चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, June 19, 2014

चर्चा - 1648

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
चलते हैं चर्चा की ओर 
My Photo
My Photo
 आभार 

15 comments:

  1. सधे हुए हाथों से निकली एक और सुन्दर चर्चा।
    --
    रविकर जी 3 दिन से खटीमा में ही हैं।
    आज वापिस जा रहे हैं।
    --
    दिलबाग जी आपको नमस्ते कह रहे हैं।
    साथ ही आपको चर्चा मंच का एक विश्वसनीय सहयोगी भी मानते हैं।
    --
    आपकी नियमितता और आपके श्रम को नमन करते हैं हम लोग।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार शास्त्री जी और रविकर जी, जो अपनी बातचीत के दौरान मुझे याद किया

      Delete
  2. शुभ प्रभात
    सार्थक चर्चा |उम्दा कार्टून
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  3. हर सिक्के के दो पहलू हैं -
    पर-

    रखना है धीरज हमें, देना है कुछ वक्त |
    शासक सारे एक से, करें फैसले शख्त |
    करें फैसले शख्त, फैसले लोक लुभावन |
    है असमंजस आज, सामने झंझट बावन |
    रविकर यूँ मत सोच, हमें अच्छे दिन चखना |
    बड़ी चुनौती आज, एक सरकार परखना ||

    ReplyDelete
  4. आदरणीय दिलबाग जी
    सादर नमस्कार-
    बढ़िया लिंकों से सुसज्जित चर्चा -

    ReplyDelete
  5. सुंदर सूत्रों से सजी है आज की चर्चा ।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन सूत्रों से सजी सुन्दर चर्चा,मेरे आलेख को शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete
  7. शुभ प्रभात
    बेहतरीन सूत्रों से सजी सुन्दर चर्चा ....
    आभारी हूँ .... बहुत बहुत धन्यवाद आपका

    ReplyDelete
  8. खुबसूरत चर्चा धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. बढ़िया लिंक्स व प्रस्तुति , विर्क साहब , शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  10. सधी सुन्दर सटीक चर्चा ...

    ReplyDelete
  11. मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद ,बढ़िया लिंक्स व प्रस्तुति ,

    ReplyDelete
  12. सुन्दर चर्चा...

    ReplyDelete
  13. bahut hi sundar charcha ,behad shukriya meri nazam ko post karne ke liye

    ReplyDelete
  14. Meri rachana lo is sunder charcha men shamil karane ka abhar

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin