Followers

Saturday, April 17, 2010

“महक उठा मन” (चर्चा मंच)

चर्चा मंच (अंक - 124)
चर्चाकार : रावेंद्रकुमार रवि
आइए आज कुछ महकती हुई बातों से
"चर्चा मंच" को

कुछ इस तरह से महकाते हैं
कि हमारे मन भी इनकी चहक से सजकर खिल जाएँ -
आज आपको सबसे पहले
एक नए ब्लॉगर से मिलवाते हैं,
जो इस दुनिया में एक दिन पहले आ गए!
यदि ऐसा नहीं होता,
तो वे अपना जन्म-दिन और नए साल का
उत्सव एक साथ मनाते -
मैं शुभम् सचदेव
अब चलते हैं नन्ही प्राची के साथ,
उसकी नानी के घर -
नन्हे सुमन
इनसे मिलिए और जानिए
कि ये आपको किस बात का शुक्रिया अदा कर रही हैं -
sfas1 लविज़ा
यह कठफोड़वा आपको
अपने बारे में कुछ बता रहा है -
फुलबगिया
ये हँसते हुए नूरानी चेहरे
आपको दादी माँ की कहानियाँ
सुनाने के साथ-साथ दिखा भी रहे हैं -
आएश आमश
पाखी ने आज पहली बार स्कूल का आनंद लिया
और घर आकर थोड़ी-सी पढ़ाई की -
पाखी की दुनिया
माधव जब अपनी बुआ के यहाँ गया,
तो उसे वहाँ मिला प्यारा अनुष -
माधव के ब्लॉग पर अनुष
अब थोड़ी-सी मस्ती
माधव की भी देख लेते हैं -
माधव
अब चलते हैं इस जोकर के
अनोखे कारनामे देखने के लिए -
सरस पायस
और अंत में इन भालू जी से भी मिल लेते हैं,
जो अपने नए लैपटॉप के साथ
कुछ नया करने में लगे हैं -
सरस पायस
अरे ये रंग-बिरंगी पेंसिलें तो रह ही गईं,
जो हमको खूब लुभाती हैं!
चलो यह भी देख लेते हैं कि
ये और क्या-क्या कर सकती हैं -

नन्हे सुमन
- मेरे द्वारा इससे पहले की गई चर्चाएँ -
मुस्कानों की सुंदर झाँकी
ख़ुशियों की बरसात
प्यारे-प्यारे, मस्त नज़ारे

27 comments:

  1. ye baal bloggers ki charcha ka idea nayab hai Shastri ji

    ReplyDelete
  2. बच्चों से मिलकर अच्छा लगता है.

    ReplyDelete
  3. अले वाह वाह वाह ...
    छब बले जबल्दस्त ब्लोगल हैं....बाबा....
    मज़ा आया....

    ReplyDelete
  4. बहुत बढिया
    प्यारे प्यारे बच्चे

    ReplyDelete
  5. रवि जी!
    इस महकती-चहकती चर्चा के लिए
    साभार बधाई स्वीकार करें!

    ReplyDelete
  6. सारे हिन्‍दी ब्‍लॉगर बच्‍चे हो गए

    सच कहा है

    हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग का शैशव काल है

    बच्‍चे मन के सच्‍चे हैं

    सब सच्‍चे ही बने रहें

    अच्‍छे ही बनें रहें

    यही कामना है

    यहां पर बड़ों के विवाद

    का मना है,

    मत समझें कामना है

    कामना है सिर्फ संवाद की।

    ReplyDelete
  7. बडी निराली लगती है .. चर्चा बच्‍चों के ब्‍लॉगों की !!

    ReplyDelete
  8. wah!!!!!!!!!

    kya khub rahi acho ki bate


    shekhar kumawat

    ReplyDelete
  9. रवि अंकल ने की प्यारी-प्यारी चर्चा. मेरे स्कूल जाने की चर्चा तो तमाम दोस्तों की गतिविधियों की चर्चा. सरस पायस पर पापा के जोकर की चर्चा भी भाई...सभी को खूब बधाई !!

