Followers

Monday, July 12, 2010

"लिंक लगा हर एक चित्र पर!" (चर्चा मंच-212)



---------
सोमवार की चर्चा लेकर आपकी सेवा में उपस्थित हूँ-
आज की चर्चा में पोस्टों को आप पढ़िए उनके चित्रों से-
चित्र के साथ-साथ जहाँ भी लिंक है!
 वहीं पोस्ट  है!
आजमा कर देख लीजिए ना!
---------
 
---------
 
 
----------
 
----------
 
 
----------
 
  
My Photo

----------
My Photo
  मेरा फोटो

16 comments:

  1. बहुत अच्छा लगा आज का चचा मंच सजाने का तरीका
    आपने मुझे चर्चा मंच पढ़ने का चस्का लगा दिया है |
    नई रचनाएँ सरलता से एक स्थान पर मिल जाती हैं |
    मुझे उपकृत करने के लिए एक बार पुनः साधुवाद |
    आशा

    ReplyDelete
  2. are ye to sabse acchi baat ho gayi ..na heeng lage na fitkari rang aaye chokha..
    aapki baat hi niraali hai..
    bahut sundar..

    ReplyDelete
  3. ढ़ूंढ के लिंक चटका रहे हैं..:) नया प्रयोग.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रयोग....बिना चर्चा के सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  5. अरे ! यहाँ तो चित्रों के साथ शब्दों पर भी लिंक लगे हैं....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. अफरीन अफरीन !
    और क्या कह सकते है ..........बेहद उम्दा प्रयोग किया है आपने ! चर्चा को एक अलग और अनोखा रूप दे दिया ! बहुत बहुत बधाइयाँ !
    मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  7. वाह्! बहुत खूब्!
    आज तो हमारी भी लाटरी निकल आई :)

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन! नायाब!! शुभानअल्लाह!!!

    ReplyDelete
  10. वह जी वह जबर्दस्त्त प्रयोग है ये तो :)

    ReplyDelete
  11. उम्दा प्रयोग किया है आपने ...

    ReplyDelete
  12. naya prayog bahut acchha laga. is bahane log har link ek baar open to karege hi.

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया चर्चा बस गिला है तो इतना कि हम इन्तजार करते रह गए ...

    ReplyDelete
  14. अरे सुनील दत्त जी नाराज काहे होते हैं!
    आपकी पोस्ट का लिंक तो यहाँ है ना-
    "उनके चित्रों से-"

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...