चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, November 01, 2010

जरा सा पर्दा उठाइए..............चर्चा मंच-325

दोस्तों 
आ गयी सोमवार की चर्चा .............कुछ हास्य के साथ. चर्चा है चर्चा ..........काफी हैं चर्चा .............चर्चा के पीछे आप ही छुपे हैं जरा सा पर्दा उठाइए और देखिये


हवा में लटका मनुष्य, और हाथ से आती फूलों की खुशबू --यह क्या है ?
जादू के अलावा और क्या होगा ?

पानी का कैनवस
 जिसमे सब बह गया 

लिपस्टिक से छू लो तुम ...........संसार में बबाल कर दो


...वे आँखें आज भी नम है!
आँखों में नामी दिल में तूफ़ान सा है



जया केतकी और रेणु सिंह
जानिए इनकी संवेदनाएं
१) संवेदनाएं
अब कहाँ रहीं ?

२) साहस जीने का……

  सहास से जीने वालों की कभी हार नहीं होती



" क्या करूँ ...छोड़ना चाहते हैं , छूटता नहीं है "
उम्र के निशाँ तो पड़ते ही हैं



भूजा
बूझो तो जाने



फ़िक्शन
इस फिक्शन में तो कुछ और ही पक रहा है

" पल जो हमने साथ गुजारे थे.. "
आज भी यादों की धरोहर हैं

कविता पहले एक सार्थक व्यक्तव्य होती है !
ये तो पता नहीं क्या होती है ..........हमारे लिए तो कविता बस कविता होती है

हर माह नया घोटाला कर
हर माह क्यूँ रोज नया घोटाला कर ............किसमे दम है जो रोक कर दिखा दे ............ये देश है घोटालेबाजों का ,अलबेलों का मस्तानों का ............फिर किसका डर ?


दीपावली के नाम पर दे दे बाबा 

बस अब यही बाकी रह गया था

बचपन के दिन
बचपन के दिन भी क्या दिन थे

बचपन में 'जहां' और भी हैं ....: राजेश उत्‍साही
बिलकुल सही कहा


कविता
सही अर्थों में यही तो है कविता


मैं दिवाली देखना चाहता हूं
जरूर देखिये


२०० उद्योग पतियों लेकर आ रहे हैं ओबामा
एक बार फिर तैयार रहिये गुलाम बनने को ..............बहाने हैं


थोड़ा ठहरने दे
वक्त को मुड़कर देखने तो दे


कसूर !!!!
किसका ?


मर्द घर में खुशी-खुशी बैठने को राजी: महिलाएं दफ्तर का काम संभाल रहीं
बस अब ये दिन यहाँ भी दूर नहीं

बन्द दरवाजे

जो एक बार बंद हो जाएँ तो कहाँ खुलते हैं  


पैसों की परेशानी से निजात पायें

तो ये भी आजमायें
 

शाम फिर से मुस्कराने लगी

शायद किसी की याद फिर से आने लगी
 

राहें मन की

अजब गज़ब होती हैं


आशिक़ को नसीहत
क्या खूब दी है
 

किले में कविता:'कौन खबर ले किले की'

वक्त वक्त की बात है
 

जवाब होने पर भी

एक दिन ये खुशबू जरूर फैलेगी
दीपावली: दीप-अष्टम्
 ऐसा दीप सभी जलायें


बेहतर खुदा..
सबके प्यारे हैं मगर बेजुबान हैं

अब दीजिये इजाज़त ...........अगले सोमवार फिर मिलती हूँ तब तक आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षारत ..........

28 comments:

  1. आज सबसे पहले सुमन जी ने इस चर्चा पर
    नाइस का ठप्पा लगा दिया है!
    क्योकि चर्चा बहुत सुन्दर तरीके से मन लगाकर की गई है!

    ReplyDelete
  2. Bahut sunder charcha.... achhe links ki charcha...dhanywad

    ReplyDelete
  3. संक्षेप में वृहत चर्चा

    ReplyDelete
  4. वंदना जी। आभार कि एक बार फिर मैं आपकी नजरों में आया।
    निसंदेह यह काम बहुत मेहनत का है। मैं पहले भी सुझाव देता रहा हूं और आज फिर दे रहा हूं। अच्‍छा होगा कि आप हर केवल पांच पोस्‍ट ही चुनकर लगाएं,लेकिन उनके बारे में अपने नजरिए से भी एक टिप्‍पणी साथ में लिखें कि उन्‍हें क्‍यों पढ़ा जाना चाहिए। मुझे लगता है कि इससे न केवल चर्चा मंच का महत्‍व बढ़ेगा वरन् चर्चा मंच पर आने के लिए एक आकर्षण होगा।

