Followers

Saturday, September 14, 2019

" हिन्दी दिवस " (चर्चा अंक- 3458)

स्नेहिल अभिवादन   
शनिवार की चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है|  
देखिये मेरी पसन्द की कुछ रचनाओं के लिंक |  
 - अनीता सैनी 
-------
दोहे 
 हिन्दीदिवस 
 "दिखने लगा उजाड़"  

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 
उच्चारण 
--------
राजभाषा हिंदी का सफर : 
 संविधान से प्रयोग तक ! 
My Photo
 मेरा सरोकार 
------

हाँ मैं चंबल नदी हूँ ! 

----------
एक सौदागर हूँ सपने बेचता हूँ … 
My Photo
-------

   

मेरा विद्यालय  

--------

बना रहे बनारस  

12 comments:

  1. धन्यवाद के साथ सभी पाठकों को
    हिन्दीदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ और बधाई।
    आप सभी सदैव स्वस्थ और प्रसन्न रहें।
    --
    आपका आभार अनीता सेनी जी।
    --

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर संग्रह अभी रचनाकारों को धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति...धन्यवाद !

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन संकलन ,एक से बढ़कर एक रचना ,कविता पढ़ ली सभी लेख फुर्सत मिलते ही पढ़ती हूँ ,आपका बहुत बहुत धन्यवाद अनिता जी

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार सखी सादर

    ReplyDelete
  9. अच्छा संकलन ... हिंदी दिवस की शुभकामनाएँ ...
    आभार मेरी रचना को जगह देने के लिए ...

    ReplyDelete
  10. चर्चा मंच पर बिखेरे गये हैं रसमय रंग जिनमें समाहित हैं कल्पना और यथार्थ के सबरंग अनुभव। सुन्दर प्रस्तुति के लिये बधाई।
    मेरी रचना को इस प्रतिष्ठित मंच पर प्रदर्शित करने के लिये सादर आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।