Followers

Saturday, July 24, 2010

"चर्चा मंच-224" ( चर्चाकारःडॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

प्रारम्भ
आज से एक सप्ताह के अवकाश पर जा रहा हूँ!
मुझे आशा और विश्वास है कि बुधवार की चर्चा 
इस चर्चा मंच की संकटमोचिका
बहन संगीता स्वरूप तो लगा ही देंगी!
चर्चाकार : डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक





अब बढ़ते हैं आज की दूसरी चर्चा की ओर
वर्ष के श्रेष्ठ कवि (कविता पाठ)कहा गया है- " वाक्यं रसात्मकं काव्यं "यानी रसों से सरावोर वाक्य ही काव्य है ।एक ऐसा प्रवासी भारतीय कवि जिनकी कविता तो आकर्षित करती ही है , आवाज़ भी कम आकर्षित नहीं कर...
लो क सं घ र्ष !...
Suman




आज की तीसरी चर्चा में हैं खुशदीप सहगल का महत्वपूर्ण सवाल
अजित गुप्ताजी ने अपनी पोस्ट पर बड़ा ज्वलंत मुद्दा उठाया- पता नहीं हम अपने देश भारत से नफरत क्‍यों करते हैं? ...बड़ी सार्थक बहस हुई...एक से बढ़ कर एक विचार कमेंट्स के ज़रिए सामने आए...अजित जी ने भारत �...
देशनामा...
खुशदीप सहगल



अब बधाई दीजिए सुयश को-
आज सुयश का जन्मदिन है................................. - आज सुयश(मेरा भतीजा) का जन्मदिन है ------सुयश से पहले मिलवा चुकी हूँ मै आपको.................इस हास्य फ़ुहार करने वाले कलाकार की कुछ और खासियत से आपका परिचय...




लिट्टी चोखा की दुकान (रायपुर स्टेशन) सावन का महीना हम सब मित्रों का घुमने का ही होता है, एक मार्ग निर्धारित करके सर्कुलर टिकिट बनाकर घुमने के लिए निकल जात...



इलाज़ - हंसना ज़रूरी है, क्यूंकि … हंसने से मानसिक तनाव में कमी आती है।
 इलाज़ खदेरन की तबियत अचानक बिगड़ गई। पूरा बदन दर्द से टूट रहा था। बुखार भी उतरने का न...



 आपने देखा यह चित्र इसमें आप कुछ तलाशिए तलाशेंगे आप आपको मानेंगे हम वैसे नहीं है यह कोई जंग फिर भी इसमें दिखलाई देते हैं ब्‍लॉगिंग के रंग। [image: www.blogv...




आखिर यह भी तो हमारे देवी -देवताओं का अपमान ही है ...! - कल का दिन प्रसाद के नाम रहा ...कोई -कोई दिन ऐसा हो जाता है ...4-5 पड़ोसिनों अलग-अलग कारणों से मिठाई व प्रसाद लावणे (शादी ब्याह या अन्य शुभ अवसरों पर बांटे ...




 *खाप पंचायतें: सामाजिक परिवर्तन के अवरूद्ध होने का प्रतीक * * * -*राम पुनियानी* तस्वीर यहां से *जाति व्यवस्था की पोषक, खाप पंचायतें इन दिनों चर्चा का विषय ह...




जन्म-दिन की बहुत सारी शुभकामनाओं के साथ
तुम जियो हजारों साल

 अभी कुछ फ़र्ज़ अदा करने बाकी है अभी कुछ क़र्ज़ अदा करने बाकी है अभी माँ की आँखों के आँसू सूखाने हैं अभी मुर्शिद से किए कौल निभाने है अभी मन का मैल धोना शुर...





ब्लोक्स को जोड़ कर आदि को मीनार बनाना पसंद है.. और उसके लिए कितने प्रयास कर सकता है.. इस विडियों में... खेल खेल में आदि बहुत बड़ा संदेश दे गया... कल वि...




जाट पहेली- 11 (धर्मपुर हिमाचल) अब तक कुल मिलाकर 10 पहेलियां पूछी जा चुकी हैं। आज एक बार सभी प्रतियोगियों के स्कोर और मेरिट पर नजर मार ली जाये। 1. राज भाटिय़ा 40 *100* 97 97 96 5...



