Sunday, June 02, 2019

"वाकयात कुछ ऐसे " (चर्चा अंक- 3354)

स्नेहिल अभिवादन   
रविवासरीय चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है|  
देखिये मेरी पसन्द की कुछ रचनाओं के लिंक |  
 अनीता सैनी 
-------
**साहित्य शारदा मंच (पंजीकृत)**
**खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड) 262308**
**"अन्तर्राष्ट्रीय साहित्य समागम"**
**आमन्त्रण पत्र**
**मान्यवर, **
** अपार हर्ष के साथ आपको सूचित किया जाता है कि साहित्य शारदा मंच (पंजीकृत) खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड) द्वारा दिनांक 2 जून, 2019 (रविवार) को पुस्तक लोकार्पण, काव्य गोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें आपकी उपस्थिति प्रार्थनीय है।**
**दिनांक 2 जून, 2019 (रविवार)**
**कार्यक्रम स्थल - राणा प्रताप इण्टर कॉलेज, खटीमा (ऊधमसिंहनगर)**
**कार्यक्रम विवरण**
**प्रातः 8 बजे से 9 बजे तक जलपान**
**प्रातः 9 बजे से परिचर्चा **
**(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ और उनका साहित्यिक सरोकार)**
**प्रातः 11 बजे से पुस्तक लोकार्पण **
**( प्रीत का व्याकरण एवं टूटते अनुबन्ध) **
**प्रातः 11-30 बजे से अतिथियों के आशीर्वचन **
**मध्याह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन**
**अपराह्न 2 बजे से सम्मान समारोह एवं काव्य गोष्ठी**
**समापन अपराह्न 5 बजे**
**--**
**डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ डॉ. महेन्द्र प्रताप पाण्डेय ‘नन्द’**
** अध्यक्ष मुख्य महासचिव**

--------
roopchandrashastri at 

 उच्चारण 

------

मन की वीणा - कुसुम कोठारी। 
-------
सांस्कृतिक प्रदूषण  

Abhilasha at  
Experience of Indian Life  
------
रतजगे कह रहे....  
My Photo
मुदिता at एहसास अंतर्मन के 
-------

३६१.  

ख़लल 

--------

तेरी यादों का वजन !! 

सदा at SADA 
-------

वाकयात कुछ ऐसे 

वाकयात कई ऐसे होते हैं सारा करार गुम हो जाता है यूँ तो कोई बात नहीं होती बातों के बतंगड़ बन जाते हैं | कहीं कोई गोलमाल होता है उसे कानों कान खबर नहीं होती प्यार तो नहीं होता पर चर्चा सरे आम हो जाती है | बाकयात से घबरा कर वह अपना मुंह छिपा लेते हैं कोई फलसफा नहीं बनता पर बिनाबात शर्मसार हुए जाते हैं 
Unknown at Asha Lata Saxena 

9 comments:

  1. आपका आभार आदरणीया अनीता जी।
    --
    **साहित्य शारदा मंच (पंजीकृत)**

    **खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड) 262308**

    **"अन्तर्राष्ट्रीय साहित्य समागम"**

    **आमन्त्रण पत्र**

    **मान्यवर, **

    ** अपार हर्ष के साथ आपको सूचित किया जाता है कि साहित्य शारदा मंच (पंजीकृत) खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड) द्वारा दिनांक 2 जून, 2019 (रविवार) को पुस्तक लोकार्पण, काव्य गोष्ठी एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें आपकी उपस्थिति प्रार्थनीय है।**

    **दिनांक 2 जून, 2019 (रविवार)**

    **कार्यक्रम स्थल - राणा प्रताप इण्टर कॉलेज, खटीमा (ऊधमसिंहनगर)**

    **कार्यक्रम विवरण**

    **प्रातः 8 बजे से 9 बजे तक जलपान**

    **प्रातः 9 बजे से परिचर्चा **

    **(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ और उनका साहित्यिक सरोकार)**

    **प्रातः 11 बजे से पुस्तक लोकार्पण **

    **( प्रीत का व्याकरण एवं टूटते अनुबन्ध) **

    **प्रातः 11-30 बजे से अतिथियों के आशीर्वचन **

    **मध्याह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन**

    **अपराह्न 2 बजे से सम्मान समारोह एवं काव्य गोष्ठी**

    **समापन अपराह्न 5 बजे**

    **--**

    **डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ डॉ. महेन्द्र प्रताप पाण्डेय ‘नन्द’**

    ** अध्यक्ष मुख्य महासचिव**

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा. मेरी कविता शामिल करने के लिए आभार. शास्त्रीजी को कार्यक्रम के लिए बहुत-बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  3. अन्तर्राष्ट्रीय साहित्य समागम के लिये शुभकामनाएं। सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  4. सुंदर रचनाओं के साथ साथ रचनाकारों के सुंदर समागम समारोह के आयोजन का भी आभार और शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  5. इस अन्तर्राष्ट्रीय साहित्य समागम की सफलता हेतु अशेष शुभकामनाएं शास्त्री जी ! सभी आगंतुक रचनाकारों का हार्दिक अभिनन्दन ! आज की चर्चा में बहुत सुन्दर सूत्रों का समागम ! मेरी रचना को स्थान देने के लिए अनीता जी आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार !

    ReplyDelete
  6. मेरी कविता शामिल करने के लिए आभार...बहुत शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार सखी

    ReplyDelete
  8. सुप्रभात
    उम्दा संकलन
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।