    ReplyDelete
  10. महक उठा आंगन इस मनभावन चर्चा से..सभी को शुभकामनायें. बिटिया 'पाखी की दुनिया' और सरस पायस पर मेरे बाल गीत 'जोकर' की चर्चा के लिए आभार.

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन चर्चा. ब्लाग उत्सव -2010 की सैर करके यदि आप वहाँ बच्चों की भागीदारी की भी यहाँ चर्चा करते तो मन कुछ और महक उठता. फ़िलहाल शुक्रिया इस अच्छी चर्चा के लिए.

    ReplyDelete
  12. बाल ब्लोग्स की चर्चा बहुत बढ़िया रही.....बधाई

    ReplyDelete
  13. क्‍या बात है? बच्‍चों की दुनिया। आनन्‍द आया।

    ReplyDelete
  14. बच्चों की दुनिया ………निराली दुनिया……………॥मतवाली दुनिया।

    ReplyDelete
  15. माधव की चर्चा के लिए आभार. यहाँ मंच पर सभी दोस्तों से मिल पाते है , यहीं सबसे अच्छी बात है , आपको दुबारा धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. बच्चे मन के सच्चे,सारे जग के आंख के तारे,
    ये वो नन्हे फ़ूल हैं जो भगवान को लगते प्यारे,

    ReplyDelete
  17. आज की चर्चा भी बहुत पसंद आई. बिना दिमाग़ लगाए ही काम चल गया चित्रों से :) धन्यवाद.

    ReplyDelete
  18. वाह !! थैंक यू रवि अंकल :)

    ReplyDelete
  19. प्यारे-प्यारे सारे बच्चे
    बहुत प्यार से मुझे यह चर्चा मंच
    सजाने के लिए प्रेरित करते हैं
    और उसके बाद
    आप सबकी प्यारी-प्यारी टिप्पणियाँ
    मुझे भविष्य में चर्चा मंच को
    इससे भी ख़ूबसूरत अंदाज़ में
    प्रस्तुत करने के लिए उत्साहित करती हैं!

    ReplyDelete
  20. यह बहुत ख़ुशी की बात है कि
    श्रीमती वंदना गुप्ता भी नई सदस्या के रूप में
    चर्चा मंच की इस टीम में
    सम्मिलित हो गई हैं!
    --
    उनका हार्दिक स्वागत करते हुए
    मेरी शुभकामनाएँ हैं कि
    वे चर्चा मंच को अपनी चर्चाओं से
    एक नई गरिमा प्रदान करेंगी!

    ReplyDelete
  21. Thank you UNCLE , itane saare dosto se milkar bahut majaa aayaa . are kyaa uncle aapne sabhi bachcho ko yahaa ikkatha kiyaa aur NANHAMAN ko bhool gae jahaa AKAANKSHAA AUNTI ki pyaari-pyaari kavita aur udan-tashatri utari hai .....seema sachdev

    http://www.shubhamsachdeva.blogspot.com/

    ReplyDelete
  22. Thank u Uncle.....sabhi friends ko HAPPY CHILDREN'S DAY ...SHUBHAM SACHDEV

    ReplyDelete
  23. वाह,
    सीमा जी!
    बहुत-बहुत धन्यवाद -
    मुझे अपना अंकल बनाने के लिए!

    ReplyDelete
  24. मैं तो अपने इस भालू को ढूँढते-ढूँढते परेशान हो गया। कभी यह सरस पायस के साथ मिलता है, तो कभी चर्चा मंच पर।

    ReplyDelete
  25. areee wah bahut sundar chrcha...in haste muskate bachcho ke saath wakai apna maan mahak uthta hai...
    aisi sundar charcha ke liye aapka aabhar...sabhi bachcho ko pyar aur badhai...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...