स्वतन्त्रता संग्राम के इस आजाद पुरोधा को नमन!

 कोई दिन रात मरता है, शहादत कोई पाता है.... २३ जुलाई सन १९०६ - बांस की कुटिया में आज ही के दिन श्रीमती जगरानी देवी ने चन्द्र शेखर तिवारी (आज़ाद) को जन्म दिया ...






 कल अजित जी की एक पोस्ट पढ़ी थी ... http://ajit09.blogspot.com/2010/07/blog-post_21.html ..जिसमें उन्होंने चिंता व्यक्त की थी कि 'अपने देश भारत से क्यों लोग...





* * कल रात उस जमात पर लिखने बैठा जिसने कुछ सालों पहले पूरे देश में गणेश जी को दूध पिला दिया था .इनके दुष्प्रचार तंत्र का यह सबसे रोचक उदाहरण रहा है. तभी दो...





इन वैदिक उपायों से मन भी मान जाता है........(ज्योतिष उपाय Jyotish Remedies) प्राय: लोगों की यह शिकायत होती है कि हमारा मन पढाई में नहीं लगता या अमुक बुराई से हटता नहीं. इच्छा तो बहुत करते हैं, धर्मानुष्ठान भी करते हैं, उसके लिए दान...




 रश्मि रविजा का लेख ' कितने युग और लगेंगे इस मानसिकता को बदलने में??' पढ़ा। उन्होंने लेख में बेटी के विवाह के समय वर पक्ष द्वारा उसके माता पिता का घोर अनादर ...





मुल्ला नसरुद्दीन: दो उपलब्धियों वाली दास्तान
युगों युगों से महान हिमालय पर्वत श्रंखला के साये में रहने वाले लोग जानते हैं कि उनके आदि पुरुष, देवों में श्रेष्ठतम स्थान पाने वाले शंकर महादेव कितने भोले थे, उन्हे तो भोले शंकर के नाम से भी जाना जाता है। मुल्ला नसरुद्दीन में भी यही भोलापन कूट कूट कर भरा था। भोले शंकर से [...]



तुम्हारा आँचल
तुम्हारा आँचल आँगन है मन का जिसके कोने में अमरुद के पेड़ पर गौरैया ने जने हैं कुछ अंडे ध्यान रखना टूटे नहीं वो 





लिव इन / वेश्यालय : दीवार में खिड़की तो हो ...
नदी अपना रास्ता तलाश लेती है , पतीले का उबाल ढक्कन लगाने से दबता नहीं बढ़ता है...'लिव-इन रिलेशनशिप ' या फिर 'लीगलाइज्ड पेड सेक्स'...? इनसे बेहतर विकल्प भी मौजूदहैं ...! यकीनन गलाकाट प्रतियोगिता के इस युग में जहाँ एक ओर आबादी के अनुपात में रोज़गार के अवसर ना बढ़ने से कैरियर की जद्दोजहद , महंगाई , विवाह समारोहों के अतिशय खर्चीलेपन आदि के कारन विवाह की औसत आयु बढ़ गयी है, वहीँ दूसरी ओर बाज़ार की संस्कृति खोखला खुलापन परोस रही है । यही वो कारन हैं जो समाज में यौन कुंठा के स्तर में बेतहाशा वृद् ...




अब कोई नहीं पढता मुझे - शायद बिना वजह लिखे जा रहा हूँ ।
 अब तो सचमुच निरासा हो रही है मुझे





बडबोले धोनी को मुरली का करारा जवाब
श्रीलंका ने आज बड़े शालीन ढंग से बड़बोले धोनी को जवाब दिया जब उन्होंने टेस्ट क्रिकेट की रैंकिंग में पहली पायदान पर काबिज भारत की टीम को दस विकटों से कारारी हार का मजा चखाया। क्रिकेट को, शालीनता जिसकी पहचान रही है, वैसे भी भद्र जनों का खेल माना जाता रहा है (पर आज कल इसमें ही सब से ज्यादा अभद्रता दिखती है) हार-जीत हर खेल का एक अंग है। पर जिस तरह मुरली के वर्ल्ड रेकार्ड़ को ना बनने देने की बात धोनी ने कही थी वह भारत के क्रिकेट प्रेमियों को भी अच्छी नहीं लगी होगी। किसी खेल में उत्कृष्ट कौशल दिखा स ..




