड़े हुए हाल। 
आने वाला है नया साल।।

कार्टून:-  

बेचारा कैशलेस सैंटा 

Kajal Kumar 

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार

    ReplyDelete
  3. आभारी हूँ रविकर जी
    अच्छी रचनाएँ पढ़वाई आपने
    सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin