चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, June 23, 2014

"जिन्दगी तेरी फिजूलखर्ची" (चर्चा मंच 1652)

मित्रों।
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसंद के कुछ लिंक।

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
--

कोई मिलकर भी मिलता नहीं आजकल.... 

--

सपने देखने दो ... 

उन्नयन पर udaya veer singh
--

तिरंगे की शान निराली 

  
shikha kaushik
--

जो है और जो नहीं है... 

मेरे ऑफिस की खिड़की से दिखता है...
स्पंदन पर shikha varshney
--

गूगल+ प्रोफ़ाइल 

आइडी नम्बर कैसे पता लगायें? 

एसईओ और गैजेट पर Vinay Prajapati 
..पदवी-पैरवी में है रेस
लाठी वाले की है भैंस,
मूल्यों का कोई मूल्य नहीं
कुर्सी के सब ग्राहक हैं
Neeraj Kumar

--

Microsoft office 2010 full activated 

Aamir Dubai
--

उस हक़ को हक्कित की बलि ना दों 

poit पर Jaanu Barua 
--

Depression a 'powerful' risk factor 

for heart disease 

in young women 

Virendra Kumar Sharma
--

" एक कार्यकर्त्ता खुला पत्र ,  

हमारे प्रिय प्रधानमन्त्री , 

श्रीमान नरेन्द्र मोदी जी के नाम !! 

श्री मान जी, 
                 उपरोक्त विषय के सम्बन्ध में निवेदन यह है कि देश में सरकारी महकमों द्वारा उपभोक्ता को निम्न तरीकों से ठगा जा रहा है - : 
1. मनमाने बिलों में टैक्स लगाना !
2. मनमानी फीस वसूलना !
3. मनमाने नियम बनाकर चक्कर लगवाना !
           सभी विभागों के दफ्तरों में प्रार्थियों को बाबुओं और अफसरों द्वारा तंग किया जा रहा है !
              ************************
    प्राइवेट संस्थानों द्वारा निम्न तरीकों से उपभोक्ता
    को लूटा जा रहा है -:
4. झूठे प्रचार द्वारा !
5. हर स्तर पर मनचाहा मुनाफा लगाकर !
6. वस्तु का वज़न कम करके !
7.  वस्तू की क्वालिटी गिराकर !
           मान्यवर ! इशारा मैंने कर दिया है !बाकि आप समझदार हैं ! जान जाएंगे कि कौन से क्षेत्र में कैसे उपभोक्ता को लूटा जा रहा है !! उसके " मौलिक अधिकार " तलक खतरे में हैं पिछली सरकार की मेहर बानी से !विस्तार से इसलिए नहीं लिखा क्योंकि आपके पास समय की कमी होगी !
           श्री मान जी , मैं तुरन्त एक्शन चाहता हूँ , क्योंकि 65 वर्षों बाद मेरी सरकार बनी है !
           सधन्यवाद !!!
                              प्रार्थी एक कनिष्ठ कार्यकर्त्ता,
                                  पीताम्बर दत्त शर्मा ,
                                  १/१२०,आवासन मंडल 
                                 कालोनी, सूरतगढ़ !जिला 
                                 श्री गंगानगर(राजस्थान)
                                   मो. न. 9414657511 
PITAMBER DUTT SHARMA 
--
--
--

वजूद 

गुज़ारिश पर सरिता भाटिया
--
--
--
--

कब तक! 

Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar 
--

लम्हा लम्हा जिंदगी का कतरा कतरा जाता है 

मन का पंछी पर शिवनाथ कुमार 
--

कैंची और सुई

Mera avyakta पर राम किशोर उपाध्याय
--

मन कहे तो गुनगुनाइए 

राग और छंद बिगड़ते हैं तो बिगड़े 

दिल की बात लब पे लाइए।
बात आपकी सुने या अनसुना करे जहाँ 
प्यार दे दुलार दे या छोड़ दे जहाँ तहाँ 
खुद ही देखिए भला क्या मान अपमान है 
फिक्र नहीं कीजिए क्या सोचता जहान है 
कभी अपने से मुस्कुराइए ...
सत्यार्थमित्र पर सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी 
--

कार्टून :- ओ मॉं, तू मेरा नाम बदल दे 

--

"मानसून का मौसम आया" 


बादल आये जोर-शोर से।
बारिश बरसी खूब जोर से।।

आँधी आयी, बिजली चमकी।
पहली बारिश है मौसम की।।

11 comments:

  1. बहुत सुंदर सोमवारीय चर्चा सुंदर सूत्रों के साथ ।

    ReplyDelete
  2. मजेदार कार्टून |उम्दा लिंक्स

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर सूत्र संकलन ! सार्थक चर्चामंच !

    ReplyDelete
  4. रियली बहुत ही दिलचस्प विषय हैं आज। खास कर काफी दिनों बाद आज चर्चा मंच से ही विनय भाई के ब्लॉग पर जाना हुआ।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति के लिए बहुत आभार!
    सादर

    ReplyDelete
  6. खूबसुरत चर्चा प्रस्तुतीकरण

    ReplyDelete
  7. बढ़िया प्रस्तुति व पठनीय लिंक्स , आ. शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  8. हमेशा की तरह सुन्दर चर्चा.

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद ! मयंक जी ! मेरी रचना ''अपने हुनर-ओ-फ़न का... '' शामिल करने हेतु............

    ReplyDelete
  10. kyaa baat hai !! cartoon bhi badhiya hain or rachnayen bhi !! thanks !!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin