चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, April 09, 2015

चर्चा - 1942

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
राजनीति से नसीब का जुमला उछला था । नसीब का असर कितना होता है पता नहीं लेकिन इन दिनों बेमौसमी बरसात ने किसानों की दशा खराब की हुई है । काश ! कोई नसीब वाला किसानों को बचा ले ।  
  चलते हैं चर्चा की ओर 
Supreme Court, juvenile law
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
मेरा फोटो
Presentation1 GREEN TEA
धन्यवाद 

14 comments:

  1. दिलबाग जी,
    बहुत सारे अच्छे लिंक्स मिले।
    आभारी हूँ।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर और अद्यतन लिंक मिले आज की चर्चा में।
    आपका बहुत-बहुत आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. आज के चर्चा मंच पर
    सार्थक और सटीक लिंक्स |

    ReplyDelete
  4. सार्थक सूत्रों से सुसज्जित आज का चर्चामंच ! मेरी रचना 'गवाही' को इसमें सम्मिलित करने हेतु आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आभार !

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह सुंदर गुरुवारीय चर्चा । आभार दिलबाग 'उलूक' के सूत्र 'सारे जोर लगायेंगे तो मरे हाथी को खड़ा कर ले जायेंग़े' को स्थान देने के लिये ।

    ReplyDelete
  6. खूब सारे अच्‍छे लिंक्‍स.....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार और धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  7. काफी सुंदर लींक्स, सुंदर चर्चा

    ReplyDelete
  8. बहुत सारे अच्छे लिंक्स...हमारी रचना को मान देने के लिय आभार दिल से |

    ReplyDelete
  9. चर्चा में शामिल किये जाने का बहुत आभार!

    ReplyDelete
  10. Dilbag ji , charcha main shamil karne ka bahut bauht aabhaar

    ReplyDelete
  11. खूब सारे अच्‍छे लिंक्‍स.....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार और धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  12. सभी लिंक अपने -अपने स्थान पर काफी खूबसूरत हैं। और सबसे बड़ी बात है आपकी चर्चा के द्वारा पढ़ने को मिलते हैं। काफी सुंदर चर्चा सजाने का धन्यवाद।
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए सादर आभार।

    ReplyDelete
  13. लगभग सभी चयनित ब्लॉग देखे हैं . पढ़े है , टिप्पणियाँ भी की हैं . आम तौर पर देखा गया है कि ध्यान सिर्फ अपनी रचना के चयन पर होता है .
    मेरी रचना के चयन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete
  14. सभी लिंक्‍स श्रेष्ठ है .....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार , नमन

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin