चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, June 30, 2011

चर्चा मंच - 561

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 

चलते हैं सीधे चर्चा की और 


सबसे पहले गद्य रचनाएं 

अब बात करते हैं पद्य रचनाओं की 

आज के लिए बस इतना ही , आपकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार रहेगा .
                   धन्यवाद 
                                             दिलबाग विर्क 

                                           * * * * *

25 comments:

  1. दो लिंक नये मिले,
    आपका आभार रहेगा,
    इतने लिंक लगाने में की गयी मेहनत सफ़ल रही है।

    ReplyDelete
  2. Dilbag ji bahut sanshipt charcha -bahut saleeke se prastut ki hai aapne .mere blog ''vichron ka chabootra ''ko charcha me sthan dene hetu shukriya .

    ReplyDelete
  3. अच्छे लिंक्स ,अच्छी चर्चा ,आभार

    ReplyDelete
  4. शालिनी जी!
    चर्चा देखने में ही संक्षिप्त है! मगर पढ़ने के लिए 27-28 लिंक हैं!
    --
    भाई विर्क जी ने बहत अच्छे लिंकों की चर्चा की है!
    आभार!

    ReplyDelete
  5. अच्छी चर्चा ,आभार!

    ReplyDelete
  6. बहुत-बहुत आभार विर्क जी ||

    ReplyDelete
  7. एक साथ एक ही जगह सब कुछ| सुंदर चर्चा| चर्चाकार को बहुत बहुत बधाई|

    ReplyDelete
  8. @ एक गीत कैसे बनता है -बता रहे हैं डॉ. नागेश पांडे .


    तो--
    तो फिर विलखो--
    करते रहो विलाप |
    बढाते रहो ताप|
    अपना भी और हमारा भी |
    आपको प्यारे हैं अपने आंसू --
    खुद को धोने का शौक --
    बोले इस उधेड़बुन में कैसे
    कर पाओगे रचनाएं धांसू ||--

    क्या-
    क्या चाहते हो ?
    ऐसे ही कोरा रह जाए यह कागज ||

    ReplyDelete
  9. dilbag ji aapka charcha ka andaz abhi tak ke prastutkartaon kee apeksha nirala hai aur sarthak charcha ke liye yah ek anokhi pahal hai.sabhi links ek din me dekhne behad kathin hain fir bhi jab inhe dekhne ki aavahayakta ho to apne pas yahan se note kar dhoondhna aasan hota hai.bahut bahut sundar charcha prastut kee hai aapne .badhai.
    shastri ji ,vah sankshipt charcha ka comment shikha ka hai mera nahi ,aap log vakai shikha shalini me bhramit ho jate hain.

    ReplyDelete
  10. अच्छी चर्चा ,आभार!

    ब्लॉगरों सावधान
    http://www.ashokbajaj.com/2011/06/blog-post_29.html#comments

    ReplyDelete
  11. दिलबाग जी, यहाँ स्थान पाकर दिल बाग बाग हो गया..अन्य बेहतर रचनाओं से भी परिचय हुआ..आभार!!

    ReplyDelete
  12. विर्क जी!

    सर्वप्रथम आपको धन्यवाद........"माटी की गन्ध से अम्बर महक उठा" को चर्चामंच में स्थान देने के लिये।

    इस बार चर्चा का कलेवर अच्छा लगा..............देखन में छोटे लगैं घाव करैं गम्भीर

    ReplyDelete
  13. दिलबाग विर्क जी ,
    स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार ...बहुत सुन्दर लिंक मिले..
    आभार आप का ..

    ReplyDelete
  14. अच्छे लिन्क दिये हैं ..... मेरे ब्लाग ’झरोखा’ को स्थान देने के लिये धन्यवाद !

    ReplyDelete
  15. अच्‍छी चर्चा के साथ बेहतरीन लिंक्‍स भी वाह ..बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  16. शानदार चर्चा के लिये बधाई और मेरा लिंक शामिल करने के लिये धन्यवाद भी.

    ReplyDelete
  17. धन्‍यवाद विर्क जी. हमें मान बख्‍शने के लिए.

    ReplyDelete
  18. सुबह से ब्लोग ही नही खुल रहे थे अब मुश्किल से खुला है…………जब तक चल रहे है तब तक कर देते है सब जगह कमेंट भी वर्ना वो भी नही हो पा रहे थे।
    अच्छे लिंक्स ,अच्छी चर्चा …………हमेशा की तरह

    ReplyDelete
  19. सुगठित चर्चा.

    ReplyDelete
  20. अच्छी चर्चा.... मेरे गद्य के ब्लॉग को पहली बार चर्चा मंच में शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin