चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, September 15, 2011

जय हिंदी , जय हिन्दुस्तान {चर्चा मंच - 638}

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 

हिंदी दिवस के दिन चर्चा तैयार कर रहा हूँ , अत: सबको हिंदी दिवस की बधाई देता हूँ . हिंदी दिवस पर ढेरों पोस्ट मिली , उनमें से कुछ चुन कर लाया हूँ . कुछ अन्य विषय भी हैं लेकिन मुख्यत: हिंदी पर विभिन्न दृष्टिकोण हैं . इन्हें पढिए , किसी निष्कर्ष पर पहुंचिए और हिंदी और राष्ट्र हित के लिए कदम उठाइए --- जय हिंदी , जय हिन्दुस्तान .

अब चलते हैं चर्चा की ओर

 गद्य रचनाएं
            
 पद्य रचनाएं 


                  अंत में एक पेनल्टी स्ट्रोक  
                                         आज की चर्चा बस इतना ही
                                                             धन्यवाद 
                                                      दिलबाग विर्क  

27 comments:

  1. हिन्दी दिवस पर हार्दिक शुभकामनाए. आभार मेरी रचना आज शामिल करने के लिए |
    आशा

    ReplyDelete
  2. हिंदी की जय बोल |
    मन की गांठे खोल ||

    विश्व-हाट में शीघ्र-
    बाजे बम-बम ढोल |

    सरस-सरलतम-मधुरिम
    जैसे चाहे तोल |

    जो भी सीखे हिंदी-
    घूमे वो भू-गोल |

    उन्नति गर चाहे बन्दा-
    ले जाये बिन मोल ||

    हिंदी की जय बोल |
    हिंदी की जय बोल

    ReplyDelete
  3. हिन्दी के सुन्दर सूत्र।

    ReplyDelete
  4. हिन्दी ब्लॉगरों द्वारा लिखी गई हिन्दी दिवस की प्रविष्टियों का सुन्दर संकलन प्रस्तुत किया है आपने!
    --
    हिन्दी दिवस का बहत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  5. कल ब्लॉग-परिवार में ब्लॉगर्स द्वारा हिन्दी-दिवस और हिंदी पर पोस्ट की संख्या और उत्साह देख कर बहुत प्रसन्नता हुई.वास्तव में हिंदी ब्लॉगिंग हिंदी के उत्थान ,प्रचार,प्रसार के लिये बहुत ही सशक्त माध्यम है.आज की सभी लिंक्स श्रेष्ठ हैं.पहली बार मेरी रचना शमिल करने के लिये आभार.

    ReplyDelete
  6. हिन्दी ब्लॉगरों द्वारा लिखी गई हिन्दी दिवस की प्रविष्टियों का सुन्दर संकलन प्रस्तुत किया है आपने!
    --
    हिन्दी दिवस का बहत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  7. हिंदी हैं हम वतन है हिन्दोंस्ताँ हमारा .....हिंदी से हैं गहरा नाता हमारा .....!

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्‍छी चर्चा के साथ बेहतरीन लिंक्‍स भी ..आभार ।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया संकलन | बहुत सारी रचनाएँ लिखी गयी हिंदी पर | आशा है हमारा ये उत्साह और हिंदी के प्रति हमारे ये भाव सदैव बना रहे | मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete
  10. संतुलित एवं सुन्दर चर्चा है आज की दिलबाग जी ! मेरी रचना को आपने इसमें स्थान दिया इसके लिये आभारी हूँ ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  11. हिन्दीमय चर्चा हिन्दी में हिन्दी पर हिन्दी के लिए बहुत अच्छी लगी ... ठीक हिन्दी की तरह।

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया हिन्दीमयी चर्चा.आभार.

    ReplyDelete
  13. शब्द निधि को हिंदी के मंच पर प्रस्तुत करने का शुक्रिया .

    ReplyDelete
  14. बहुत बहुत धन्यवाद आपका की आपने मेरी पोस्ट को आज के चर्चा-मंच में शामिल किया /बस मेरा सरनेम अर्गल है कुछ अलग सा है इसलिए गलती से लोग अग्रवाल लिख देतें हैं /कोई बात नहीं आगे आप याद रखिये /बहुत अच्छा चर्चा मंच सजाया आपने /बहुत सारे अच्छे अच्छे लिनक्स से परिचय कराया आपने /बहुत बधाई आपको /

    ReplyDelete
  15. शानदार चर्चा के लिये बधाई. लिंक शामिल करने के लिये आभार भी.

    ReplyDelete
  16. हिंदी पर विशेष .......अच्छी लगी आज की चर्चा

    ReplyDelete
  17. धन्यवाद दिलबाग जी..दिल बाग बाग हो गया।

    ReplyDelete
  18. हिन्दी के मंच , चर्चा मंच पर हिन्दी दिवस की प्रविष्टियों का सुन्दर संकलन देख पर मन में हिन्दी के प्रति नये उत्साह का संचार हुआ । संकलन के सभी लेख उत्तम है । आज आवश्यकता है हिन्दी को उसका वह स्थान दिलाने की , जिसकी वह अधिकारिणी है । हमें एकजुट होकर हिन्दी को शिक्षा , न्याय , तकनीक , चिकित्सा और विज्ञान की भाषा बनाये जाने का अभियान छेड़ना होगा । तभी हिन्दी को उसका अधिकार मिलेगा और वह सही अर्थो में राष्ट्रभाषा बनेगी ।
    आभार मेरी रचना शामिल करने के लिए ।

    ReplyDelete
  19. हिन्दी के मंच , चर्चा मंच पर हिन्दी दिवस की प्रविष्टियों का सुन्दर संकलन देख पर मन में हिन्दी के प्रति नये उत्साह का संचार हुआ । संकलन के सभी लेख उत्तम है । आज आवश्यकता है हिन्दी को उसका वह स्थान दिलाने की , जिसकी वह अधिकारिणी है । हमें एकजुट होकर हिन्दी को शिक्षा , न्याय , तकनीक , चिकित्सा और विज्ञान की भाषा बनाये जाने का अभियान छेड़ना होगा । तभी हिन्दी को उसका अधिकार मिलेगा और वह सही अर्थो में राष्ट्रभाषा बनेगी ।
    आभार मेरी रचना शामिल करने के लिए ।

    ReplyDelete
  20. सुन्दर सार्थक चर्चा...आभार।

    ReplyDelete
  21. एक अति महत्वपूर्ण प्रश्न यह भी तो है कि
    कैसे बनाया जाए हिंदी को जनभाषा ?
    अब देखते हैं कि आप में से जवाब कौन देगा ?

    ReplyDelete
  22. हिन्दी दिवस पर चर्चा मंच के सुंदर और सार्थक प्रस्तुतिकरण के लिए आपको हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं . आभार.

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर जनाब!!
    मजा आ गया..
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin