Followers


Search This Blog

Tuesday, February 05, 2019

"अढ़सठ बसन्त" (चर्चा अंक-3238)

मित्रों
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
--

इन्द्रवज्रा/उपेंद्र वज्रा/उपजाति छंद  

"शिवेंद्रवज्रा स्तुति" 

परहित कर विषपान, महादेव जग के बने।
सुर नर मुनि गा गान, चरण वंदना नित करें।।

माथ नवा जयकार, मधुर स्तोत्र गा जो करें।
भरें सदा भंडार, औघड़ दानी कर कृपा।।

कैलाश वासी त्रिपुरादि नाशी।
संसार शासी तव धाम काशी।
नन्दी सवारी विष कंठ धारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।१...
Basudeo Agarwal 'Naman' 
--
--

सच 

प्यार पर Rewa tibrewal 
--

स्वीकृति ! 

होली जैसे वीणा की जिंदगी में रंगों की जगह राख भर गयी थी। उसकी पहली ही होली तो थी। विनीत दोस्तों के साथ होली खेलने निकल गया लेकिन फिर लौटा नहीं। सारा का सारा ठीकरा वीणा के सिर पर फोड़ दिया गया। पता नहीं कैसी किस्मत है... 

रेखा श्रीवास्तव 

--

जीवन : तीन सेदोका 

(एक)  
रात अँधेरी कान्तिमय 
दीपक कंपित प्रज्वलित खड़ा अकेला 
सुख-दुःख संताप लड़ना चुपचाप  
(दो... 
Himkar Shyam 
--
--
--

मेरी दुआएँ,सुन.... 

श्वेता सिन्हा 

नक़्श आँगन के अजनबी,कहें सदायें, सुन
हब्स रेज़ा-रेज़ा पसरा,सीली हैं हवायें,सुन

धड़कन-फड़कन,आहट,आहें दीद-ए-नमनाक
दिल के अफ़साने में, मिलती हैं यही सज़ाएं सुन
yashoda Agrawal  
--
--
--

हया किसी के निगाहों का कह रही सच है ... 

यही ज़मीन, यही आसमां, यही सच है 
यहीं है स्वर्ग, यहीं नर्क, ज़िन्दगी सच है
हसीन शाम के बादल का सुरमई मंज़र 
हथेलियों पे सजी रात की कली सच है... 
Digamber Naswa  
--

नीचों का गठबंधन है 

सारे  कौरव  हुए  इकट्ठे, नीचों  का  गठबंधन है 
सूपनखा की नाक कटी है, चोरों के घर कृन्दन है

मिल कर एक हुए हैं गीदड़ अपनी लाज बचाने को... 
पड़ी है पीछे सीबीआई जगह कहाँ अब जाने को

6 comments:

  1. अभी जो पास है वो एक पल ही है जीवन
    किसी के इश्क में डूबी हुई ख़ुशी सच है

    सुंदर रचना और मंच।
    प्रणाम।

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात...
    आभार....
    सादर..

    ReplyDelete
  3. अभी कई कई बसन्त आने है आते रहें इसी तरह। शुभकामनाएं। सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर चर्चा ...
    अच्छे लिंक्स ... आभार मुझे इस चर्चा में जगह देने के लिए ...

    ReplyDelete
  5. सुंदर चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए विशेष आभार।

    ReplyDelete
  6. सुंदर चर्चा। पठनीय लिंक्स। आभार मेरी रचना शामिल करने के लिए

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।