एक ऐसा गज़लकार जिनकी ग़ज़लों का सबसे बड़ा आकर्षण प्रभावोत्पादकता है . पढ़ने वाले को यह महसूस होता है कि यह उन्ही की दिली बातों का वर्णन है। एक ऐसा गज़लकार जिनकी ग़ज़लों के शिल्प और कथ्य में गज़ब का तारतम्य होता है । शब्दों का विभाजन विभिन्न घटकों की मात्रा संख्या के अंतर्गत वे ऐसे करते हैं कि पढ़ने वाला कोई भी पाठक उनकी ग़ज़लों का मुरीद हो जाए । जिन्हें ब्लोगोत्सव की टीम ने वर्ष के श्रेष्ठ गज़लकार का अलंकरण देते हुए लोकसंघर्ष परिकल्पना सम्मान-२०१० से सम्मानित करने का निर्णय लिया है । विस्तृत जान ...




ममा का बर्थडे, पर गिफ्ट क्या दूँ..आप बताओ ना.
ममा का बर्थ-डे 30 जुलाई को है. बस एक वीक और बाकी है. सब कुछ तैयारी तो हो चुकी है, पर अभी तक यह नहीं सोच पाई हूँ कि ममा को उनके इस बर्थ-डे पर क्या गिफ्ट दूँ. पापा को आफिस से फुर्सत नहीं और ममा को ही गिफ्ट देना है, फिर उनसे कैसे पूछूं. तो मैंने सोचा कि क्यों ना आप सब की मदद लूं. ...आप मेरी हेल्प करेंगें ना. तो मुझे जल्दी से कुछ अच्छे-अच्छे गिफ्ट बता डालिए, जो इस बार मैं ममा को बर्थ-डे पर प्रजेंट कर सकूँ. और हाँ, इसी संडे तक मुझे गिफ्ट खरीद भी लेने हैं. 





इस शुक्रवार: खट्टा-मिठा
निर्माता : श्री अष्टविनायक निर्देषक: प्रियदर्षन कलाकार: अक्षय कुमार, त्रिषा, उर्वषी शर्मा, मनोज जोषी.




मेहमान-नवाज़ी और मेज़बान-नवाज़ी
कुछलोग घर आये मेहमान को देखकर बहुत ही ख़राब चेहरा बना लेते हैं या बिलकुल ही रुखी-सूखी बातें करने लगते हैं. इससे मेहमान को बहुत कोफ़्त होती है. वह खुद को अपमानित महसूस करता है. इसी के साथ वह मेज़बान ...


.
सलीम ख़ान स्वच्छ सन्देश..   
















अमेरिका के तीन ईसाई पादरी इस्लाम की शरण में आ गए। उन्हीं तीन पादरियों में से एक पूर्व ईसाई पादरी यूसुफ एस्टीज की जुबानी कि कैसे वे जुटे थे एक मिस्री मुसलमान को ईसाई बनाने में, मगर जब सत्य सामने ...
इस्लामिक वेबदुनिया...







सीबीएसई की खामोशी से शिक्षा माफिया की पौ बारह (3) ** *सीबीएसई पर हावी शिक्षा माफिया (3)* *टीचर्स निभा रहे हैं सिक्यूरिटी गार्ड की भूमिका?* *सिवनी। जिला मुख्यालय सिवनी में इसाई मिशनरी द्वारा संचालित ...






क्या बात है मेरे लाल : सरस चर्चा ( 6 ) आज की इस चर्चा में अधिक तो नहीं दे पा रहा हूँ! पर जो भी दे रहा हूँ, उसे सरस करने की पूरी कोशिश की है! आजकल सबसे अधिक चर्चा में है : पाखी! कोई उसके लिए ...



8 comments:

  1. बेहतरीन चर्चा

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन सलीके से संवरी चर्चा.

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन चर्चा |

    ReplyDelete
  4. शानदार चर्चा.

    'पाखी की दुनिया' की चर्चा के लिए आभार.

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन चर्चा...!!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...