साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, June 26, 2014

खुशगवार हुआ मौसम { चर्चा - 1655 }

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
कई दिनों की जबरदस्ती गर्मी के बाद आज मौसम बड़ा सुहावना बना हुआ है | जमकर बारिश हुई है | ऐसे मौसम में वही आनन्द आ रहा है जो किसी पहाड़ी इलाके में पहुंचकर आता है | भारत का वातावरण कमाल का है | खासकर उन लोगों के लिए जो घूमने-फिरने के शौक़ीन नहीं | 
चलते हैं चर्चा की ओर 
उच्चारण
My Photo
My Photo
My Photo
honey-bee
My Photo
आभार 

9 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा और पठनीय सूत्र |

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर चर्चा दिलबाग ।

    ReplyDelete
  3. सुंदर चर्चा...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर चर्चा दिलबाग जी,सादर।

    ReplyDelete
  5. आदरणीय दिलबाग विर्क जी।
    आपकी चर्चा बृहस्पतिवार को अनवरतरूप से आ जाती है।
    बहुत श्रम से और समय लगा कर आप चर्चा करते हो।
    आभार व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द कम पड़ जाते हैं।
    आपको नमन करता हूँ।

    ReplyDelete
  6. बढ़िया चर्चा व सूत्र , आ. विर्क साहब , शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...