चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, September 08, 2011

चर्चा मंच--631

आज की चर्चा में आप सबका स्वागत है
सबसे पहले देखिए नूतन जी का नया ब्लॉग
अब चलते हैं चर्चा की ओर....
गद्य रचनाएँ-
  • रजनीश जैन का मानना है कि भारत नाम की फिल्म में अजूबे होते रह्ते हैं.
  • पत्नियों के लिए एक सुझाव और पतियों को एक समझाइश दे रही हैं दिव्य जी.
  • प्रवीण पाण्डेय जी विरोध कर रहे हैं हिन्दी का मजाक उडाए जाने का और बल दे रहे है हिन्दी को सहज बनाए जाने पर.
  • अच्छा स्वास्थ्य किसे नहीं चाहिए और अच्छे स्वास्थ्य का राज बता रहे हैं शास्त्री मयंक जी.
  • खरी-खरी ब्लॉग बंगलादेश के साथ हुए समझौते को लेकर सुनाई गई है खरी-खरी.
  • किरण मिश्रा जी याद कर रही हैं नैनीताल की वादियों को जो प्रेम का सन्देश देती लगती हैं.
  • ब्लॉग वृद्धग्राम पर कोशिश है बुढापे को नजदीक से जानने की.
पद्य रचनाएँ-
  • राधाष्टमी पर देखिए डॉ. श्याम गुप्त के पद
  • ब्लॉग शब्दों का उजाला पर प्रस्तुत है तांका विधा.
  • हालात बदल रहे हैं और बदल रही है सुबह ,इस बदलती सुबह को महसूस कर रहे हैं यशवन्त माथुर.
  • जन्म-मृत्यु , प्रेम-घृणा , स्वप्न-यथार्थ, धरा-गगन सबमें अनुबन्ध देख रही हैं जेन्नी शबनम जी.
  • जोखु की बहन के माध्यम से गरीब और निस्सहाए औरत की पीडा को बयान किया है पुष्पा सुमन जी ने.
  • सूरज और दिये के प्रतीकों के माध्यम से सोच का बयान कर रहे हैं के.के.यादव जी.
और अंत में फेसबुक पर क्या चल रह है ? --- बता रहे हैं अजय कुमार झा!
आज की चर्चा में बस इतना ही
धन्यवाद!

31 comments:

  1. गद्य और पद्य की चुनी हुई लिंक्स से सजी चर्चा पढ़ने को बहुत सी लिंक्स दे गईं |अच्छी और सटीक चर्चा के लिए बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  2. भाई दिलबाग विर्क जी!
    आज की चर्चा में आपने गद्य और पद्य का बहुत अच्छा समायोजन किया है!
    आभार!

    ReplyDelete
  3. यूँ ही सहेजते रहिये ब्लॉग जगत के सुंदर लिंक्स को .....आपका आभार

    ReplyDelete
  4. माननीय दिलबाग जी, आभारी हूँ कि आपने 'उन्मना' ब्लॉग से मेरी माँ ज्ञानवती सक्सेना 'किरण' जी की रचना का चयन किया ! आप नये हैं कदाचित् इसीलिये इस तथ्य से अनभिज्ञ हैं कि 'उन्मना' में मैं अपनी स्वर्गीय माँ की रचनाओं को पाठकों के लिये उपलब्ध करा रही हूँ ! मेरी अपनी रचनाओं के ब्लॉग का नाम 'सुधीनामा' है ! आपसे विनम्र अनुरोध है कि मेरी माँ की रचनाओं के साथ उन्हीं का नाम दिया करें ! मुझे भी हार्दिक प्रसन्नता होगी ! कष्ट देने के लिये क्षमाप्रार्थी हूँ !

    ReplyDelete
  5. आभार इतने सुन्दर सूत्र पिरोने का।

    ReplyDelete
  6. अच्छी और सटीक चर्चा ||

    ReplyDelete
  7. अच्‍छे संकलन .. आभार !!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर व सटीक चर्चा।

    ReplyDelete
  10. धन्यवाद अच्छे लिंक्स के लिए....

    ReplyDelete
  11. सुन्दर लिंक्स.अच्छी चर्चा.

    ReplyDelete
  12. आदरणीय साधना वैद जी
    सादर प्रणाम
    जानकारी के अभाव में आपकी माता जी की रचना को आपकी रचना समझा गया , गलती सुधार के लिए धन्यवाद , आगे से ध्यान रखा जाएगा , वैसे यदि आप ब्लॉग पर भी इसका संकेत दें तो बेहतर होगा , हालांकि आपने माता जी का परिचय अवश्य दिया है लेकिन उससे स्पष्ट नहीं होता है कि इस ब्लॉग पर किसकी रचनाएं हैं

    ReplyDelete
  13. बहुत ही बेहतरीन और सुंदर चर्चा दिलबाग जी , मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए शुक्रिया आपका । संयोजन बहुत ही बढिया है । शुभकामनाएं चर्चा टीम को

    ReplyDelete
  14. वाह! बहुत सुन्दर प्रयास...धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. बहुत बहुत धन्यवाद दिलबाग जी मेरी कविता को यहाँ स्थान देने के लिये । सभी लिंक्स को पढ़ने का प्रयास है।

    सादर

    ReplyDelete
  16. बहुत धन्यवाद आपका दिलबाग जी मेरी रचना को यहाँ स्थान देने का! सभी लिंक्स का संयोजन बहुत अच्छा है! आभार!

    ReplyDelete
  17. धन्यवाद दिलबाग जी ...चर्चा से दिल बाग़-बाग़ हो गया....

    ReplyDelete
  18. मेरी कविता को स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार. बहुत सरे लिंक्स मिले अच्छा लगा

    ReplyDelete
  19. दिलबाग जी,
    बहुत अच्छे लिंक और विषय वस्तु पढ़ने को मिली. मुझे भी स्थान देने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  20. Dilbag ji,
    meri rachna ko yahaan shaamil kar samman diyaa, bahut bahut aabhar. kuchh links padhi, bahut achchhe achchhe links diye hain aapne. dhanyawaad.

    ReplyDelete
  21. bahut acche links...meri post ko isme shamil karne ke liye bahut bahut dhanybad....aabhar...

    ReplyDelete
  22. गद्य और पद्य की चुनी हुई लिंक्स से सजी चर्चा पढ़ने को बहुत सी लिंक्स दे गईं |अच्छी और सटीक चर्चा के लिए बधाई

    ReplyDelete
  23. माननीय श्री दिलबाग जी ! 'उन्मना' में सिर्फ और सिर्फ मेरी माताजी की रचनाएं ही मैं डालती हूँ ! समय-समय पर किसी रचना विशेष के सन्दर्भ में मैं इस बारे में लिख भी देती हूँ ! लेकिन हर बार यह संभव नहीं होता ! 'किरण' उनका उपनाम था ! उनकी हर रचना के नीचे लेखिका के नाम के स्थान पर आपको 'किरण' लिखा हुआ मिलेगा ! इस ब्लॉग का संचालन क्योंकि मैं ही करती हूँ इसलिए प्रोफाइल में मेरा नाम और परिचय ही है और सीमित तकनीकी ज्ञान के कारण मैं इसे बदल नहीं पा रही हूँ ! आपने मेरी बात को समझा और ध्यान दिया इसके लिये आपकी आभारी हूँ ! आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  24. bahut sunder aur saarthak links se sajaa charcha-manch.bahut badhaai aapko.bahut mehnat se sajaayaa hai aapne.aur bahut saare achche links se parichaya karayaa hai hum sabse.dhanyawaad.

    ReplyDelete
  25. चर्चा मंच को बहुत सुंदर तरीके से अपने सुसज्जित किया है बधाई और शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  26. चर्चा मंच को बहुत सुंदर तरीके से अपने सुसज्जित किया है बधाई और शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  27. विर्क जी आपने इतनी मेहनत से ढेरों लिंकों को संजोकर यहां प्रस्तुत किया।

    आभार।


    -harminder singh

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin