समर्थक

Thursday, September 22, 2011

"चिट्ठियों की दुनिया" (चर्चामंच - 645)

         आज की चर्चा में आप सबका स्वागत है
गत दिनों सिक्कम में भूकम्प आया . यह पहली प्राकृतिक आपदा हो ऐसा नहीं है . कहीं भूकम्प , कहीं बाढ़ , कहीं अनावृष्टि , कहीं अतिवृष्टि या ओलावृष्टि , कुछ-न-कुछ रोज़ घट रहा है .निस्संदेह यह प्रकृति से छेड़छाड़ का ही नतीजा है . हमें चेतना होगा . प्रकृति के संतुलन को कायम रखने में योगदान देना होगा . खुदा से भी दुआ करनी होगी कि कम से कम वह तो विनाशक आदमी का साथ न दे . आओ खुदा से कहें ऐ खुदा तुझे रुकना होगा
               अब चलते हैं चर्चा की ओर
गद्य रचनाएं 
  • नेट पर है एक पुस्तक की चर्चा .पढ़िए एक समीक्षा ब्लॉग कलम पर.
  • डाकिया डाक लाया ...डाक क्या होती है आने वाली पीढियां तो शायद ये पूछा करेगी...लेकिन कृष्ण कुमार यादव जी दिखा रहे हैं चिट्ठियों की दुनिया.  
  • एक चेतावनी के साथ नेट का भ्रमण करते समय सावधान रहने की बात कही गई है ब्लॉग छींटे और बौछारें पर.
  • रेस्टोरेंट में या गली-मौहल्ले के ठेले पर --कहाँ खाना पसंद करेंगे आप ? अपनी राय देने से पहले पढिए क्रति जी की पोस्ट को.
  • कामेडी कार्यक्रमों में सीमाओं को लांघा जा रहा है . अति बुरी होती है -- यह कहकर नवीन चतुर्वेदी जी चेता रहे हैं टी.वी.चैनल वालों को.
  • आदमी कितना वहशी हो गया है -- बता रही हैं पल्लवी जी.
  • थाईलैंड की महिला प्रधानमन्त्री इंगलुक शिनवात्रा के महिला तस्करी को रोकने और महिलाओं की पीड़ा को समझने की जानकारी दे रही हैं डॉ. शरद सिंह
  • ब्लोगर्स अपनी भूल कैसे सुधारें --- बता रहे हैं डॉ. अनवर जमाल जी.
  • धीरे-धीरे छूटती जा रही है पुस्तकें पढने की आदत ---- सबकी तरह यही समस्या है प्रवीन पाण्डेय जी को.
  • कहानी कीमत पढिए परिकल्पना ब्लॉगोत्सव पर .
  • प्रवासी दुनिया ब्लॉग पर है डॉ. प्रीत अरोड़ा जी कहानी एहसास.
  • अमन का पैगाम ब्लॉग पर मासूम जी बता रहे हैं कि यहाँ कौन किसका साथ दे रहा है और क्यों ? 

पद्य रचनाएं 
             अंत में काजल कुमार जी धन्यवाद दे रहे हैं हमारे नेताओं को 
                               आज की चर्चा में बस इतना ही 
                                              धन्यवाद 
                                           दिलबाग विर्क 

                      * * * * *

26 comments:

  1. अच्छी लिंक्स के साथ चर्चा |बहुत अच्छी चर्चा |
    आशा

    ReplyDelete
  2. सुंदर चर्चा...अच्छे लिंक दिये हैं आपने
    ...........धन्यवाद दिलबाग जी

    ReplyDelete
  3. दिलबाग विर्क जी आपका धन्यवाद एक सुंदर चर्चा के लिए.

    ReplyDelete
  4. Nice .

    Thanks .


    ख़ुशनसीब है वो जो तन्हा है

    कि महफूज़ है मुकम्मल वो

    सरे ज़माना आशिक़ मिलते कहां हैं ?

    हॉर्मोन में उबाल प्यार तो नहीं

    पानी बहा देना प्यार तो नहीं

    क़तरा जहां से भी टपके

    आख़िर भिगोता क्यों है

    ये इश्क़ मुआ जगाता क्यों है ?

    ये पंक्तियां डा. मृदुला हर्षवर्धन जी के इस सवाल के जवाब में

    अब सो जाऊँ या जागती रहूँ ?

    ReplyDelete
  5. बहुत ही करीने से सजाया है आपने आज का चर्चा मंच आदरणीय विर्क जी!
    आभार!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा ||

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत धन्यवाद विर्क जी आपने 'उन्मना' से मेरी माँ की रचना का चयन किया और आभारी हूँ कि आपने उन्हींके नाम के साथ उसे दिया ! आज की सभी लिंक्स बहुत अच्छी हैं ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स दिये हैं आपने ... आभार ।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चर्चा
    बढ़िया लिंक्स...

    ReplyDelete
  10. अच्छे लिंक्स से सजी सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  11. दिलबाग विर्क जी,
    सदा की तरह सुंदर चर्चा..रोचक लिंक्स ...

    मेरे लेख ‘इंगलुक शिनवात्रा और महिला तस्करी की चुनौती ’को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार.

    ReplyDelete



  12. वाह जी ! हमारी पोस्ट की भी चर्चा है … !



    आदरणीय दिलबाग विर्क जी
    सस्नेहाभिवादन !
    शुक्रिया !
    बहुत अच्छे लिंक संकलित किए हैं आपने … आभार !

    यथासंभव सभी जगह पहुंचने का प्रयास रहेगा ।
    चर्चा मंच के सभी मित्रों-पाठकों को शस्वरं पर आने का स्नेहिल आमंत्रण है …


    ♥ हार्दिक शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !♥
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  13. मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार....

    ReplyDelete
  14. me charcha manch ko nirantar padhti hu.aaj subah bhi saari gadhya rachnaaein padhkar wapas chali gai .padhya rachnae padhne ka samay nahi mila us samay.jab aapne soochna di ki meri rachna hai to main achambhit hui ki main to aaj charcha manch dekha tha...ye islie bata rahi hu ki yaha itni acchi links milti hai ki apni bhi charch hai iska djyan nahi rahta kabhi kabhi.aaj ki links bhi bahut acchi hai.2 kahaniya padhya rachnaon me abhi 1,2 hi padh paai hu aur dono acchi hain...aabhar

    ReplyDelete
  15. आज की चर्चा अच्छी रही ...

    ReplyDelete
  16. आभार मेरा ब्लॉग शामिल करने के लिए..

    ReplyDelete
  17. भाई दिलबाग विर्क जी आपका बहुत -बहुत आभार |सुन्दर लिंक्स दिए हैं आपने बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. भाई दिलबाग विर्क जी आपका बहुत -बहुत आभार |सुन्दर लिंक्स दिए हैं आपने बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छा मंच सजाया है .....आभार

    ReplyDelete
  20. बड़े ही सुन्दर सूत्र पिरोकर लाये हैं।

    ReplyDelete
  21. दिलबाग जी.....
    पहले आप को धन्यवाद मुझे शामिल करने के लिए.....
    फिर एक बार और धन्यवाद कि इतनी अच्छी रचनाओं
    का एकसाथ दरवाज़ा दिखा दिया उनके मालिकों के साथ...!
    धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  22. सुन्दर लिंक लिए बढ़िया चर्चा...
    सादर आभार...

    ReplyDelete
  23. bhaut hi khubsurat links ka sankaln kiya hai aapne... bhaut bhaut dhanyewaad aapne meri rachna ko charchamanch par sthan diya aapne.....

    ReplyDelete
  24. बढ़िया चर्चा. अमन का पैग़ाम के लेख़ का ज़िक्र करने के लिए धन्यवाद्

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin