Followers

Friday, May 29, 2015

"जय माँ गंगे ..." {चर्चा अंक- 1990}

मित्रों।
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

"हिन्दी ब्लॉगिंग की दुर्दशा" 

आपकी अपनी भाषा देवनागरी  
आपकी बाट जोह रही है... 
--
--
--

फ़साने कल के 

Akanksha पर Asha Saxena 
--

कसौटी 

सोचा अगर उसको ‘कसौटी’ पर परखने का कभी , 
भारी पड़ेगी सब पे वह यह बात भी सुन लें सभी... 
Sudhinama पर sadhana vaid 
--

भरम टूट चुके हैं मेरे 

एक और दिन की शुरुआत ... 
कुछ ख़ास नहीं ... 
वो ही उलझा उलझा , अ
पनी वीरानियों में सिमटा हुआ , 
एक ठंडी चाय के अहसासों से लबरेज़ , 
किसी वृक्ष से गिरी पीली पत्तियों सा बिखरा ... 
जाने कौन सा फलसफा लिखेगा ... 
vandana gupta 
--

How to check the hosting company 

of a website or blog 

दोस्तों आज इस पोस्ट में , में एक वेबसाइट लाया हूँ जिससे आप ये पता लगा सकते हैं की किसी वेबसाइट की होस्टिंग कंपनी कोनसी है इस वेबसाइट से आप किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग की होस्टिंग कंपनी का आप आसानी से पता लगा सकते हैं... 
Hindi Tech Tips पर sanny chauhan 
--
--

स्वर्ग में आरक्षण ... 

सुप्रीम कोर्ट ने पदोन्नति में आरक्षण तो समाप्त कर ही दिया है , अब धीरे धीरे नौकरियों से भी समाप्त कर दिया जाएगा ! गुज्जरों, जाटों और दलितों को अब अपनी काबिलियत दिखानी होगी, प्लेट में हलवा सजाकर नहीं दिया जाएगा ! . आरक्षण एक बार लो, बार बार नहीं , पहले शिक्षा में, फिर कॉम्पिटिटिव एक्साम्स में , फिर नौकरी में फिर पदोन्नति में , अरे कितनी लालच करोगे भाई ? सुरसा की तरह मुंह मत फाड़ो ! कहीं तो कॉमा, फुलस्टॉप लगाओ ! या स्वर्ग तक आरक्षण चाहिए !
ZEAL 
--

जयति जय जन कल्याणी, 

वन्दन बारम्बार 

(गंगा दशहरा पर ) 
शिव शीश से उतर चली, 
गोमुख सुरसरि द्वार 
जयति जय जन कल्याणी, 
वन्दन बारम्बार 
भू पर उतरी देवसरि, 
करती सबका त्राण... 
शीराज़ा  पर हिमकर श्याम 
--
--

वो इबादत इबादत नहीं 
जिसमे माँ का नाम नहीं
वो घर घर नहीं अबस है 
जिसमे माँ को जगह नहीं...  

--
--
--
--

*** तुमसे यादें हैं...*** 

अपराजिता पर अमिय प्रसून मल्लिक 
--

हाल-फिलहाल: 

रुपये 500 मात्र में राजस्थान दर्शन !! 

राजस्थान में गुर्जर आन्दोलित है और सामान्य जान-जीवन रेत फाक रहा है। पर ये आन्दोलन एक मौका भी हो सकता है। रुपये 500 मात्र में राजस्थान दर्शन का !! राजस्थान से चलने वाली रेलगाड़ियाँ मार्ग बदल बदल कर हर आम और खास स्टेशन को छू कर शक्ति और सामर्थ्य का प्रदर्शन कर रही है।यदि आप रेल में बैठ गये तो समूचा राजस्थान आपकी जद में होगा... 
Vikram Pratap singh 
--

दामन बिछा गया कोई 

आँख छलकी तो शबनम आए
दामन बिछा गया कोई -
कोई आया तो सुनाया नगमें
रुसवा कर गया कोई... 
उन्नयन  पर udaya veer singh 
--
--

''रब ने बना दी जोड़ी -हाय राम। '' 

अगर आप शादीशुदा है या शादी करने वालीं है और आप शादी के बाद कहीं नौकरी या अपना बिजिनेस शुरू करने का इरादा रखतीं है तो सावधान ! हमारे यहां भिन्न-भिन्न सोच के पति होते है ,पहले उन्हें ठीक से समझ लें फिर आगे क्या और कैसे करना है इसकी योजना बना लें... 
--
--

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...