Followers


Search This Blog

Wednesday, February 13, 2019

"आलिंगन उपहार" (चर्चा अंक-3246)

मित्रों
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--

दोहे  

"छोड़ विदेशी ढंग  

--

विश्वविद्यालय शिक्षक संघ चुनाव  

जितना ‘उलूक’ देख पा रहा है 

सुशील कुमार जोशी  
--

सत्य अहिंसा का पुजारी 

Anita saini 
--

जलीय कीट 

ए. के. रामानुजम की कविता 
"दी स्ट्राईडर्स" का अनुवाद - जलीय कीट
बाकी सब कुछ छोडिये 
कुछ पतले पेट वाले बुलबुले सी  

पारदर्शी आँखों वाले जलीय कीट उन्हें देखिये, ध्यान से देखिये... 

सरोकार पर Arun Roy
--

मायूस मुस्कान 

हर लम्हा लम्हा मुस्कराता रहा  
ख़ुद में ख़ुद को तलाशता रहा  
अनजाना था बेगाना था  
खुद से मुस्कान में दर्द छिपता रहा  
मिल जाए कोई पहचान शायद 
इस दर्द को ... 

RAAGDEVRAN पर 
MANOJ KAYAL  
--

शीर्षकहीन 

i b arora 
--

पलाश 

Akanksha पर Asha Saxena  

--

श्वेत चतुर्भुज रूप 

 

पद्मासिनि वागीश्वरी, श्वेत चतुर्भुज रूप 

पुस्तक वीणा हाथ मे, बुद्धि ज्ञान प्रतिरूप 
प्राणी को वाणी मिली, सुन वीणा का नाद 

मौन सृष्टि करने लगी, आपस में संवाद 

Himkar Shyam 
--

आईने से भी रहते है..... 

अर्पित शर्मा "अर्पित" 


सामने कारनामे जो आने लगे, 
आईना लोग मुझको दिखाने लगे ।
जो समय पर ये बच्चे ना आने लगे,  
अपने माँ बाप का दिल दुखाने लगे... 

yashoda Agrawal  
--

लघुकथा वीडियो:  

मराठी लघुकथा "स्पर्श" |  

लेखक - अनंत हिरुलकर | 

वाचन:  गजल मित्र 

--

गुर्जर आंदोलन और आरक्षण का दर्शन 

जिज्ञासा पर pramod joshi  

5 comments:

  1. शुभ प्रभात..
    आभार..
    सादर..

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात |
    मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद सर |

    |

    ReplyDelete
  3. आभार आदरणीय आज के सुन्दर पन्ने में 'उलूक' को भी स्थान देने के लिये।

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन चर्चा प्रस्तुति 👌| शानदार प्रस्तुति | मुझे स्थान देने के लिए सह्रदय आभार आदरणीय |
    सादर

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया। शीराज़ा को शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।