Followers

Thursday, June 12, 2014

मानसून का इन्तजार { चर्चा - 1641 }

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
चिलचिलाती धूप और लू का कहर हाल बेहाल किये हुए है | हमें तो इस मौसम में बिना बिजली के रहने की आदत कई वर्षों से हो चुकी हैं लेकिन इस बार दिल्ली के चर्चे खबरों में हैं | पता नहीं वास्तव में दिक्कत है या राजनीति | वैसे राजनीति में बदले की बात नई नहीं और हम तो भुक्तभोगी हैं क्योंकि हरियाणा के भूतपूर्व मुख्यमंत्री का गाँव पड़ोसी गाँव है | वैसे उनके शासनकाल में भी फायदा उनके उस विधानसभा क्षेत्र को हुआ था यहाँ से वो चुनाव लड़ते हैं , यानि फायदा तो हुआ नहीं, नुक्सान हो गया | क्या किया जा सकता है, भारत की राजनीति तो कमाल की है | बस मानसून का इन्तजार है क्योंकि भगवान सिर्फ वृन्दावन, अयोध्या या किसी अन्य एक हल्के को ही अपना नहीं मानता  |
चलते हैं चर्चा की ओर 
My Photo
मेरा फोटो
My Photo
मेरा फोटो
आभार 

18 comments:

  1. वाकइ में अब तो मानसून का सबको बेसब्री से इन्तजार है।
    --
    उपयोगी लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा।
    --
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।
    --
    रविकर जी सोमवार को मेरे निवास पर खटीमा पधार रहे हैं।
    --
    अब तो अवकाश चल रहा है आप भी आइए न विर्क जी।

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात
    समयानुकूल रचनाओं के लिंक्स |
    सटीक चर्चा |
    मेरी रचना शामिल करने के लिये धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  3. शुक्रिया और आभार

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर लिंक्स! उपयोगी चर्चा! पुस्तक समीक्षा को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर सूत्र संयोजन सुंदर चर्चा दिलबाग ।

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत शुक्रिया दिलबाग जी मेरी पोस्ट यहाँ तक पहुँचाने के लिए।
    बहुत सुन्दर लिंक्स!

    ReplyDelete
  7. बहुत- बहुत शुक्रिया दिलबाग जी मेरी रचना को इस गुलदस्ते में टांकने के लिए.बहुत सुन्दर चर्चा सुन्दर सूत्र संयोजन ...बधाई आपको

    ReplyDelete
  8. मेरी पोस्ट यहाँ तक पहुँचाने के लिए बहुत- बहुत शुक्रिया दिलबाग जी
    बहुत सुन्दर लिंक्स!

    ReplyDelete
  9. सुंदर सूत्रों के साथ बेहतरीन प्रस्तुति , आ. शास्त्री जी , विर्क साहब व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ब्लॉग ( हिंदी में प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete

  10. बहुत सुन्दर लिंक्स,आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  11. kuchh links padhe aur bahut achhe lage .. bahut diversity hai aapke collection mein

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुंदर सूत्रों का संकलन ! मेरी रचना को सम्मिलित किया, आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार !

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छे लिक्स कुछ तक हम पहुचें भी आभार |

    ReplyDelete
  15. ब्लॉगर आशा जोगळेकर ने कहा…
    बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,
    किस राह से बचना है, किस छत को भिगोना है।
    बहर हाल बारिश जल्दी आये और सब को राहत दे।

    सुदर चर्चा अच्छी लगी। इसलिये भी की मेरी पोस्ट को भी आपने स्थान दे दिया। आभार।

    ReplyDelete
  16. खूबसूरत चर्चा...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...