Followers

Tuesday, February 26, 2019

"अपने घर में सम्भल कर रहिए" (चर्चा अंक-3259)

"चर्चा मंच" अंक-3259
चर्चाकारः डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

आइए मंगलवार का "चर्चा मंच" सजाते हैं।
--
--
--
--

संघर्षरत इतिहास 


पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा 
--

डर कैसा 


Akanksha पर Asha Saxena  
--
--

Aadat si ho gayi hai. 

मेरा होश उड़ाने की तेरी आदत सी हो गयी है, 
मेरा दिल धड़काने की तेरी आदत सी हो गयी है... 

Nitish Tiwary  
--
--
--
--
--
--
--
--
--
--

नापाक को पाक करो 

नापाक पाक को पाक करो,  
गन्दा है वह साफ करो।  
आतंकवाद का पोषक है,  
उसको दण्डित आप करो... 

--

7 comments:

  1. विभिन्न विषयों से सजा मंच, प्रणाम।

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात आदरणीय 🙏
    सुन्दर रचनाओं का संकलन 👌
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  4. सार्थक सूत्रों से सुसज्जित आज का संकलन ! मेरी प्रस्तुति को आज की चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  5. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद,आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  6. सुप्रभात
    उम्दा लिंक्स
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।