    ReplyDelete
  5. सर्व प्रथम आपको और *चर्चा-मंच* को धन्यवाद कि इस नाचीज़ की ग़ज़ल को आपने चर्चा में स्थान दिया अभी तक अन्य 3-4 लिन्कों को मैंने देखा है सभी अच्छे लगे। मैं भी रजेश उत्साही जी के इस बात से सहमत हूं कि लिन्क्स आप जितने भी जोड़ें पर उन पर *चर्चा-मंच* के कर्णाधारों का कमेन्टस हो तो मंच की उपयोगिता सार्थकता के नये आयाम तामीर करेगी।

    ReplyDelete
  6. चर्चा मंच ने ब्लॉग्गिंग जगत में कमेंट्स के कम होते हालात में चर्चा करके लोगों को तक अच्छी लिंक पहुंचाने का ये तरीका बहुत पसंद आया. साथ ही आज मरे एक कविता को यहाँ तक लाने और याद करने का वन्दना जी और शास्त्री जी का आभार.कविता पर कुछ ज्य़ादा अच्छी से टिप्पणी करी होती तो बेहतर होता. खैर

    --
    सादर,

    माणिक;संस्कृतिकर्मी
    17,शिवलोक कालोनी,संगम मार्ग, चितौडगढ़ (राजस्थान)-312001
    Cell:-09460711896,http://apnimaati.com
    My Audio Work link http://soundcloud.com/manikji

    ReplyDelete
  7. bahut mehnat ki hai .aaj aaram kijiyega .sabhi links achchhe hai .

    ReplyDelete
  8. लोगो ने पसंद किया ..भूंजा ...एक खाद्य पदार्थ है ...जिसमे सिर्फ कार्बोह्य्द्रेट होता है ....वसा /प्रोटीन /नमी ...कुछ नहीं रहते ...वंदना जी का आभार ..आज के रिश्ते सिर्फ दिखावे

    ReplyDelete
  9. बढ़िया links लगाई है आपने

    ReplyDelete
  10. वंदना जी बहुत सुन्दर चर्चा , साफ़ स्वच्छ .. और लिंक बहुत अच्छे. .. धन्यवाद इस संदर परिचर्चा के लिए ..

    ReplyDelete
  11. वंदना जी और चर्चामंच दोनों का शुक्रिया , साथ साथ दिए गए कमेंट्स से विनोद का पुट आ गया है , ये मेरा पहला ब्लॉग(कविताओं का) है , जब भी मैं कोई रचना पोस्ट करती हूँ , पलट कर चिट्ठा-जगत पर ताजा रचनाएं पढने के लिए जाती हूँ तो देखती हूँ कि १७ या २१ लोग इसे पढ़ रहे हैं मगर टिप्पणी एक भी नहीं आती , थोड़ा हतोत्साहित होती हूँ कि शायद अच्छा नहीं लिखा , पर जब चर्चामंच या कोई अन्य अपने ब्लॉग पर एड करता है तो कोई कान में फुसफुसाता है कि तुम इतना बुरा भी नहीं लिखतीं ...वैसे टिप्पणी के लिए या कीर्ति के लिए लिखना तो दिशा भ्रमित करने जैसा है ...हम तो लिखते हैं कि कुछ कदम चल पायें , वर्ना रुक गए थे जिन्दगी की रफ़्तार देखते हुए ...

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी और सार्थक चर्चा ..काफी लिंक्स पर घूम आई हूँ :)

    ReplyDelete
  13. ब्लॉग जगत में अभी नया आया हूँ.. पहले बार चर्चा मंच पर.. यह अंदाज पसंद आया.. एक ब्लॉग पर इतने बढ़िया लिंक.. इस कांसेप्ट ने मन मोह लिया और बंदना जी की प्रस्तुति ने..

    ReplyDelete
  14. :) बहुत रोचक चर्चा वंदना जी !

    ReplyDelete
  15. वंदना जी आपका बहुत बहुत शुक्रिया आपने अपने चर्चामंच में मेरी रचना को स्थान दिया जिससे मुझे बहुत ही प्यारे प्यारे कमेंट्स मिले। धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर चर्चा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  17. बहुत उम्दा लिंक्स दिये हैं आपने, वन्दना जी ! कुछ बहुत प्यारी रचनायें मिलीं पढने को। और बहुत धन्यवाद कि आपने मेरी गज़ल को अपनी चर्चा में स्थान दिया।

    चर्चामंच से जुडे सभी सुधीजनों को साधुवाद!

    ReplyDelete
  18. वंदना जी,
    बहुत अच्छी चर्चा, बहुत बढ़िया लिंक्स देने के लिए घन्यवाद. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन लिंक्स. अच्छी चर्चा लगाने के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  20. इस बार के लिंक अच्छे लगे वंदना जी ! हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छी चर्चा, बढ़िया लिंक्स --घन्यवाद.

    ReplyDelete
  22. धन्यवाद वंदना जी

    बेहतर संकलन

    ReplyDelete
  23. अरे वाह , सबसे पहले । शुक्रिया वंदना जी ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin