चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Saturday, June 14, 2014

"इंतज़ार का ज़ायका" (चर्चा मंच-1643)

मित्रों।
शनिवार के चर्चा मंच में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के अद्यतन लिंक।
--

पितृ - दिवस 


पिता-दिवस में पिता नहीं है

हमारी उर की व्यथा यही है
कहाँ पर होंगे पता नहीं है
बरगद की छाया सी स्नेह
सदा बरसता उनका नेह... 
My Photo
--

इंतज़ार का ज़ायका 

सु..मन(Suman Kapoor) 
--
अच्छे दिन अपने शायद आने लगे हैं , 
बच्चे वॉट्स एप पर बतियाने लगे हैं...

अंतर्मंथन पर डॉ टी एस दराल

--

मुंबई के गुलमोहर 

मेरे घर से स्कूल के रास्ते में 
खिले कुछ गुलमोहर..
Chaitanyaa Sharma
--

Start Your Own You Tube Channel 

Aamir Dubai 
--

जैसा बोओ वैसा काटो 

जो हलाहल बोता है वह अमृत न पीता है। 
बात और है वो हलाहल अमृत हमकोि दिखता है। 
किसे पता है किसके अन्तस् कितनी पीड़ायेँ सोयी हैँ? ...
ममता त्रिपाठी
--

अंतिम पुकार 

जिन्दगी ज़ी रहीं हूँ, कैसे जिया है " अब तक " | 
लफ्जों ने बेवफाई ना की है 
पर क्या कहूँ, तेरे बिन अब तक ?? ... 
--

poit पर Point
--
--

ग़ज़ल - 

यूँ ही सा देखने में है... 

--

मुरझाई नींदों का सबब .... 

पहले खुद हर रोज नींदों की तह बनाकर 
सिरहाने रख लेती हूं, 
फिर खाली आंखों से नींद तलाशती हूँ...
Pratibha Katiyar 
--

चन्द माहिया 

ये हुस्न का जादू है 
सर तो सजदे में 
दिल पे कब क़ाबू है 
आँखों में उतरना है 
दिल ने टोक दिया 
कुछ और सँवरना है ...
आपका ब्लॉग पर आनन्द पाठक
--

तुम्हारा स्वागत है …… 

अन्तिम भाग 

vandana gupta
--

लोककथा 

बालकुंज पर सुधाकल्प
--

कथा- गाथा : 

गायब होता देश : 

रणेन्द्र

समालोचन पर arun dev
--

पूरा दिन ये बस आपके नाम 


आपकी समझाइशों का सच
थाम के उँगली
मेरे साथ चलता है
परखने की आदत
मुझे मिली है आपसे
विरासत में
पितृ दिवस के दिन
कुछ स्‍मृतियाँ
मेरे इर्द-गिर्द
अपना घेरा बना के
आपके साथ हैं
और साथ रहेंगी भी...
--
--

गौण ही है 

पर यही है बताने के लिये 

आज भी 

उसकी शोध छात्रा ने 
शिकायत की है छेड़ छाड़ की 
अच्छे दिन लाने वाले लोगों को वैसे भी 
देश देखना है 
ये बातें तो छोटे लोग करते हैं 
तेरे जैसे कोई हल्ला गुल्ला 
जब नहीं है कहीं कोई एफ आई आर 
नहीं है कोई कहीं कोई सबूत ...
उलूक टाइम्स पर सुशील कुमार जोशी
--

आँधी 

Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar
--
--

बीत जाना होता है हमें !! 

कितना कठिन होता है
समय का बीत जाना,
और उससे कठिन होता है 
उस समय से गुजर जाना...
अन्तर्गगन पर धीरेन्द्र अस्थाना
--

कार्टून :- 

नाई नाई कि‍तने बाल,  

सामने आए ही समझो 

--
जब सूरज आग उगलता है,
लू ने जब तन को झुलसाया।
सड़क किनारे खड़े तपस्वी,
देते फूलों की छाया।
अमलतास के पीले झूमर,
मन को बहुत लुभाते हैं।
पीताम्बर को धारण कर,
जीवन दर्शन सिखलाते हैं...

15 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा लिंक्स |

    ReplyDelete
  2. बढ़िया लिंक्स मिले ...चैतन्य को शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  3. चर्चा सुंदर ही होती है हमेशा ही आज भी है । 'उलूक' के सूत्र 'गौण ही है पर यही है बताने के लिये
    आज भी' को स्थान मिला । आभार ।

    ReplyDelete
  4. सुंदर लिंक्स

    ReplyDelete
  5. AAPKE PRYAS SAMAAJ KO NAYE AAYAAM STHAPIT KARNE MAIN AWSHY SAHAYAK SIDDH HONGE !! SUNDAR RACHNAON MAIN MERI PRASTUTI KO STHAN DENE HETU DHANYWAAD OR AABHAAR !!

    ReplyDelete
  6. आपका यह प्रयास बेहद सराहनीय है, रचनाओ का चयन और प्रस्तुति अनुपम .....
    आभार

    ReplyDelete
  7. मेरी वेदना की एहसास ,लेकर आई कुछ खास .आपकी इन बेहतरीन चर्चाओं में मैं भी हूँ शुमार ,आदरणीय सर आपको खूब आभार

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ....आभार!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चर्चा, मेरे संस्मरण "लेह - लद्दाख" शामिल करने के लिए आभार.

    सादर

    कमल कुमार सिंह

    ReplyDelete
  10. धन्यवाद ! मयंक जी ! मेरी ग़ज़ल ''यूँ ही सा देखने में है... '' को स्थान प्रदान करने का..........

    ReplyDelete
  11. बढ़िया लिंक्स .........बहुत बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छे लिंक्स कुछ तक हम पहुँचते है |

    ReplyDelete
  13. सुन्दर लिंक्स के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin