Followers

Monday, February 25, 2019

"आईने तोड़ देने से शक्ले नही बदला करती" (चर्चा अंक-3258)

"चर्चा मंच" अंक-3258
चर्चाकारः डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"

आइए आज का "चर्चा मंच" सजाते हैं-

कविता  

"मैं 'मयंक' हूँ"  

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

हुवा हुवा का शोर हुवा  

कहीं हुवा कुछ जैसे  

और बड़ा जबरजोर हुवा 

उलूक टाइम्स पर सुशील कुमार जोशी
--

ईबुक -  

लघुकथा संग्रह -  

रश्मियों का राग दरबारी -  

लीला तिवानी 

Chandresh 
--

भाई का घर 

लघुकथा 
भाई का घर
--

मुक्त ग़ज़ल : 271-  

कनीज़ 

--

व्हाटसएप, फेसबुक और  

ट्विटर आदि की चौपालों पर  

आ बैठा मुफ्तिया सलाहकारी का धंधा 

--

आईने तोड़ देने से शक्ले नही बदला करती 

tHe Missed Beat पर 
dr.zafar  
--

शीर्षकहीन 

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों की जाति का विश्लेष्ण कर, ‘कारवां’ पत्रिका ने एक अलग ही दृष्टिकोण प्रस्तुत करने का प्रयास किया है. लेख पढ़ कर मुझे तो कोई आश्चर्य नहीं हुआ, क्योंकि कई वर्षों से आतंकवाद के लिए आतंकवादियों को कम और इस देश की नीतियों को, सामाजिक व्यवस्था को, आर्थिक असमानता को अधिक दोषी ठहराने का प्रयास किया जा रहा है... 
आपका ब्लॉग पर i b arora 
--

तुम आओ न.. 

दर्द ये पिघल जाए
दिल जो बहल जाए
स्वप्न  फिर संवर जाए
तुम आओ न..

सोच ये बदल जाए
मीत  जो  मिल जाए
गीत  कोई  नया  गाए
तुम आओ न..... 
--

प्यार कब बदला ? 

Akanksha पर Asha Saxena 
--

पाकिस्तान पर जकड़ता शिकंजा 

जिज्ञासा पर pramod joshi  
--

स्मृति 

गूँगी गुड़िया पर Anita saini 
--

आवाज़ें 

१४ फरवरी को पुलवामा में सुरक्षाबलों पर हुए हमले के बाद, देश में कई लोगों ने अपनी-अपनी आवाज़ उठाई। कुछ लोगों की आवाज़ खूब सुनी गयी, कुछ की नहीं। तब से आजतक लगभग ५० जवानों की जानें चली गयीं, उनके परिवार के लोगों के दुःख का अंदाज़ा लगाना भी मुश्किल है। उम्मीद है सरकार उनकी मदद के लिए हर संभव कदम उठा रही है। मगर जब घर का बेटा, पिता, या पति जब इस तरह अचानक चला जाता है तो कोई मदद उस घाव को नहीं भर कर पाती। ईश्वर उन जवानों की आत्मा को शांति दे और उन परिवारों ढाँढस और हिम्मत दे। ऐसे में हम जो इस घृणित घटना से आहत हैं... 
Anjana Dayal de Prewitt  
--
--

शामिल 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा 
--

22 comments:

  1. पैरों में बंधन है,
    पायल ने मचाया शोर,
    सब दरवाज़े कर लो बंद,
    देखो आए, आए चोर...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  2. डकैतों की जय जय.
    इसीलिए मेरा तो विचार है कि सबको लेखन छोड़कर कार्टून बनाने चाहिए..कार्टून देखते ही पता चल जाता है कि किसका है :-)

    ReplyDelete
  3. शास्त्री जी-अब तो मुझे भी खोज करनी पड़ेगी। अपना भी माल किसी ना किसी के यहाँ मिल जाएगा। एक बार मिल चुका है। लेकिन हमने छोड़ दिया। वो पुराना था ये नया है।

    आपने ब्लाग पुलिस का काम कर दिया।

    और भी कोइ हो तो पर्दाफ़ाश करें। आभार

    ReplyDelete
  4. निंदनीय कर्म की सजा तो मिलनी ही चाहिए /
    मेरा सुझाव है की एसे लोगो के खिलाफ सामूहिक तौर पर वहिसकार का कोइ रास्ता खोजा जाए ताकि भविष्य में कोइ हिम्मत ना दिखाए /

    ReplyDelete
  5. मैं और किसी का follower बनू न बनू मगर मदन लाल जी का तो तुरंत ही बन गया ! :)

    ReplyDelete
  6. बलागजगत मे चोर ? अरे मारो मारो उसे? कोई है बचाओ ऐसे चोरों से मेरी भी कोई मदद करो ढूँढाने मे कि मेरा क्या क्या चुराया है? चर्चा तो बहुत ही धाँसो रही बधाई

    ReplyDelete
  7. yahan to lagta hai sari insaniyat ko taak par rakhkar baithe hain parik ji...........koi asar hi nhi ho raha itni bhartsana ho rahi hai tab bhi...........aap kshama yachna kijiye parik ji shastri ji se nhi to sabhi bloggers aapka bycott karenge.

    ReplyDelete
  8. भाई ये साहब खुद एक एडवोकेट हैं!!! मैं इनके बारे में कुछ नहीं कह सकता!!!

    ReplyDelete
  9. ha..ha.. taau ki jay ho fun mazza masti me bhi kisi ne unko chipkaa diya!!!

    ReplyDelete
  10. http://nakrasar.blogspot.com/
    ye hai in mahashya ka asli blog !!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Blog has been removed
      Sorry, the blog at nakrasar.blogspot.com has been removed. This address is not available for new blogs.

      Did you expect to see your blog here? See: 'I can't find my blog on the Web, where is it?'

      Delete
  11. सभी ब्लॉगर भक्तों का कल्याण हो (चोर को छोड़कर ) ! ब्लॉगर बच्चा लोग,चिंता न करो, चोर की दाढ़ी में तिनका मिल गया है, हमारी चमत्कारी भभूत चोर से चोरी छुड़वा देगी, कोई भी समस्या आये तो पहले हमें सूचित करो, हम एक मात्र ब्लॉगर कल्याण बाबा हैं !

    ReplyDelete
  12. अब कोई चिंता नहीं है! शास्त्री जी आपने बहुत ही अच्छा काम किया है!

    ReplyDelete
  13. शायद ये इस बात से अनजान है कि किसी दुसरे की पोस्ट नहीं लगानी चाहिए !!! मसला सुलह कर लीजिये !!!

    ReplyDelete
  14. दगा देता हैं वो बहुत सजा सवार के मासूमियत से,
    गर्म जोशी से मिलने मुलज़िम की दफ़्हे नही बदला करती,

    विविध तरह की रचनाओं का संगम, सुंदर मंच ।
    पथिक को भी अवसर मिला ,धन्यवाद।
    शास्त्री सर सहित सभी को प्रणाम

    ReplyDelete
  15. सुप्रभात,
    उम्दा संकलन एक से बढ़कर एक रचनाये हैं,
    मुझे भी स्थान देने के लिए अत्यंत आभारी हूँ

    ReplyDelete
  16. समझ में नहीं आयी
    अचानक आ गयी है क्यों
    चर्चा मंच पर टिप्पणियों की बाढ़
    कहाँ हुयी है चोरी
    चोर चोर की आवाज आ रही
    चिट्ठा लेकर भाग गया पर साँड।

    कुछ तो हुआ है चिट्ठा जगह चोर जैसे सक्रिय कर गया है :)

    सुन्दर चर्चा में 'उलूक' के हुवा हुवा को जगह देने के लिये आभार आदरणीय।

    ReplyDelete
    Replies
    1. चिट्ठा जगह की जगह चिट्ठा जगत पढ़ा जाये ।

      Delete
  17. बेहतरीन चर्चा प्रस्तुति आदरणीय
    मुझे स्थान देने के लिए सह्रदय आभार
    सादर

    ReplyDelete
  18. If you are a user of HP Laptop or HP Computer and facing Blue Screen problem then we are here to guide you through the ways to resolve your problem or You may dial HP Laptop Support Number (+1)-855-499-1999 and
    get instant solution of HP Laptop or HP Computer Blue Screen issue.

    HP Printer Support
    HP Customer Support
    HP Customer Help Number
    HP Customer Care Number
    HP Help Number usa
    HP Technical Support Number
    HP Support Phone Number
    Hp Support Toll free Number
    HP Computer Support Phone Number

    ReplyDelete
  19. बहुत खूबसूरत चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।